scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Kathua  Encounter: एक गाइड और दो आतंकी... मददगार के न आने पर रास्ता भटके दहशतगर्द

Kathua Encounter: पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभी भी उन्हें दो और लोगों की तलाश है। इनमें से एक के घर में आतंकवादी रात में रुके थे और दूसरा जो उन्हें उधमपुर के पहाड़ों पर लेकर जाने वाला था, जहां से वो डोडा जिले में या फिर कश्मीर घाटी में प्रवेश कर सकते थे।
Written by: arun sharma | Edited By: Yashveer Singh
जम्मू | June 21, 2024 19:06 IST
kathua  encounter  एक गाइड और दो आतंकी    मददगार के न आने पर रास्ता भटके दहशतगर्द
कुछ दिनों पहले जम्मू के कठुआ में दो आतंकवादी मारे गए थे (PTI)
Advertisement

Jammu Kashmir Encounter: पिछले दिनों सुरक्षा बलों ने जम्मू संभाग के कठुआ में दो आतंकवादियों को मार गिराया था। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इन आतंकियों को कथित तौर पर गाइड करने वाले दो लोगों को डिटेन किया है। डिटेन किए गए लोगों पर आरोप है कि उन्होंने दोनों आतंकवादियों को कठुआ जिले की हीरानगर तहसील के शेरपुर गांव में रहने वाले एक व्यक्ति (आतंकवादियों का कथित सहयोगी) के घर पहुंचने में मदद की थी।

Advertisement

शेरपुर गांव में रहने वाले इस व्यक्ति के घर रहने के बाद आतंकवादी सैदा गांव पहुंचे। सूत्रों ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि इन दोनों आतंकियों को इसलिए पकड़ा जा सका क्योंकि एक गाइड जो इनकी मदद करने के लिए आने वाला था, वह नहीं आया और उसके न होने पर ये दोनों रास्ता भटक गए। सैदा गांव में 11 और 12 जून को एनकाउंटर के दौरान सुरक्षा बलों ने इन दोनों को मार गिराया, यहां सीआरपीएफ का एक जवान भी शहीद हुआ।

Advertisement

डिटेन किए गए बाथल चक गांव के व्यक्ति ने पूछताछ में सुरक्षाबलों से दावा किया कि संयोगवश उनकी मुलाकात आतंकवादियों से हुई थी और पूछने पर उन्होंने आतंकवादियों के सहयोगी के घर का रास्ता बताया। हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस और सुरक्षाबल डिटेन किए गए दोनों व्यक्तियों के बयानों के वर्जन से संतुष्ट नहीं हैं। पुलिस की संतुष्ट न होने की वजह एक ये भी है कि इन दोनों लोगों ने आतंकवादियों के मारे जाने के बाद भी प्रशासन को घटनाक्रम के बारे में जानकारी नहीं दी।

पुलिस की तलाश अभी भी जारी

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभी भी उन्हें दो और लोगों की तलाश है। इनमें से एक के घर में आतंकवादी रात में रुके थे और दूसरा जो उन्हें उधमपुर के पहाड़ों पर लेकर जाने वाला था, जहां से वो डोडा जिले में या फिर कश्मीर घाटी में प्रवेश कर सकते थे।

सूत्रों का कहना है कि इंटरनेशल बॉर्डर क्रास कर हीरानगर सेक्टर में एंट्री करने के बाद डिटेन किए गए दोनों लोग उसे शेरपुर गांव में आतंकवादी के सहयोगी के घर लेकर गए। वहां वो दोनों रातभर रुके और फिर अगली सुबह वहां उन्हें एक गाइड से मिलना था, जो वहां नहीं आया। इसके बाद वो दोनों ही खुद उधमपुर जिले के जंगलों की तरफ आगे बढ़ गए।

Advertisement

सूत्रों ने बताया कि गाइड की गैर मौजूदगी में वो रास्ता भटक गए और सैदा गांव पहुंच गए, जहां उन्होंने पानी के लिए गांव वालों के दरवाजे खटखटाए। इन्हें देखने के बाद गांव वालों ने शोर मचा दिया और तुरंत सुरक्षाबलों को जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस और सुरक्षाबलों ने उन्हें घेर लिया। एनकाउंटर में दोनों आतंकवादी मारे गए।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो