scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

PMLA एक्ट को चुनौती दे छत्तीसगढ़ के अफसरों को राहत दिलाने SC पहुंचे थे सिंघवी, जानिए अदालत में कैसे उलटा पड़ गया दांव

सिंघवी ने अपनी याचिका वापस लेने की गुजारिश की तो डबल बेंच के साथ सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता और उनके सहयोगी एएसजी एसवी राजू ने भी उनको आड़े हाथ लेने में कोई कसर बाकी नहीं रखी।
Written by: shailendragautam
Updated: May 30, 2023 22:51 IST
pmla एक्ट को चुनौती दे छत्तीसगढ़ के अफसरों को राहत दिलाने sc पहुंचे थे सिंघवी  जानिए अदालत में कैसे उलटा पड़ गया दांव
supreme court
Advertisement

शराब घोटाले में फंसे छत्तीसगढ़ के अफसरों को PMLA (मनी लांड्रिंग एक्ट) राहत दिलाने के लिए सीनियर एडवोकेट अभिषेक मनु सिंघवी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे। उन्होंने संविधान के अनुच्छेद 32 का जिक्र कर एक्ट पर ही उंगली उठाकर राहत की मांग की। लेकिन अदालत में उनका दांव उलटा पड़ गया। उन्होंने अदालत की तल्ख टिप्पणी के बाद अपनी याचिका वापस लेने की गुजारिश की तो डबल बेंच के साथ ED की तरफ से अदालत में पैरवी कर रहे सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता और उनके सहयोगी एएसजी एसवी राजू ने भी उनको आड़े हाथ लेने में कोई कसर बाकी नहीं रखी।

तुषार मेहता की कोर्ट से मांग थी कि वो अपने आदेश में इस तरह की याचिकाओं पर सख्त टिप्पणी करे। उनका कहना था कि अदालत को सख्त कदम उठाना ही होगा, तभी ऐसी याचिकाएं रुकेंगी। एएसजी एसवी राजू भी अदालत में सुनवाई के दौरान तुषार मेहता के सुर में सुर मिलाते दिखे।

Advertisement

हाईकोर्ट में क्यों नहीं जाते आरोपी- बोलीं जस्टिस त्रिवेदी

जस्टिस बेला एम त्रिवेदी और जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा ने छत्तीसगढ़ के अफसरों अख्तर और निरंजन दास की याचिका पर टिप्पणी की कि शीर्ष अदालत एक वैकल्पिक मंच बनता जा रहा है। बेंच ने कहा कि आरोपी हाईकोर्ट के पास जाकर वहां कानून के प्रावधानों को चुनौती देने के बजाय सुप्रीम कोर्ट में पेश होकर समन को चुनौती दे रहे हैं। जस्टिस त्रिवेदी ने यहां तक कहा कि इस अदालत में जारी यह चलन परेशान करने वाला है।

अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि किसी कानून को चुनौती देने वाली इस प्रकार की याचिकाएं दायर करके राहत का अनुरोध करना गलत है। बेंच ने कहा कि अदालत यह टिप्पणी करने के लिए विवश है कि विजय मदनलाल फैसले के बावजूद धारा 15 व धारा 63 और पीएमएलए के अन्य प्रावधानों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाले अनुच्छेद 32 के तहत इस तरह रिट दायर करना एक गलत चलन है।

Advertisement

विजय मदनलाल चौधरी केस में सुप्रीम कोर्ट ने ईडी को दी थीं शक्तियां

सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2022 में विजय मदनलाल चौधरी बनाम केंद्र के मामले में मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत गिरफ्तारी, संपत्ति की कुर्की, तलाशी और जब्ती को लेकर ईडी की शक्तियों को बरकरार रखा था। संविधान का अनुच्छेद 32 व्यक्तियों को यह अधिकार देता है कि यदि उन्हें लगता है कि उनके मौलिक अधिकारों का उल्लंघन हुआ है तो वो सुप्रीम कोर्ट का रुख कर सकते हैं। इसके तहत ही सिंघवी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो