scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'सपा सरकार के काम इतिहास में काले कारनामे के रूप में दर्ज हैं', मायावती ने अखिलेश के परिवार का जिक्र कर कह दी बड़ी बात

मायावती ने कहा कि सपा का चाल, चरित्र व चेहरा, हमेशा की तरह आज भी, जबरदस्त दलित, अति-पिछड़ा व संविधान में इनको दिए गए आरक्षण आदि के अधिकारों की विरोधी पार्टी का है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: May 08, 2024 23:29 IST
 सपा सरकार के काम इतिहास में काले कारनामे के रूप में दर्ज हैं   मायावती ने अखिलेश के परिवार का जिक्र कर कह दी बड़ी बात
मायावती ने अखिलेश यादव पर हमला बोला है (X/Mayawati)
Advertisement

बसपा अध्यक्ष मायावती ने समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव को नसीहत दी है। मायावती ने कहा है कि बीएसपी में क्या चल रहा है, अखिलेश इसकी चिंता न करें तो बेहतर होगा। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव अपने परिवार व यादव समाज के प्रत्याशियों की हालत की चिंता करें क्योंकि उन सब का हाल बेहाल है।

मायावती ने X पर पोस्ट कर कहा,  "बीएसपी संगठन में क्या कुछ चल रहा है इस पर घोर दलित-विरोधी सपा अगर कोई टिप्पणी व चिन्ता नहीं करे तो बेहतर। इसके बदले सपा नेतृत्व को चुनाव में उतारे गए उनके अपने परिवार व उनके यादव समाज के प्रत्याशियों का क्या हाल है इसकी केवल चिन्ता करें क्योंकि उन सब का हाल बेहाल है।"

Advertisement

'सपा दलित विरोधी'

उन्होंने अगले पोस्ट में कहा, "सपा का चाल, चरित्र व चेहरा, हमेशा की तरह आज भी, जबरदस्त दलित, अति-पिछड़ा व संविधान में इनको दिए गए आरक्षण आदि के अधिकारों की विरोधी पार्टी का है। प्रमोशन में आरक्षण को खत्म करना तथा इस सम्बंध में बिल को संसद में फाड़ना आदि इनके ऐसे कार्य हैं जिसे माफ करना मुश्किल।"

 इसके बाद यूपी की पूर्व सीएम ने कहा, "बीएसपी सरकार द्वारा बहुजन समाज में जन्मे महान संतों, गुरुओं व महापुरुषों के आदर-सम्मान में उनके नाम पर यूपी में बनाए गए जिलों, पार्कों, विश्वविद्यालयों आदि के नाम को जातिवादी सोच के कारण बदलना सपा सरकार के ऐसे कृत्य हैं जो इतिहास में काले कारनामे के रूप में दर्ज हैं।"

Advertisement

मायावती को अच्छी नहीं लगी अखिलेश की बात?

दरअसल मायावती द्वारा यह बयान अखिलेश यादव की उस टिप्पणी के बाद दिया गया है, जिसमें उन्होंने बीएसपी की एक भी सीट न आने का दावा किया था। अखिलेश ने बुधवार को कहा कि बसपा ने अपने संगठन में बड़े बदलाव का जो भी क़दम उठाया है वह उनकी पार्टी का आंतरिक विषय है।

Advertisement

अखिलेश यादव ने आगे कहा कि  इसके पीछे असली कारण ये है कि बसपा की एक भी सीट आती हुई नहीं दिख रही है क्योंकि बसपा के अधिकांश परंपरागत समर्थक भी इस बार संविधान और आरक्षण को बचाने के लिए ‘इंडिया’ गठबंधन को ही वोट दे रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि इस बात को बसपा अपने संगठन की विफलता के रूप में ले रही है। इसीलिए उनका शीर्ष नेतृत्व संगठन में इतना बड़ा फेर-बदल कर रहा है लेकिन अब बाज़ी बसपा के हाथ से निकल चुकी है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो