scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पंजाब के गवर्नर बोले- लाल चंद कटारूचक पर गंभीर आरोप, बर्खास्त करे सरकार; बेहद संगीन है मामला

भगवंत मान के नेतृत्व वाली आप सरकार इस मुद्दे को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही है और विपक्षी दल मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
June 01, 2023 20:36 IST
पंजाब के गवर्नर बोले  लाल चंद कटारूचक पर गंभीर आरोप  बर्खास्त करे सरकार  बेहद संगीन है मामला
पंजाब के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित (फोटो : एएनआई)
Advertisement

पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने गुरुवार (31 मई) को मुख्यमंत्री भगवंत मान से पंजाब सरकार के मंत्री लाल चंद कटारूचक के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। दरअसल मंत्री लाल चंद कटारूचक यौन दुराचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं। राज्यपाल ने मंत्री पर जघन्य अपराध करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें मंत्रिमंडल में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

NCSC ने जारी किया था नोटिस 

इससे पहले राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (NCSC) ने गुरदासपुर के एक पुरुष पीड़िता द्वारा कटारुचक के खिलाफ दर्ज कराए गए "यौन दुराचार" की शिकायत के बाद पंजाब सरकार को नोटिस जारी किया था। इसके बाद पंजाब पुलिस इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है।

Advertisement

राज्यपाल ने कहा 'इसे नहीं भुलाया जा सकता' 

पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने कहा मीडिया वार्ता को संबोधित करते हुए कहा, "यह मत भूलना, यह जघन्य अपराध है, जो मंत्री ने  किया है। उन्हें कैबिनेट में रहने का अधिकार नहीं है"। उन्होंने कहा, "मैं मीडिया के माध्यम से फिर से मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाना चाहता हूं कि इस मंत्री के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाए"।

भगवंत मान के नेतृत्व वाली आप सरकार इस मुद्दे को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही है और विपक्षी दल मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

पीड़ित की शिकायत पर संज्ञान लेने के बाद एनसीएससी ने पिछले महीने पंजाब सरकार को नोटिस जारी कर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को मामले की जांच करने और कार्रवाई रिपोर्ट पेश करने को कहा था।

Advertisement

क्या था पूरा मामला

एनएससीएन ने पीड़ित की शिकायत का हवाला देते हुए कहा था कि मंत्री ने कथित तौर पर 2013-14 में फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर पीड़ित से संपर्क किया था और जब उसने इसे स्वीकार कर लिया तो कटारुचक ने कथित तौर बात को आगे बढ़ाया था।

Advertisement

बयान में कहा गया है, "वह एक प्रभावशाली व्यक्ति थे, उन्होंने मुझे एक सरकारी नौकरी देने का वादा किया था जिसके कारण मैं चुप रहा। मैं उस समय कुछ भी समझने के लिए बहुत छोटा था। उन्होने मेरा यौन उत्पीड़न किया जो  2021 तक जारी रहा।  हालांकि, वह मुझसे आखिरी बार 2021 में दीवाली पर मिले थे और उन्होंने न तो मुझे नौकरी दी और न ही उसके बाद मुझसे मिले।

कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने फोरेंसिक जांच के लिए राज्यपाल को इस मामले से जुड़ी वीडियो क्लिप सौंपी थी। हालांकि उन्होंने मंत्री का नाम नहीं लिया था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो