scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Heat Stroke VS Food Poisoning: कैसे पता करें कि आपको फूड पॉइजनिंग हुई है या हीट स्ट्रोक? इन लक्षणों को ना करें नजरअंदाज

यहां हम आपको हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग के अलग-अलग लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी समय रहते पहचान कर सही इलाज के साथ आप स्थिति को अधिक गंभीर होने से रोक सकते हैं।
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | Updated: June 24, 2024 15:17 IST
heat stroke vs food poisoning  कैसे पता करें कि आपको फूड पॉइजनिंग हुई है या हीट स्ट्रोक  इन लक्षणों को ना करें नजरअंदाज
खासकर गर्मी के मौसम में हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। (P.C- Freepik)
Advertisement

भीषण गर्मी का मौसम अपने चरम पर है। ऐसे में लोगों को तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, इनमें हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग का खतरा सबसे आम है। तापमान के बढ़ते ही अधिकतर लोगों को ये समस्याएं घेर लेती हैं। वहीं, परेशानी की बात यह है कि ज्यादातर लोग हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग के बीच अंतर को नहीं पहचान पाते हैं, जिससे समय के साथ ये समस्या अधिक बढ़ती चली जाती है। इसी कड़ी में यहां हम आपको हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग के अलग-अलग लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी समय रहते पहचान कर सही इलाज के साथ आप स्थिति को अधिक गंभीर होने से रोक सकते हैं।

Advertisement

कैसे पहचानें अंतर?

मामले को लेकर इंडियन एक्सप्रेस संग हुई एक खास बातचीत के दौरान सीके बिड़ला अस्पताल, दिल्ली में इंटरनल मेडिसिन के डायरेक्टर डॉ. राजीव गुप्ता ने बताया, हीट स्ट्रोक और फूड पॉइजनिंग, ये दोनों ही स्थिति सेहत के लिए बेहद गंभीर हो सकती हैं। खासकर गर्मी के मौसम में इनके मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। आप कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देकर दोनों के बीत अंतर को पहचान सकते हैं। जैसे-

Advertisement

हीट स्ट्रोक की चपेट में आने पर सबसे पहले व्यक्ति के शरीर का तापमान बढ़ (103°F/39.4°C से ऊपर) जाता है। इसके अलावा भ्रम, उत्तेजना की स्थिति पैदा होने लगती है। यहां तक कि व्यक्ति को बोलने या चीजों को समझने में भी परेशानी होने लगती है, त्वचा अधिक गर्म और शुष्क महसूस होती है, दिल की धड़कन बढ़ने लगती हैं, बेहोशी की स्थिति पैदा हो सकती है, शरीर में कंपन बढ़ जाती है, साथ ही आप खुद को बेहद कमजोर महसूस करने लगते हैं।

वहीं, बात फूड पॉइजनिंग की करें, तो इस स्थिति में बार-बार उल्टी-मतली और दस्त की समस्या व्यक्ति को परेशान करती है। इसके अलावा पेट में तेज दर्द, ऐंठन, जी मचलना जैसी परेशानियां भी घेर लेती हैं।

Advertisement

डॉ. गुप्ता के अनुसार, इन दोनों ही स्थितियों में डिहाइड्रेशन होना सबसे आम है लेकिन अगर आपके शरीर का तापमान बहुत अधिक बढ़ गया है और बावजूद इसके आपको पसीना नहीं आ रहा है, तो ये निश्चित तौर पर हीट स्ट्रोक की पहचान है। फूड पॉइजनिंग होने पर इस तरह के लक्षण नजर नहीं आते हैं। कभी-कभी बुखार हो सकता है लेकिन आपके शरीर का तापमान उतना अधिक नहीं होता है।

Advertisement

किन लोगों को है अधिक खतरा?

इस सवाल को लेकर डॉ. गुप्ता बताते हैं, शिशुओं, छोटे बच्चों, बुजुर्गों, हृदय संबंधी बीमारियों, पुरानी श्वसन समस्याओं, लिवर या गुर्दे की बीमारी वाले व्यक्तियों को गर्मी से होने वाली बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। इतना ही नहीं, गंभीर मामलों में ये जानलेवा भी साबित हो सकता है। ऐसे में अपनी सेहत पर ध्यान देना बेहद जरूरी हो जाता है। गर्मी में खासकर दोपहर के समय बाहर जाने से बचें, साथ ही कोशिश करें कि इस दौरान आप केवल घर पर बना हेल्दी खाना ही खाएं।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो