scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Amritpal Singh: डिब्रूगढ़ जेल में बंद खालिस्तानी नेता से मिलने पहुंची पत्नी, दूसरे आरोपियों के घर वाले भी साथ में आए

अमृतपाल सिंह सहित 'वारिस पंजाब दे' के 10 सदस्य वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के तहत डिब्रूगढ़ जेल में बंद हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
Updated: May 04, 2023 21:36 IST
amritpal singh  डिब्रूगढ़ जेल में बंद खालिस्तानी नेता से मिलने पहुंची पत्नी  दूसरे आरोपियों के घर वाले भी साथ में आए
खालिस्तानी नेता अमृतपाल सिंह से मिलने उनकी पत्नी किरणदीप कौर और अन्य लोग गुरुवार, 4 मई, 2023 को डिब्रूगढ़ सेंट्रल जेल डिब्रूगढ़ पहुंची। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

कट्टरपंथी और 'वारिस पंजाब दे' के प्रमुख अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार किए जाने के हफ्तों बाद खालिस्तानी नेता की पत्नी किरणदीप कौर ने गुरुवार को डिब्रूगढ़ जेल में उससे मुलाकात की। अमृतपाल की पत्नी के अलावा ‘वारिस पंजाब दे’ के अन्य कार्यकर्ताओं के परिवार के सदस्यों ने भी डिब्रूगढ़ केंद्रीय कारागार में कैदियों से मुलाकात की।

दो घंटे 25 मिनट तक हुई मुलाकात

एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि एक और आरोपी दलजीत सिंह कलसी की पत्नी नीरू कलसी और उनका बेटा सिमरनजीत कलसी भी आज डिब्रूगढ़ केंद्रीय कारागार पहुंचा। उन्होंने कहा, “वे दोपहर करीब एक बजे जेल परिसर में दाखिल हुए और 3 बजकर 25 मिनट पर बाहर निकले। वे विमान के जरिए आए थे और गुरुवार को डिब्रूगढ़ में ही ठहरेंगे।”

Advertisement

अमृतपाल को पंजाब पुलिस ने 23 अप्रैल को मोगा में गिरफ्तार किया था और बाद में उसको विशेष उड़ान से असम के डिब्रूगढ़ जेल में भेज दिया गया था। अमृतपाल सिंह सहित 'वारिस पंजाब दे' के 10 सदस्य वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के तहत डिब्रूगढ़ जेल में बंद हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, पंजाब पुलिस और केंद्रीय खुफिया एजेंसियों के संयुक्त प्रयासों से गिरफ्तारी की गई है। इससे पहले, मार्च में, केंद्रीय खुफिया एजेंसियों द्वारा संभावित जेलब्रेक और अजनाला की घटना को दोहराने पर चिंता जताए जाने के बाद, अमृतपाल सिंह के खालिस्तान समर्थकों और सहयोगियों को पंजाब से बाहर भेज दिया गया था।

Advertisement

इससे पहले मार्च में फरार होने के बाद कट्टरपंथी नेता को "भगोड़ा" घोषित किया गया था। अमृतपाल के समर्थकों के 23 फरवरी को अमृतसर में अजनाला पुलिस स्टेशन पर धावा बोलने के लगभग तीन सप्ताह बाद यह कार्रवाई हुई है। पुलिस स्टेशन पर समर्थक उनके सहयोगी लवप्रीत तूफान की रिहाई की मांग कर रहे थे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो