scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बिहार की यह सीट BJP-NDA के लिए बड़ी चुनौती, सिर्फ एक बार मिली है जीत, M फैक्टर के आगे मोदी लहर भी रही फेल

Bihar News in Hindi: बीजेपी और एनडीए गठबंधन लोकसभा चुनाव 2024 में बिहार की सभी 40 सीटों पर जीत दर्ज करने का दावा कर रहे हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: April 23, 2024 19:04 IST
बिहार की यह सीट bjp nda के लिए बड़ी चुनौती  सिर्फ एक बार मिली है जीत  m फैक्टर के आगे मोदी लहर भी रही फेल
किशनगंज लोकसभा सीट पर सिर्फ एक बार जीती है बीजेपी (PTI)
Advertisement

Bihar Lok Sabha Chunav Phase 2: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इन पांच सीटों में किशनगंज लोकसभा सीट (Kisanganj Lok Sabha Seat) भी शामिल है, जो बंगाल और नेपाल की सीमा से सटी है। किशनगंज लोकसभा सीट के अलावा दूसरे चरण में बिहार की कटिहार, पुर्णिया, भागलपुर और बांका लोकसभा सीटों पर भी वोट डाले जाएंगे। किशनगंज लोकसभा सीट बिहार की उन लोकसभा सीटों में शामिल है, जिसे जीतना बीजेपी और उसके सहयोगी दलों के लिए बहुत बड़ी चुनौती माना जाता है।

दरअसल बिहार की इस लोकसभा सीट पर करीब 68 फीसदी मुस्लिम वोटर्स (Muslim Voters in Kisanganj Lok Sabha Seat) हैं। यही वजह है कि यहां से चुनाव लड़ने वाले दल इस सीट पर मुस्लिम उम्मीदवार उतारना ही बेहतर समझते हैं। एनडीए गठबंधन के तहत इस बार इस सीट पर जदयू ने उम्मीदवार उतारा है, दूसरी तरफ इंडिया गठबंधन की तरफ से यह सीट कांग्रेस को मिली है। इस सीट पर इस बार ओवैसी की पार्टी भी चुनाव लड़ रही है।

Advertisement

2024 लोकसभा चुनाव में कौन-कौन उम्मीदवार?

किशनगंज लोकसभा सीट पर इस बार मुकाबला त्रिकोणीय होने के आसार है। यहां इस बार कांग्रेस ने पिछली बार के विजेता जावेद आजाद पर फिर भरोसा जताया है। जावेद के सामने जदयू के मुजाहिद आलम और AIMIM के अख्तरुल इमान हैं।

सिर्फ एक बार किशनगंज जीती है बीजेपी

किशनगंज लोकसभा सीट पर बीजेपी को सिर्फ एकबार जीत मिली है। यहां साल 1999 में बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़े सैय्यद शहनवाज हुसैन चुनाव जीते थे। उस चुनाव में उन्हें 2,58,035 वोट मिले थे। उन्होंने राजद के कद्दावर नेता तस्लीमुद्दीन को मात दी थी। राजद प्रत्याशी को यहां 2,49,387 वोट मिले थे जबकि एनसीपी की तरफ से चुनाव लड़ रहे मौलाना अशरुल हक को 1,97,478 वोट मिले थे।

क्या रहे 2014 और 2019 के परिणाम?

किशनगंज लोकसभा सीट पर कांग्रेस पार्टी ने पिछले तीन लोकसभा चुनाव जीते हैं। साल 2009 में कांग्रेस को मोहम्मद अशरुल हक ने यहां जदयू के सैय्यद मोहम्मद अशरफ और राजद के तस्लीमुद्दीन को मात दी थी। साल 2014 में भी यहां कांग्रेस के मोहम्मद अशरुल हक ही जीते। इस चुनाव में उन्होंने बीजेपी के डॉ. दिलीप कुमार जायसवाल को हराया। जदयू के प्रत्याशी अख्तरुल इमान तीसरे नंबर पर रहे।

Advertisement

बात अगर साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव की करें तो किशनगंज लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने डॉ. मोहम्मद जावेद ने जीत दर्ज की थी। उन्हें 3,67,017 वोट मिले थे। उन्होंने जदयू के सैय्यद महमूद अशरफ को हराया। जदयू प्रत्याशी को 3,32,551 वोट हासिल हुए। 2019 के चुनाव में AIMIM के अख्तरुल इमान ने 2,95,029 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे।

पार्टीप्रत्याशीवोट
कांग्रेसडॉ. मोहम्मद जावेद3,67,017
जदयू (NDA)सैय्यद महमूद अशरफ3,32,551
AIMIMअख्तरुल इमान2,95,029
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो