scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

इंडिया गठबंधन सत्ता में आया तो ED-CBI पर लगेगा ताला? अखिलेश का प्रस्ताव काफी कुछ बता रहा

अखिलेश यादव ने कहा कि अगर सरकार बनानी या गिरानी है, तो CBI-ED इस्तेमाल सरकार बनाने या तोड़ने के लिए किया जाता है।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: May 19, 2024 09:00 IST
इंडिया गठबंधन सत्ता में आया तो ed cbi पर लगेगा ताला  अखिलेश का प्रस्ताव काफी कुछ बता रहा
अखिलेश यादव ने ED-CBI को लेकर बड़ा बयान दिया है। (Express Photo)
Advertisement

Neerja Chowdhury

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बड़ा बयान दिया है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) और सीबीआई (CBI) जैसे विभागों की जरूरत नहीं है और उन्हें बंद कर दिया जाना चाहिए। अखिलेश यादव ने कहा कि वह इंडिया गठबंधन के अन्य दलों को भी यही प्रस्ताव देंगे।

Advertisement

सीबीआई और ईडी बंद होनी चाहिए- अखिलेश

अखिलेश यादव ने कहा, "सीबीआई और ईडी बंद होनी चाहिए। अगर आपने धोखा दिया है, तो इससे निपटने के लिए आयकर विभाग है। आपको सीबीआई की आवश्यकता क्यों है? हर राज्य में एक भ्रष्टाचार निरोधक विभाग है, जरूरत पड़ने पर इसका इस्तेमाल करें। एजेंसियों का इस्तेमाल केवल भाजपा के राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ किया जा रहा है।"

अखिलेश यादव ने दावा करते हुए कहा, "अगर सरकार बनानी है, या गिरानी है, तो इनका इस्तेमाल सरकार बनाने या तोड़ने के लिए किया जाता है। लोगों ने अपने काले धन को सफेद कैसे किया? लेकिन क्या कोई भारतीय सरकार सत्ता में आने पर इतना दूरगामी कदम उठाने के लिए तैयार होगी? यह मेरा प्रस्ताव है और मैं इसे भारतीय गठबंधन के सामने रखूंगा।"

गठबंधन जारी रहेगा- अखिलेश

अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद भी दोनों पार्टियों (कांग्रेस-सपा) के बीच गठबंधन जारी रहेगा, नतीजे चाहे जो भी हों। उन्होंने कहा, "गठबंधन चलेगा, चलाएंगे। जो भी चुनाव परिणाम आएगा, यह रहेगा। लेकिन फिलहाल हमारा प्रयास (केंद्र) सरकार बनाने का है।"

Advertisement

कांग्रेस के प्रदर्शन को लेकर अखिलेश यादव ने कहा, "हां, बेशक हर चुनाव एक नई स्थिति पैदा करता है, लेकिन हमारा प्रयास होगा कि गठबंधन बना रहे। राष्ट्रीय स्तर पर भी इंडिया गठबंधन जारी रहेगा।

अमेठी और रायबरेली की रैलियां कम से कम गठबंधन में अखिलेश के विश्वास की पुष्टि करती नजर आईं। जैसे ही उन्होंने और राहुल ने बैठकें कीं, प्रभावशाली भीड़ ने हर पंच लाइन के बाद तालियां बजाईं, गर्जना की और हाथ हिलाया। ज़मीनी स्तर पर भी दोनों दलों के कार्यकर्ताओं के बीच पहले के चुनावों की तुलना में बेहतर संबंध दिखाई दे रहे हैं।

दोनों दलों के पदाधिकारियों ने बैठक में एक साथ पहुंचने के लिए अखिलेश और राहुल के हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग को भी सिंक्रोनाइज़ किया। अखिलेश ने कहा, "सपा का वोट बैंक (यादव) प्रत्येक क्षेत्र में 3.5 लाख की संख्या में हैं और उनकी मदद के बिना कांग्रेस के लिए मुश्किल हो सकती थी। रायबरेली सीट के अंतर्गत आने वाले पांच विधानसभा क्षेत्रों में से चार पर 2019 में सपा ने जीत हासिल की थी। हालांकि उनमें से एक मनोज पांडे अब सपा से बागी हैं।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 टी20 tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो