scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Tamil Nadu : दलितों को मंदिर में प्रवेश से रोकने के लिए हुआ प्रदर्शन, मंत्री के बयान के बाद तीन ने किया खुद को आग लगाने का प्रयास

तमिलनाडु के उच्च शिक्षा मंत्री के पोनमुडी ने बुधवार को कहा कि किसी को भी मंदिर में जाने से नहीं रोका जाएगा...
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
May 19, 2023 17:31 IST
tamil nadu   दलितों को मंदिर में प्रवेश से रोकने के लिए हुआ प्रदर्शन  मंत्री के बयान के बाद तीन ने किया खुद को आग लगाने का प्रयास
Representational Image
Advertisement

तमिलनाडु के विल्लुपुरम जिले के मेलपाथी गांव में कुछ उच्च जाति के हिंदुओं ने कथित तौर पर दलितों को एक स्थानीय मंदिर में प्रवेश करने से रोकने के लिए आत्मदाह करने का प्रयास किया है। इस घटना के बाद गांव में तनाव बढ़ गया है और बड़ी तादाद में पुलिस की तैनाती की गयी है। फिलहाल पुलिस ने एक बयान जारी कहा है कि शांति वार्ता के बाद आखिरकार मामले को सुलझा लिया गया है। दलितों के मंदिर में प्रवेश का मामला मेलपाथी गांव में अप्रैल के महीने की शुरुआत से ही उबाल मार रहा है। आखिर क्या है पूरा मामला?

क्यों मंदिर में प्रवेश को लेकर दर्ज हुआ मामला

मंदिर में प्रवेश का मुद्दा अप्रैल से मेलपाथी गांव में उबल रहा है। इसकी शुरुआत तब हुई जब द्रविड़ समुदाय के कुछ सदस्यों को श्री धर्मराज द्रौपदी अम्मन मंदिर में प्रवेश से रोक दिया गया था। अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय के सदस्यों द्वारा लगातार विरोध के बाद मामला दर्ज कराया गया था। बुधवार (18 मई) को कुछ ग्रामीणों ने कलेक्टर के कार्यालय में याचिका दायर कर आग्रह किया कि उन्हें मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति देने के लिए तत्काल कदम उठाए जाएं और पिछले महीने एक त्योहार के दौरान उन्हें ऐसा करने से रोकने वालों को गिरफ्तार करने के लिए कदम उठाए जाएं।

Advertisement

राजनीतिक कारणों से ऐसा किया जा रहा है...

तमिलनाडु के उच्च शिक्षा मंत्री के पोनमुडी ने बुधवार को कहा, “मैंने उन्हें ( द्रविड़ समुदाय को) सूचित कर दिया है कि उन्हें मंदिर में जाने की अनुमति दी जाएगी। अधिकारियों ने भी उन्हें निर्देश दे दिए हैं...मैं गांव के अन्य निवासियों से अनुरोध करता हूं कि वे इन मतभेदों को मंदिर के अंदर दूर कर दें, सभी के साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए, राजनीतिक कारणों से कुछ लोग इन चीजों को अंजाम दे रहे हैं और लोगों को इसके झांसे में नहीं आना चाहिए"

के पोनमुडी ने कहा कि मंदिर का संचालन हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग द्वारा किया जाता है। यह किसी की निजी संपत्ति नहीं है।

मंत्री के बयान का हुआ विरोध

मंत्री पोनमुडी के बयान की निंदा करते हुए गांव के उच्च-जाति के हिंदुओं ने मंदिर के सामने धरना दिया और विरोध में अपने राशन कार्ड और मतदाता पहचान पत्र फर्श पर फेंक दिए। पुलिस के हस्तक्षेप के बावजूद प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे दलितों को मंदिर में प्रवेश नहीं करने देंगे और बहस के दौरान तीन लोगों ने खुद को आग लगाने का प्रयास किया।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो