scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अध्यक्ष के चुनाव से संगठन में बदलाव तक, BJP में जारी उठापटक के बीच RSS चीफ के बयान के क्या है मायने?

Lok Sabha Chunav: चुनावी नतीजों में बीजेपी को लगे झटकों को लेकर बीजेपी में बड़े बदलावों की संभावनाएं हैं। साथ ही जेपी नड्डा को केंद्रीय मंत्री पद मिलने के बाद से नए अध्यक्ष को लेकर चर्चाएं भी तेज हो गई हैं।
Written by: लिज़ मैथ्यू
नई दिल्ली | June 12, 2024 09:38 IST
अध्यक्ष के चुनाव से संगठन में बदलाव तक  bjp में जारी उठापटक के बीच rss चीफ के बयान के क्या है मायने
RSS चीफ मोहन भागवत ने इशारों में बीजेपी को दिए थे कड़े संदेश (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

RSS Chief Mohan Bhagwat Remark: एनडीए को मिले बहुमत और पीएम मोदी के शपथ के बाद मंत्रिमंडल ने काम शुरू कर दिया है। दूसरी बीजेपी को लोकसभा चुनाव में हुए नुकसान को संगठन में धीरे-धीरे बदलाव होने की संभावना है। अध्यक्ष जेपी नड्डा के बाद अगले अध्यक्ष को लेकर भी चर्चा शुरू हो गई है। पार्टी जल्द ही बैठक कर नए अध्यक्ष को लेकर बड़ा फैसला लेगी। बीजेपी में जारी इस उठापटक के बीच राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ का बयान काफी अहम है।

Advertisement

RSS चीफ मोहन भागवत ने अपने बायन में कहा था कि सच्चा सेवक काम करते समय मर्यादा बनाए रखता है, जो मर्यादा बनाए रखता है, वह अपना काम करता है, लेकिन अनासक्त रहता है। इसमें कोई अहंकार नहीं है कि मैंने यह किया। केवल ऐसे व्यक्ति को ही सेवक कहलाने का अधिकार है।

Advertisement

क्या पार्टी और संघ के बीच है खटपट

सूत्रों ने कहा कि आरएसएस चीफ मोहन भागवत के इस बयान को बीजेपी की टॉप लीडरशिप की आलोचना के तौर पर ही देखा जाना चाहिए। वहीं एक अन्य ने कहा कि इस तरह की सार्वजनिक अभिव्यक्ति का मतलब है कि संघ और पार्टी के बीच संवाद में समस्या है।

मोहन भागवत शायद ही कभी सार्वजनिक रूप से बीजेपी नेताओं की आलोचना करते हैं, ऐसे मे अगर उन्होंने आलोचना की है, तो संभावनाएं हैं कि पार्टी और संघ के बीच भी खटपट की स्थिति हो।

मणिपुर की हिंसा का उठाया मुद्दा

सूत्रों ने कहा है कि मोहन भागवत का मणिपुर पर संदेश स्पष्ट था कि संघ इस बात से सहमत नहीं है कि क्या हो रहा है और कैसे (संकट) को संभाला जा रहा है लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इसका मतलब यह नहीं है कि आरएसएस और भाजपा के बीच संचार टूट गया है, बस यह वैसा नहीं है जैसा होना चाहिए।

Advertisement

नागपुर में आरएसएस नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भागवत ने मणिपुर में संकट की ओर इशारा किया था। भागवत ने कहा कि हर जगह सामाजिक वैमनस्य है। यह ठीक नहीं है। पिछले एक साल से मणिपुर शांति का इंतजार कर रहा है। पिछले एक दशक से यह शांतिपूर्ण था। ऐसा लग रहा था कि पुराने समय की बंदूक संस्कृति खत्म हो गई है लेकिन अचानक से पैदा हुई या बनाई गई बंदूक संस्कृति के कारण मणिपुर अभी भी जल रहा है। इस पर कौन ध्यान देगा? इसे प्राथमिकता के आधार पर निपटाना हमारा कर्तव्य है।

गंभीर से विचार करेगी बीजेपी की टॉप लीडरशिप

बीजेपी नेताओं के एक वर्ग का मानना ​​है कि भागवत की टिप्पणी उन लोगों के बीच चर्चा का विषय सकती है जो चुनाव नतीजों के बाद असंतुष्ट” और नाखुश हैं, क्योंकि पार्टी लोकसभा में बहुमत से चूक गई है। मध्य भारत से एक अन्य पार्टी नेता ने कहा है कि चूंकि यह टिप्पणी भागवत जी की ओर से आई है, इसलिए कई लोगों को उम्मीद है कि शीर्ष नेतृत्व इसे गंभीरता से लेगा।

बीजेपी को अपने किलों में विफलता हाथ लगी है। इसमें उत्तर प्रदेश से लेकर राजस्थान, हरियाणा, बिहार और महाराष्ट्र शामिल है। पश्चिम बंगाल में भी पार्टी को नुकसान हुआ है, जहां पिछले चुनाव में बीजेपी को काफी फायदा देखने को मिला था। सूत्रों ने बताया कि यूपी में प्रत्याशियों की लिस्ट फाइनल करते समय बीजेपी की टॉप लीडरशिप ने संघ की बातों को तवज्जो नहीं दी थी, जिसका पार्टी को नुकसान भी हुआ।

संगठन में दिख सकते हैं बड़े बदलाव

पीएम मोदी ने सोमवार को अपने विभागों के बंटवारे में यह स्पष्ट कर दिया कि सरकार में कोई बड़ा बदलाव नहीं होने जा रहा है। हालांकि, सूत्रों ने बताया कि पार्टी के संगठन में बदलाव पार्टी में "नई राजनीतिक स्थिति" को दर्शा सकते हैं।

वैसे तो नड्डा का विस्तारित कार्यकाल 30 जून को समाप्त हो रहा है, लेकिन भाजपा के संविधान में हाल ही में हुए संशोधन ने संसदीय बोर्ड को "आपातकालीन" स्थितियों में अध्यक्ष के कार्यकाल सहित किसी भी संबंधित निर्णय लेने का अधिकार दिया है। सूत्रों ने कहा कि बोर्ड नड्डा के कार्यकाल को तब तक बढ़ा सकता है जब तक कि उनकी जग लेने लिए किसी योग्य नेता का चयन नहीं हो जाता है।

नड्डा ने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला था। अमित शाह 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान भाजपा के अध्यक्ष रहे लेकिन फिर जब वे सरकार में चले गए, तो नड्डा पूर्ण कालिक अध्यक्ष बन गए। सूत्रों ने बताया कि पार्टी के कई वरिष्ठ और अनुभवी नेताओं को मौजूदा सरकार में शामिल किए जाने के साथ ही पार्टी अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवारों का दायरा काफी छोटा हो गया है। जिन नामों पर चर्चा हो रही है, उनमें महाराष्ट्र के नेता विनोद तावड़े, देवेंद्र फडणवीस; वरिष्ठ भाजपा नेता ओम माथुर, के लक्ष्मण, सुनील बंसल और अनुराग ठाकुर का नाम भी शामिल है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो