scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

गुर्जर ही नहीं राजपूत भी बढ़ाएंगे अशोक गहलोत की मुश्किलें! 'प्रताप फाउंडेशन' ने दी चेतावनी, जानिए पूरा मामला

गहलोत शेखावत पर संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी घोटाले में कथित तौर पर उनकी मिलीभगत को लेकर लगातार हमले किये हैं।
Written by: दीप मुखर्जी | Edited By: संजय दुबे
Updated: June 07, 2023 17:18 IST
गुर्जर ही नहीं राजपूत भी बढ़ाएंगे अशोक गहलोत की मुश्किलें   प्रताप फाउंडेशन  ने दी चेतावनी  जानिए पूरा मामला
राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत। (PTI/File Photo)
Advertisement

राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तनातनी अब भी जारी है। सचिन पायलट गुर्जर समुदाय से जुड़े हुए हैं। माना जा रहा है कि इस बार राजस्थान का गुर्जर समुदाय पूरी तरह से सचिन पायलट के पक्ष में लामबंद हैं। इस बीच राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के लिए एक और बुरी आई है। राजस्थान के एक राजपूत संगठन ने अशोक गहलोत को चेतावनी दी है।

दरअसल ये पूरा मामला सीएम अशोक गहलोत और केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के बीच चल रहे 'संजीवनी' मामले से जुड़ा है। गजेंद्र सिंह शेखावत राजपूत समुदाय से आते हैं। इसी समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रताप फाउंडेशन ने सोमवार को एक बयान जारी कर गहलोत पर आरोप लगाया कि वे "बढ़ते राजपूत नेता" को निशाना बना रहे हैं।

Advertisement

गहलोत ने शेखावत पर संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी घोटाले में कथित तौर पर उनकी मिलीभगत को लेकर लगातार हमले किये हैं। केंद्रीय मंत्री शेखावत इन आरोपों से इनकार करते हुए गहलोत के बयान को राजनीतिक बदले की भावना का नतीजा बताया। क्योंकि उन्होंने मुख्यमंत्री के बेटे वैभव गहलोत को 2019 के लोकसभा चुनाव में जोधपुर से हरा दिया था।

मुख्यमंत्री ने कहा- 'गुरु' मजबूरी की वजह से 'चेला' पर कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं

2 जून को एक समारोह में गहलोत ने यह कहते हुए अपना हमला जारी रखा: “मैंने भगवान सिंह रोलसाहबसर को फोन किया जो शेखावत के गुरु और क्षत्रिय युवक संघ के प्रमुख हैं। मैंने उस नेक आदमी को बुलाया और कहा 'भगवान सिंह जी, आपका यह चेला उसके कारण लोग डूब रहे हैं, कृपया लोगों को उनके पैसे वापस दिलाने में मदद करें।' कुछ मजबूरियां हो सकती हैं, जिसकी वजह से वह कुछ भी मदद नहीं कर पा रहे हैं।"

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि लोगों को उन पैसों के बारे में बोलना चाहिए जो डूब गये हैं। उन्होंने पूछा कि इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) जांच क्यों नहीं कर रहा है।

Advertisement

राजस्थान में शीर्ष राजपूत संगठन क्षत्रिय युवक संघ से जुड़ा प्रताप फाउंडेशन ने 5 जून को गहलोत को तीन पन्नों का एक पत्र भेजा। इसमें रोलसाहबसर का उल्लेख करने वाली उनकी कुछ हालिया टिप्पणियों के लिए सीएम की आलोचना की गई थी। करणी सेना जैसे अन्य राजपूत संगठनों के विपरीत, पूर्व सांसद तान सिंह द्वारा स्थापित क्षत्रिय युवक संघ का कहना है कि वह खुद को राजनीति में शामिल नहीं करता है।

फाउंडेशन ने पत्र में लिखा- सीएम को ऐसे आरोप शोभा नहीं देते हैं

वरिष्ठ प्रताप फाउंडेशन के सदस्य महावीर सिंह सरवादी के गहलोत को लिखे पत्र में कहा गया है: “आप राज्य के मुख्यमंत्री हैं। श्री भगवान सिंह साहब का नाम लेकर इस तरह के निराधार बयान देना आपकी ओर से गरिमापूर्ण व्यवहार नहीं है। कृपया इसका ध्यान रखें। माननीय भगवान सिंह जी राजनीति के अखाड़े में किसी निजी स्वार्थ के भागीदार नहीं हो सकते।

संजीवनी मामले में शेखावत का समर्थन करते हुए पत्र में दावा किया गया है, “संजीवनी जैसे कई मामले राज्य में होते हैं. उसके बावजूद एक नेता संजीवनी का मामला उछालकर दूसरे नेता के खिलाफ अपशब्द बोल रहा है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो