scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पक्षियों को दाना डालकर पुण्य कमाना चाहता था शख्स, हेल्थ डिपार्टमेंट ने लगाया दिया जुर्माना, ये है वजह

Man fined for feeding pigeons: पुणे से पहले ठाणे और पनवेल नगर निगम भी कबूतरों को दाना डालने वालों के खिलाफ फाइन लगाने संबंधित मिलते जुलते फैसले ले चुके हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: March 16, 2023 14:50 IST
पक्षियों को दाना डालकर पुण्य कमाना चाहता था शख्स  हेल्थ डिपार्टमेंट ने लगाया दिया जुर्माना  ये है वजह
Pigeon Feeding: कबूतरों को डालता था दाने, लगा 500 रुपये जुर्माना (Image- Indian Express)
Advertisement

भारतीय शास्त्रों के अनुसार, पक्षियों को दाना डालने से पुण्य की प्राप्ति होती है। कहा जाता है कि पक्षियों को दाना डालने और पानी पिलाने से जीवन में आने वाली परेशानियां दूर होती हैं, कुंडली में अशुभ प्रभाव दूर होते हैं और घर में सुख-शांति आने लगती है। लेकिन पुणे में एक व्यक्ति को पक्षियों को दाना खिलाना भारी पड़ गया है।

पुणे नगर निगम के हेल्थ डिपार्टमेंट ने एक व्यक्ति पर पक्षियों को दाना डालने के आरोप में 500 रुपये का फाइन लगा दिया है। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के अनुसार, पुणे नगर निगम के हेल्थ डिपार्टमेंट ने कबूतरों के लिए फुटपाथ, चौराहों और नदियों के किनारे जैसे सार्वजनिक स्थानों पर दाना डालने वाले लोगों पर फाइन लगाना शुरू कर दिया है।

Advertisement

रिपोर्ट में कहा गया है कि पुणे नगर निगम शहर में कबूतरों की आबादी में देखी गई असामान्य वृद्धि को कंट्रोल करना चाहता है। नगर निगम इनसे होने वाले स्वास्थ्य संबंधी खतरों, विशेष रूप से श्वसन संबंधी बीमारियों (respiratory illnesses) को फैलाने की जांच करना चाहता है।

गुरुवार सुबह लाया सोसायटी के व्यक्ति पर फाइन

पुणे नगर निगम ने गुरुवार सुबह कल्याणी नगर की मैरीगोल्ड सोसायटी में रहने वाले एक व्यक्ति पर उस समय 500 रुपये का जुर्माना लगाया जब वह कबूतरों को दाना डालने के लिए सेंट्रल एवेन्यू स्थित स्पॉट पर पहुंचा।

हेल्थ डिपार्टमेंट में डिविजनल सेनट्री इंस्पेक्टर मुकंद घाम ने बताया कि अभी के लिए हमने सिर्फ एक व्यक्ति पर 500 रुपये फाइन लगाया है। करीब 10 लोगों को काउंसलिंग के बाद और विषय की गंभीरता समझाने के लिए जुर्माने की रसीद दिखाने के बाद वापस भेज दिया गया।

Advertisement

फाइन की स्लिप

उन्होंने बताया कि जनता को कबूतरों को पब्लिक स्पॉट पर दाना डालने की आदत हो गई है। इससे रोकने पर लोग अधिकारियों से बहस करते हैं लेकिन हम उन्हें इससे होने वाली हेल्थ संबंधी समस्याओं के बारे में बताकर उन्हें समझाने की कोशिश करते हैं।

पुणे नगर निगम में असिसटेंट मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर कल्पना बालीवंत ने कहा कि कबूतरों की आबादी में एक "अप्राकृतिक वृद्धि" देखी गई है और पक्षियों की बीट से बीमारियां फैल सकती हैं। उन्होंने कहा कि कबूतरों की आबादी में तर्कहीन वृद्धि जनता के लिए परेशानी की वजह बन रही है। उन्होंने बताया कि विशेषकर बुजुर्गों और सांस की बीमारियों से पीड़ित लोगों के समस्या होती है। कबूतरों का मल एलर्जी का स्रोत है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो