scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Monsoon Care: खौ-खौ करते हुए दम फूल रहा है, बदन की जकड़न से बुरा हाल है, Seasonal Fever के हो सकते हैं लक्षण तुरंत करें बचाव

मायोक्लीनिक के मुताबिक मौसमी बुखार होने पर आप पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें। लिक्विड फूड्स का सेवन करने से स्किन से निकलने वाली गर्मी में सुधार होता है और बॉडी में होने वाली डिहाइड्रेशन की भी भरपाई होती है।
Written by: Shahina Noor
नई दिल्ली | Updated: June 27, 2024 16:53 IST
monsoon care  खौ खौ करते हुए दम फूल रहा है  बदन की जकड़न से बुरा हाल है  seasonal fever के हो सकते हैं लक्षण तुरंत करें बचाव
मौसमी इन्फ्लूएंजा के लक्षण अचानक बुखार आना, सूखी खांसी होना, तेज सिरदर्द और आंखों में दर्द होना है।
Advertisement

तपती गर्मी से राहत दिलाने वाले बरसात के मौसम ने दस्तक दे दी है। मौसम के बदलते मिजाज़ का असर लोगों की सेहत पर सीधा दिखता है। किसी को खांसी परेशान करती है तो कोई बुखार,बदन दर्द और सिर दर्द से परेशान रहता है। बॉडी में दिखने वाले ये सभी लक्षण कुछ और नहीं है बल्कि सीजनल इन्फ्लूएंजा के हैं। WHO के मुताबिक मौसमी इन्फ्लूएंजा एक तीव्र श्वसन संक्रमण है जो इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण फैलता है। हालांकि ज्यादातर लोग एक हफ्ते के अंदर खुद ही ठीक हो जाते हैं।

Advertisement

कुछ परिस्थितियों में स्थिति गंभीर भी हो सकती है और मरीज को अस्पताल जाने तक की नौबत आ सकती है। इन्फ्लूएंजा गंभीर बीमारी या मौत का कारण बन सकता है खासतौर पर बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं, स्वास्थ्य कार्यकर्ता और गंभीर चिकित्सा स्थिति वाले लोगों के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है। मौसमी बुखार सर्दी के दिनों में ज्यादा परेशान करता है, लेकिन बरसात के मौसम में ये इन्फ्लूएंजा लोगों को अपनी गिरफ्त में तेजी से ले सकता है। आइए जानते हैं कि मौसम इंफ्लूएंजा के लक्षण कौन-कौन से हैं और उससे कैसे बचाव किया जा सकता है।

Advertisement

मौसमी इन्फ्लूएंजा के लक्षण

  • अचानक बुखार आना
  • सूखी खांसी होना
  • तेज सिरदर्द और आंखों में दर्द होना
  • मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना
  • अनहेल्दी महसूस करना
  • गला खराब होना और नाक का बहना शामिल है।

मौसमी इन्फ्लूएंजा से बचाव कैसे करें

  • मायोक्लीनिक के मुताबिक इस बीमारी की गिरफ्त से बाहर आना है तो आप पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें। लिक्विड फूड्स का सेवन करने से स्किन से निकलने वाली गर्मी में सुधार होता है और बॉडी में होने वाली डिहाइड्रेशन की भी भरपाई होती है।
  • बच्चा अगर 6 महीने से छोटा है तो आप उसे मां का दूध पिलाएं। मां का दूध बच्चे की दवा है।
  • बॉडी को रिकवर करने के लिए आराम बेहद जरूरी है। काम से कुछ दिनों दूर रहें और बॉडी को रिकवर करें।
  • ठंड नहीं लग रही तो आप हल्के कपड़े पहने।
  • रूम का तापमान ठंडा रखें।
  • सर्दी लगने पर कॉटन की चादर या हल्के कंबल में सोएं।
  • गले की खराश दूर करने के लिए गुनगुने पानी में नमक डालकर उससे गरारा करें।

डाइट में करें इन खास चीजों को शामिल

  • मौसमी बुखार है तो ऐसी चीजों का सेवन करें जिनसे इम्युनिटी स्ट्रांग रहे। बुखार में खाने पीने का मन नहीं करता तो आप हेल्दी डाइट लें। डाइट में अदरक की चाय, ग्रीन टी,
  • शहद और नींबू की चाय का सेवन करें।
  • अगर आप नॉनवेट खा लेते हैं तो चिकन सूप का खासतौर पर सेवन करें। इसे पचाना आसान हो सकता है। प्रोटीन और जिंक से भरपूर ये सूप डिहाइड्रेशन को कंट्रोल करेगा, बॉडी को एनर्जी देगा।
  • विटामिन ए से भरपूर गाजर के सूप का सेवन करें।
  • घरेलू नुस्खे भी असरदार साबित होते हैं। अजवाइन की चाय का सेवन करें।

विटामिन डी से भरपूर फूड्स भी करेंगे असर

  • जल्दी रिकवर होना चाहते हैं तो आप अपनी डाइट में विटामिन डी से भरपूर फूड्स का सेवन करें। विटामिन डी से भरपूर कुछ फूड्स जैसे कॉड लिवर तेल,
  • कुछ खास किस्म की मछलियां जैसे ट्राउट और सैल्मन का सेवन करें। डेयरी मिल्क, बादाम और सोया दूध का सेवन करें। ये डाइट बॉडी में होने वाली कमजोरी और बदन दर्द से राहत दिलाएगी।
Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो