scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बृजभूषण पर आरोप तय होने को साक्षी-बजरंग ने बताया सच की जीत, कहा- महिला पहलवानों को ट्रोल करने वालों को शर्म आना चाहिए

बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट और साक्षी मलिक रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण सिंह के खिलाफ जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे थे।
Written by: खेल डेस्‍क
नई दिल्ली | Updated: May 10, 2024 21:03 IST
बृजभूषण पर आरोप तय होने को साक्षी बजरंग ने बताया सच की जीत  कहा  महिला पहलवानों को ट्रोल करने वालों को शर्म आना चाहिए
साक्षी मलिक और बजरंग पूनिया। फोटो सोर्स- ANI
Advertisement

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण सिंह पर शुक्रवार को राउस अवेन्यू कोर्ट ने आरोप तय कर दिए। कैसरगंज के सांसद पर अब ट्रायल होगा। कोर्ट के फैसले बाद धरने पर बैठने वाले ओलंपिक मेडलिस्ट बजरंग पूनिया और साक्षी मलिक ने रिएक्शन दिया है।

बजरंग पूनिया ने कदम को बताया बड़ी जीत

बजरंग पूनिया ने एक्स पर लिखा, 'बृजभूषण पर आरोप तय हो गये हैं। माननीय कोर्ट का धन्यवाद। महिला पहलवानों के संघर्ष की बहुत बड़ी जीत है। देश की बेटियों को इतने कठिन समय से गुजरना पड़ा है, पर यह फ़ैसला राहत देगा। जिन लोगों ने महिला पहलवानों को ट्रोल किया था उनको भी शर्म आनी चाहिए। सत्यमेव जयते'

Advertisement

साक्षी मलिक ने कहा- ट्रोलिंग करने वालों को आनी चाहिए शर्म

2016 की ओलंपिक मेडलिस्ट ने कहा, 'माननीय न्यायालय ने बृजभूषण सिंह के खिलाफ आरोप तय किए हैं। हम माननीय अदालत का धन्यवाद करते हैं। हमें कई रात गर्मी बारिश में सड़क पर सोना पड़ा, अपना अच्छा खासा करियर त्यागना पड़ा, तब जाके आज न्याय की लड़ाई में कुछ कदम आगे बढ़ पाएं हैं। जिन लोगों ने प्यार और आशीर्वाद दिया उनका दिल से आभार और जिन्होंने ट्रॉलिंग और घटिया बातें की, भगवान उनका भी भला करे। भारत माता की जय।'

https://twitter.com/SakshiMalik/status/1788925145261940929

विनेश फोगाट ने धरने पर बैठने वाली महिला पहलवानों की ओर से साझा बयान जारी किया। उन्होंने बयान में कहा, 'हमें बेहद खुशी है कि मुख्य आरोपी बृज भूषण शरण सिंह द्वारा कई तरीकों से आरोप तय के फैसले में देरी हो, के बावजूद, बृज भूषण शरण सिंह और फेडरेशन के सचिव विनोद तोमर के खिलाफ आईपीसी की धारा 506 IPC के तहत भी आरोप तय हुए हैं l यह महिला पहलवानों के खिलाफ यौन अपराधों के मुख्य अपराधी के ख़िलाफ़ चल रहे हमारे 18 महीने के आंदोलन में एक बड़ा मील का पत्थर है, जो जनवरी 2023 से सड़कों, कमेटियों, जंतर मंतर पर और अब अदालत में जारी है।'

उन्होंने आगे कहा, 'हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है और हम निष्पक्ष सुनवाई और न्याय की आशा करते हैं। हम वरिष्ठ अधिवक्ता रेबेका जॉन और अधिवक्ता हर्ष बोरा, चिन्मय कनौजिया, प्रविता कश्यप, भावुक चौहान, प्रवीर सिंह, नीलांजन डे, तुषार यादव और अनुष्का बरुआ के नेतृत्व वाली अपनी कानूनी टीम के बेहद आभारी हैं। हम उन सभी महिलाओं का भी धन्यवाद करती हैं जो हमारे साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी रहीं. हम सभी आंदोलित महिला पहलवान।'

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो