scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

हरियाणा: सूरजमुखी के बीजों को MSP पर नहीं लेने से किसान नाराज, कुरुक्षेत्र में राजमार्ग पर लगाया जाम

विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने सरकार को सोमवार तक का समय दिया था, लेकिन उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया गया। इससे वे नाराज हो गये।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
Updated: June 06, 2023 23:10 IST
हरियाणा  सूरजमुखी के बीजों को msp पर नहीं लेने से किसान नाराज  कुरुक्षेत्र में राजमार्ग पर लगाया जाम
बीकेयू ने कहा कि जब तक उसकी मांगें नहीं मानी जातीं तब तक वह सड़क जाम करता रहेगा। (एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

हरियाणा में सूरजमुखी के बीज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग को लेकर नाराज किसानों ने मंगलवार को कुरुक्षेत्र के शाहाबाद में राष्ट्रीय राजमार्ग-44 को जाम कर दिया। किसानों की मांग है कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सूरजमुखी बीज की खरीद करे।

बीकेयू (चढ़ूनी) के प्रमुख गुरनाम सिंह चढ़ूनी के आह्वान पर किसानों ने शाहबाद के पास दिल्ली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर दिया। प्रदर्शनकारी किसानों ने दावा किया कि सरकार एमएसपी पर सूरजमुखी बीज नहीं खरीद रही है, और इसके चलते उन्हें अपनी उपज निजी खरीदारों को 6,400 रुपये न्यूनतम समर्थन मूल्य की जगह लगभग 4,000 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर बेचना पड़ रहा है। चढ़ूनी ने कहा कि सरकार को सूरजमुखी बीजों की खरीद 6,400 रुपये प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करनी चाहिए।

Advertisement

विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने सरकार को सोमवार तक का समय दिया था, लेकिन उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया गया। इससे वे नाराज हो गये और राजमार्ग को जाम कर दिया। बाद में पुलिस को यातायात को डायवर्ट करना पड़ा। किसानों के आंदोलन को देखते हुए मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया था।

किसान नेता चढ़ूनी ने मीडिया से कहा, ‘‘सरकार जब तक हमारी मांग नहीं मान लेती है, हमारा विरोध जारी रहेगा।’’ प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे भावांतर भरपाई योजना में सूरजमुखी के बीज को शामिल करने के सरकार के कदम के खिलाफ हैं। इसके तहत सरकार एमएसपी से नीचे बेची गई उपज के लिए 1,000 रुपये प्रति क्विंटल का निश्चित मुआवजा देगी। उन्होंने मांग की कि सूरजमुखी के बीज की एमएसपी पर खरीद की जाए।

इस मुद्दे को लेकर विपक्षी कांग्रेस ने भी राज्य सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हाल ही में कहा था, ‘‘सूरजमुखी के किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य का इंतजार कर रहे हैं और निजी व्यापारियों को अपनी उपज बेचकर किसानों को 1,500 से 2,500 रुपये प्रति क्विंटल का नुकसान हो रहा है।’’

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो