scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha chunav 2024: जान‍िए क्‍यों करीब आधे सांसद लगातार दो बार नहीं देख पाते लोकसभा का मुंह

13वीं लोकसभा यानी 1999 से 2004 के बीच पहली बार संसद पहुंचने वाले नेताओं का आंकड़ा सबसे कम 35% रहा था।
Written by: Pawan Upreti
नई दिल्ली | Updated: April 10, 2024 13:16 IST
lok sabha chunav 2024  जान‍िए क्‍यों करीब आधे सांसद लगातार दो बार नहीं देख पाते लोकसभा का मुंह
Lok Sabha chunav 2024: बाएं से गौतम गंभीर, प्रज्ञा ठाकुर और नुसरत जहां। (PC- Express)
Advertisement

देश की आजादी के बाद हुए पहले लोकसभा चुनाव (1952) के बाद से ही हर लोकसभा चुनाव में संसद पहुंचने वाले नेताओं में से औसतन आधे से ज्यादा सांसद ऐसे रहे हैं, जो पहली बार लोकसभा का चुनाव जीते थे। अब तक की सभी लोकसभाओं को मिलाकर यह आंकड़ा औसतन 54.5% रहा है।

इमरजेंसी के बाद साल 1977 में जब छठी लोकसभा के लिए चुनाव हुए थे, तो पहली बार संसद पहुंचने वालों का आंकड़ा 68% तक पहुंच गया था। पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च ने यह जानकारी सामने रखी है।

Advertisement

रिसर्च से यह भी पता चला है कि 13वीं लोकसभा यानी 1999 से 2004 के बीच पहली बार संसद पहुंचने वाले नेताओं का आंकड़ा सबसे कम 35% रहा था, जबकि 17वीं लोकसभा के लिए यह आंकड़ा 49% है। 1999 को छोड़ कभी ऐसा नहीं हुआ क‍ि पहली बार सांसद बनने वाले नेताओं का आंकड़ा 40 फीसदी से कम रहा हो। 1952 के बाद से अब तक 5,126 सांसद ऐसे रहे हैं जिन्हें सिर्फ एक बार लोकसभा पहुंचने का मौका मिला है और यह अब तक चुने गए कुल 9445 सांसदों का 58 प्रतिशत है।

क्या है इसकी वजह?

सवाल यह है कि हर लोकसभा चुनाव में संसद पहुंचने वाले नेताओं में से लगभग औसतन आधे सांसद नए क्यों होते हैं? इसके कई कारण होते हैं। ज‍िताऊ उम्‍मीदवारों पर फोकस, राजनीत‍िक सौदेबाजी के तहत दलबदलुओं को ट‍िकट देने की मजबूरी, सांसद के पार्टी नेतृत्‍व से समीकरण, उनका राजनीत‍िक प्रदर्शन और ताकत आद‍ि।

बीजेपी के 303 लोकसभा सांसदों में से लगभग 100 सांसद 2024 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। इनमें मोदी सरकार के 11 मंत्री भी शामिल हैं।

Advertisement

केंद्रीय मंत्री का नामलोकसभा सीट का नाम
वीके सिंहगाजियाबाद
मीनाक्षी लेखीनई दिल्ली
अश्विनी चौबेबक्सर
दर्शना जरदोशसूरत
प्रतिमा भौमिकत्रिपुरा पश्चिम
राजकुमार रंजन सिंहइनर मणिपुर
जॉन बारलाअलीपुरद्वार
एम. मुंजापारासुरेंद्रनगर
बिश्वेश्वर टुडूमयूरभंज
रेमेश्वर तेलीडिब्रूगढ़
ए. नारायणस्वामीचित्रदुर्ग

बीजेपी ने इस लोकसभा चुनाव में ऐसे 10 केंद्रीय मंत्रियों को भी मैदान में उतारा है, जिन्होंने या तो अप्रैल के पहले सप्ताह में अपना राज्यसभा सांसद का कार्यकाल पूरा कर लिया है या अभी भी वे सांसद हैं।

Advertisement

सांसद का नामलोकसभा सीट
पीयूष गोयलमुंबई उत्तर
ज्योतिरादित्य सिंधियागुना
धर्मेंद्र प्रधानसंबलपुर
वी मुरलीधरनअट्टिंगल
भूपेन्द्र यादवअलवर
परषोत्तम रूपालाराजकोट
मनसुख मंडावियापोरबंदर
सर्बानंद सोनोवालडिब्रूगढ़
एल मुरुगननीलगिरी
राजीव चन्द्रशेखरतिरुवनंतपुरम

इसी तरह कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में बस्तर लोकसभा सीट से प्रदेश अध्यक्ष दीपक बैज का टिकट काट दिया है। गोवा से मौजूदा कांग्रेस सांसद फ्रांसिस्को सरदिन्हा को भी लोकसभा चुनाव लड़ने का मौका नहीं मिला है।

फोटो पर क्लिक कर पढ़ें- गाजियाबाद और मेरठ सीट पर क्या कहते हैं मतदाता। 

Lok Sabha election 2024 Meerut Lok Sabha election 2024 Ghaziabad
Lok Sabha election 2024 Ghaziabad:
6 अप्रैल, 2024 को गाजियाबाद में रोड शो के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे का मुखौटा पहनकर प्रचार करता बीजेपी समर्थक। (PC-REUTERS/Anushree Fadnavis)

इस लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने कई बड़े चेहरों को भी पहली बार अपने टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ने का मौका दिया है। इनमें विधायक और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन की बहू सीता सोरेन, कुरुक्षेत्र से कांग्रेस के पूर्व सांसद नवीन जिंदल आदि शामिल हैं।

चुनाव में उतारे जाते हैं हाई प्रोफाइल चेहरे

कई बार राजनीतिक दल गैर राजनीत‍िक हाई प्रोफाइल चेहरों को भी चुनाव मैदान में उतारने की रणनीति अपनाते हैं और इस वजह से कई मौजूदा सांसदों का ट‍िकट कट जाता है। जैसे मेरठ संसदीय क्षेत्र से बीजेपी ने इस बार तीन बार के सांसद राजेंद्र अग्रवाल का टिकट काटकर रामायण धारावाहिक में राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल को उम्मीदवार बनाया है।

इसी तरह साल 2019 में बीजेपी ने क्रिकेटर से राजनेता बने गौतम गंभीर को पूर्वी दिल्ली की सीट से चुनाव मैदान में उतारा था और यहां के तत्कालीन सांसद महेश गिरी का टिकट काट दिया था। दिल्ली की एक और सीट उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी ने तत्कालीन सांसद उदित राज का टिकट काटकर जाने-माने पंजाबी गायक हंसराज हंस को चुनाव मैदान में उतारा था। गौतम गंभीर और हंसराज हंस चुनाव जीतने में कामयाब रहे थे।

लोकसभा चुनाव 2024 में बीजेपी के ल‍िए उत्तर प्रदेश सबसे जरूरी क्‍यों है। इस बारे में विस्तार से जानने के लिए फोटो पर क्लिक करें। 

लोकसभा चुनाव 2024: गाजियाबाद में रोड शो के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (PTI Photo/Atul Yadav)

मौजूदा लोकसभा के चर्च‍ित चेहरे जो पहली बार बने सांसद

2019 के लोकसभा चुनाव में कई ऐसे बड़े चेहरे थे जो पहली बार संसद पहुंचे थे। इसमें गौतम गंभीर, प्रज्ञा ठाकुर के अलावा बसीरहाट से नुसरत जहां का नाम शामिल है। लेकिन ये सभी चेहरे दूसरी बार लोकसभा पहुंचने में नाकाम रहे। बीजेपी ने गौतम गंभीर की जगह हर्ष मल्होत्रा को टिकट दिया है।

इसी तरह साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बीजेपी ने पिछली बार भोपाल से उम्मीदवार बनाया था जहां से उन्होंने कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को शिकस्त दी थी। इस बार पार्टी ने उनकी जगह आलोक शर्मा को टिकट दिया है। टीएमसी ने मौजूदा सांसद नुसरत जहां की जगह पूर्व सांसद हाजी नुरुल इस्लाम को चुनाव मैदान में उतारा है।

टीएमसी ने इस बार हाई प्रोफाइल चेहरों में पूर्व क्रिकेटर युसूफ पठान को बहरामपुर, शत्रुघ्न सिन्हा को आसनसोल सीट से टिकट दिया है।

चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटों का आंकड़ा हासिल करने के लिए राजनीतिक दल ज‍िताऊ उम्‍मीदवारों पर फोकस करते हैं। इसके तहत पार्टियां दलबदलुओं यानी दूसरे दलों से आने वाले नेताओं को टिकट देने से भी परहेज नहीं करते। जैसे तेलंगाना में नगरकुर्नूल के सांसद पोथुगंती रामुलु जैसे ही अपने बेटे भरत प्रसाद के साथ बीजेपी में शामिल हुए, पार्टी ने प्रसाद को नगरकुर्नूल से ही लोकसभा का टिकट दे दिया जबकि तेलंगाना में ही जहीराबाद के सांसद बीबी पाटिल को पार्टी में शामिल होते ही उम्मीदवार बना दिया गया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो