गले के कफ का हो सकता है खात्मा, बस रात में पीएं ये 6 आयुर्वेदिक चाय

ठंड के मौसम में अक्सर सर्दी, खांसी, गले में खराश के साथ ही कफ बनने की समस्या भी शुरू हो जाती है। ऐसे में यहां कुछ आयुर्वेदिक चाय बताए गए हैं जिन्हें रात में सोने से पहले पीने से इन समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

अदरक

एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण से भरपूर अदरक की चाय के सेवन से सूजन कम करने में मदद मिलती है जिससे खांसी और गले की खराश से राहत मिल सकता है।

तुलसी

तुलीस में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं जो सूजन के साथ ही खराश की समस्या को कम करने में असरकारी हैं। तुलसी चाय से श्वासमार्ग भी साफ होता है।

लेमन ग्रास

अपने एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुणों से भरपूर लेन ग्रास चाय गले की खराश के साथ ही कफ की भी समस्या को दूर करने में मदद करता है। इससे खांसी में भी राहत मिल सकती है।

लहसुन-शहद

लहसुन और शहद दोनों में ही ऐसे गुण पाए जाते हैं जो सूजन और इंफेक्शन को कम करने में मदद करते हैं। दोनों को एक साथ मिलाकर चाय के रूप में सेवन करने से छाती में जमे कफ से भी निजात मिल सकता है।

पुदीना

छाती में जमा कफ और खराश की समस्या में पुदीना का चाय काफी असरकारी माना गया है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो इन समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करते हैं।

काढ़ा

तुलसी, अदरक, लहसुन, शहद और स्पाइसेस मिलाकर बनाए गए काढ़े के सेवन से भी बलगम से राहत मिलने के साथ ही गले की खराश की समस्या से भी छुटकारा मिल सकता है।

Source: freepik