scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

फिर मांगा सबूत! CM रेवंत रेड्डी बोले- सर्जिकल स्ट्राइक हुई भी थी या नहीं

पुलवामा हमले को लेकर तेलंगाना CM रेवंत रेड्डी के बयान पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, 'सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रहे हैं लेकिन आज पीओके में भारत के झंडे लहर रहे हैं...सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाना छोड़ दें, थोड़े ही साल में पीओके भी हमारे देश में आ जाएगा।'
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: May 11, 2024 16:05 IST
फिर मांगा सबूत  cm रेवंत रेड्डी बोले  सर्जिकल स्ट्राइक हुई भी थी या नहीं
तेलंगाना के सीएम रेवंत रेड्डी। (PTI)
Advertisement

तेलंगाना के मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता रेवंत रेड्डी ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला बोलते हुए बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक पर ही सवाल उठाए हैं। उनसे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी इसको फर्जी करार दिया था। रेवंत रेड्डी ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि यह इंटेलिजेंस फेलियर की वजह से हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी ने सर्जिकल स्ट्राइक का नाम लेकर इसका राजनीतिक फायदा उठाया है।

'पुलवामा हमला इंटेलिजेंस का फेलियर था'

सीएम रेवंत रेड्डी ने कहा, "पुलवामा हमला आईबी और इंटेलिजेंस का फेलियर था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उस पर कुछ नहीं किया है। उसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक की गई। सर्जिकल स्ट्राइक का बीजेपी ने फायदा उठाया है।" उन्होंने इस पर सवाल उठाते हुए पूछा, "सर्जिकल स्ट्राइक हुई भी या नहीं हुई, हमें नहीं पता है। किसी को इस बारे में नहीं पता है।"

Advertisement

हालांकि तेलंगाना के सीएम रेवंत रेड्डी ने पीएम मोदी के लिए एक अच्छी बात कही। उन्होंने कहा, "पीएम सभी मुख्यमंत्रियों के बड़े भाई हैं। उन्हें सभी छोटे भाइयों को साथ लेकर चलना चाहिए। हर राज्य के छोटे भाई का अलग तरीका हो सकता है। रेवंत रेड्डी ने कहा कि पीएम से अच्छी चीज सीखने में कोई हर्ज नहीं है। उन्होंने कहा कि कोई उद्योग लगाना चाहता है तो उसे जबदस्ती दूसरे राज्यों में भेजा जा रहा है।"

कैसे हुआ था पुलवामा हमला?

14 फरवरी 2019 को तड़के करीब साढ़े तीन बजे CRPF के ढाई हजार जवानों को लेकर 78 गाड़ियों का एक काफिला जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाइवे नंबर 44 पर जम्मू से श्रीनगर की ओर रवाना हुआ था। काफिले को हर हाल में शाम तक श्रीनगर पहुंच जाना था। काफिला दोपहर करीब तीन बजे जब पुलवामा जिले के लेथापोरा के पास पहुंचा, तभी अचानक एक ईको कार में मौजूद आत्मघाती हमलावर ने काफिले में घुसकर जवानों की गाड़ी पर टक्कर मार दी। टक्कर होते ही वहां जोरदार धमाका हुआ। धमाका इतना जोरदार था कि उसकी आवाज दस किलो मीटर दूर तक सुनी गई। इस आतंकवादी हमले में CRPF की 76वीं बटालियन के 40 जवान शहीद हो गए और कई अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। आतंकियों ने इस हमले को अंजाम देने के लिए 300 किलो से ज्यादा विस्फोटक का इस्तेमाल किया था। इसमें 80 किलो RDX और अमोनियम नाइट्रेट थे।

क्या थी बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक

हमले के ठीक 12 दिन बाद भारतीय वायुसेना ने इसका बदला लिया। वायु सेना के विमानों ने एयरस्ट्राइक कर पाकिस्तान के बालाकोट को हिला दिया। 26 फरवरी को रात में तीन बजे भारत ने देशवासियों से किया वादा पूरा किया। 12 मिराज 200 फाइटर जेट्स एलओसी को पार कर पाकिस्तान में घुस गए। भारतीय वायुसेना के जांबाज फाइटर मिराज 2000 लेकर बालाकोट तक गए और खुफिया इनपुट के आधार पर जैश ए मोहम्मद के ठिकानों को ध्वस्त कर दिया। एयरस्ट्राइक में कई हजार किलो बम बरसाए गए थे। इस हमले में तकरीबन 300 आतंकी मारे गए थे।

Advertisement

तेलंगाना के सीएम रेवंत रेड्डी ने एक रैली में कहा, "भगवान मंदिर में होने चाहिए, भक्ति दिल में होनी चाहिए। आज मैं अपने हिंदू भाइयों और मुस्लिम भाइयों से अपील करता हूं कि वे बीजेपी द्वारा शुरू किए गए सांप्रदायिक लड़ाई के जाल में न फंसें।"