scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

तेज हवा से गिरीं महाकाल मंदिर की मूर्तियां तो कांग्रेस को दिखा सुनहरा मौका, जानिए क्या है चीन और गुजरात से कनेक्शन

कर्नाटक में हुए चुनाव में कांग्रेस ने 40 फीसदी कमीशन को मुद्दा बनाकर जीत हासिल की। उसे लगता है कि महाकालेश्वर मंदिर कॉरीडोर में स्थापित सप्त ऋषियों की मूर्तियों में बीजेपी ने 50 फीसदी की कमीशनखोरी की।
Written by: Anand Mohan J | Edited By: शैलेंद्र गौतम
Updated: June 01, 2023 16:53 IST
तेज हवा से गिरीं महाकाल मंदिर की मूर्तियां तो कांग्रेस को दिखा सुनहरा मौका  जानिए क्या है चीन और गुजरात से कनेक्शन
महाकाल कॉरीडोर में तेज हवा से गिरीं मूर्तियां। (एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

महाकालेश्वर मंदिर कॉरीडोर में स्थापित सप्त ऋषियों की सात में से छह मूर्तियां तेज हवा से गिरीं तो कांग्रेस की बांछे खिल गईं। पार्टी को लगता है कि चुनावी सूबे में उसके हाथ मनमाफिक मुद्दा लग गया है। कांग्रेस मूर्तियों का चीन से कनेक्शन जोड़ने के साथ गुजरात को भी इस मामले में लपेट रही है। उसका कहना है कि बीजेपी ने सप्त ऋषियों को जो मूर्तियां बनवाईं वो चीन से बनी थीं। वहीं इन्हें बनाने का टेंडर गुजरात की फर्म को मिला था।

खास बात है कि कर्नाटक में हुए चुनाव में कांग्रेस ने 40 फीसदी कमीशन को मुद्दा बनाकर जीत हासिल की। उसे लगता है कि महाकालेश्वर मंदिर कॉरीडोर में स्थापित सप्त ऋषियों की मूर्तियों में बीजेपी ने 50 फीसदी की कमीशनखोरी की। तभी लोगों की आस्था को गहरी चोट लगी। कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी ने कमीशन खोरी में भगवान को भी नहीं छोड़ा। बकौल कांग्रेस ये लोगों की आस्था पर एक बड़ा कुठाराघात है।

Advertisement

महाकालेश्वर मंदिर कॉरीडोर का उद्घाटन बीते साल अक्टूबर माह में खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने किया था। बीजेपी ने जोरशोर से इसका प्रचार किया था। PMO के मुताबिक कॉरीडोर का कुल बजट 850 करोड़ है। हालांकि कॉरीडोर को बनाने का श्रेय बीजेपी के साथ कांग्रेस भी लेती रही है। मप्र के सीएम रह चुके कमलनाथ का कहना है कि 2019 में उनके कार्यकाल में इस प्रोजेक्ट की रूपरेखा तैयार हुई थी। इसका बजट तब 300 करोड़ रखा गया था।

कमलनाथ की फैक्ट फाइंडिंग कमेटी ने लगाए तीखे आरोप

महाकाल में गिरी मूर्तियों के बाद कमलनाथ ने एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी भी बना दी। कमेटी के सदस्य रहे पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा का कहना है कि बीजेपी की शिवराज सरकार ने मूर्तियों को चीन से बनवाया। उनका कहना है कि वैसे बीजेपी चीन में बने सामान के बहिष्कार की बात करती है अलबत्ता महाकाल कॉरीडोर की मूर्तियां बनवाने में जो मैटिरियल इस्तेमाल किया गया वो चीन में तैयार किया गया था। उनका कहना है कि मूर्तियों को बनाने में (FRP) फाइबर रेनफोर्स्ट प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया था। ये मैटिरियल काफी घटिया किस्म का होता है।

कांग्रेस के आरोपों के बाद बैकफुट पर बीजेपी, मंत्री ने दिखाए दस्तावेज

कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी की शिवराज सरकार बैकफुट पर है। अर्बन डवपलमेंट और हाउसिंग महकमे के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मूर्तियों के गिरने का बचाव करते हुए कहा कि मूर्ति निर्माण में FRP के इस्तेमाल का फैसला कांग्रेस सरकार ने किया था। बीजेपी के मंत्री ने दस्तावेज दिखाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार ने 2019 में FRP से 100 मूर्तियां बनाने को मंजूरी दी थी। बीजेपी सरकार प्रोजेक्ट पर 96.97 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है। उनका कहना है कि दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर समेत सैंकड़ों मंदिरों में FRP से बनी मूर्तियां स्थापित की गई हैं, क्योंकि ये बेहद हल्की होती हैं।

Advertisement

कॉरीडोर के उद्घाटन के बाद कांग्रेस विधायक ने की थी लोकायुक्त से शिकायत

खास बात है कि कॉरीडोर का जब पीएम मोदी ने उद्घाटन किया तो उसके तुरंत बाद कांग्रेस विधायक महेश परमार ने लोकायुक्त को शिकायत देकर प्रोजेक्ट में धांधली की शिकायत की थी। उनका कहना था कि गुजरात की MP Babariya को कॉरीडोर का टेंडर दिया गया था। जबकि उससे कम बिड कई और कंपनियां भी दे रही थीं। परमार का कहना है कि उनकी शिकायत के बाद 15 लोगों को नोटिस दिया गया पर एक्शन कुछ नहीं हुआ।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो