scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Chhattisgarh Coal Scam: 2 से 3 करोड़ की रोजाना वसूली होती थी, अफसर और नेताओं की थी मिलीभगत- ED का दावा

ईडी ने बताया कि आईएएस अधिकारी समीर बिश्नोई और उनकी पत्नी के पास से 47 लाख रुपए की बेहिसाब नगदी और करीब 4 किलो सोने के आभूषण बरामद किए गए हैं।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: October 15, 2022 08:41 IST
chhattisgarh coal scam  2 से 3 करोड़ की रोजाना वसूली होती थी  अफसर और नेताओं की थी मिलीभगत  ed का दावा
सांकेतिक तस्वीर (फाइल फोटो)
Advertisement

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने छत्तीसगढ़ के आईएएस अधिकारी समीर विश्नोई को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया था। ईडी ने समीर बिश्नोई के साथ दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया था। यह गिरफ्तारी कोल स्कैम को लेकर हुई थी। वहीं अब ईडी का दावा है कि कोयला घोटाले से जुड़े लोग प्रतिदिन दो से तीन करोड़ रुपए की कमाई अवैध तरीके से कर रहे थे।

प्रवर्तन निदेशालय ने आईएएस अधिकारी समीर बिश्नोई के साथ इंद्रमणि ग्रुप के लक्ष्मीकांत तिवारी और सुनील कुमार अग्रवाल को गिरफ्तार किया है। ईडी ने बताया है कि रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू और घोटाले के सरगना सूर्यकांत तिवारी लापता हैं।

Advertisement

ईडी द्वारा शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा गया, "तलाशी व जांच के दौरान लक्ष्मीकांत तिवारी के पास से डेढ़ करोड़ की नकदी बरामद हुई और उसने स्वीकार किया कि वह रोजाना वसूली से एक से दो करोड़ रुपए का कारोबार करता था। इस रैकेट में कोयले के बड़े कारोबारी सुनील कुमार अग्रवाल, सूर्यकांत तिवारी का बिजनेस पार्टनर है। समीर बिश्नोई और उनकी पत्नी के पास से 47 लाख रुपए की बेहिसाब नगदी और सोने के आभूषण (करीब चार किलो) पाए गए।"

ईडी के मुताबिक आरोपी एक घोटाले का हिस्सा हैं, जिसमें कथित तौर पर 25 रुपए प्रति टन की अवैध वसूली की जा रही थी। ईडी ने आरोप लगाते हुए कहा कि अवैध वसूली का इस्तेमाल बेनामी संपत्ति में निवेश करने, वरिष्ठ अधिकारियों को प्रभावित करने और रिश्वत देने के लिए और राजनीति से जुड़े लोगों को अपनी ओर करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।

Advertisement

ईडी ने आयकर विभाग द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी। एजेंसी ने मामले में अपनी तलाशी में 4.5 करोड़ रुपये की बेहिसाबी नकदी, सोने के आभूषण और करीब दो करोड़ रुपये मूल्य के अन्य कीमती सामान जब्त किए हैं।

Advertisement

बुधवार को छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने राज्य में कई स्थानों पर ईडी की छापेमारी को लेकर केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा था कि जांच एजेंसियों का राजनीतिक लाभ के लिए दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए। रायपुर में पत्रकारों से बात करते हुए भूपेश बघेल ने पूछा कि एजेंसी ने कार्रवाई के दौरान की गई वसूली के ब्योरे का खुलासा क्यों नहीं किया?

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो