scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Train Accident: अस्पताल में खोजा पर नहीं मिला बेटा, फिर बे-मन गए मुर्दा घर, शवों के ढेर में हिलता दिखा हाथ और...

Balasore Train Accident: बालासोर ट्रेन हादसे में 275 लोगों की मौत हुई है जबकि करीब एक हजार लोग घायल हुए हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
June 05, 2023 16:52 IST
train accident  अस्पताल में खोजा पर नहीं मिला बेटा  फिर बे मन गए मुर्दा घर  शवों के ढेर में हिलता दिखा हाथ और
बालासोर ट्रेन हादसे में करीब एक हजार लोग घायल हुए हैं (PTI)
Advertisement

बालासोर ट्रेन हादसे में दो सौ से ज्यादा लोगों की मौत हुई है और करीब एक हजार यात्री घायल हुए हैं। इस हादसे के बाद ट्रेन में सवार लोगों को उनके परिजनों द्वारा खोजने के कई वीडियो वायरल हो रहे हैं। हावड़ा के एक दुकानदार हेलाराम मलिक भी उन लोगों में से एक हैं, जिनका बेटा इस हादसे में घायल हुआ है। हेलाराम उन खुशनसीब लोगों में से भी एक हैं, जो अपने बच्चे को 'मौत के मुंह' से बाहर निकाल लाए हैं।

Advertisement

टाइम्स ऑफ इंडिया पर छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, दरअसल हेलाराम हावड़ा में एक दुकान चलाते हैं। कोरोमंडल एक्सप्रेस के हादसे वाले दिन वो अपने बेटे बिश्वाजीत को शालीमार स्टेशन छोड़कर आए थे। हादसे के बाद जब उन्होंने अपने बेटे को कॉल किया तो वहां से सिर्फ यह जवाब मिला कि वो जिंदा है लेकिन उसे बहुत ज्यादा दर्द से कराह रहा है।

Advertisement

इतनी जानकारी मिलने के बाद हेलाराम ने एक पल की देर नहीं की। उन्होंने एक लोकल एंबुलेंस ड्राइवर पलाश पंडित को फोन लगाया और अपने साले दीपक दास को अपने साथ चलने के लिए कहा। हेलाराम उसी रात बालासोर के लिए निकल लिए। वो उस रात 230 किलोमीटर की दूरी तय कर बालासोर पहुंचे लेकिन उन्हें किसी भी अस्पताल में बिश्वाजीत नहीं मिला।

हेलाराम के साले दीपक दास कहते हैं कि हमने हिम्मत नहीं हारी। हम लगातार वहां के लोगों से पूछते रहे, ताकि हमें यह पता चल सके कि अब हमें कहां जाना चाहिए। एक व्यक्ति ने हमें कहा कि अगर बेटा अस्पताल में नहीं मिला है तो हमें बहनगा हाई स्कूल जाना चाहिए, जहां शव रखे गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह बात स्वीकार करना आसान नहीं था लेकिन फिर भी वहां गए।

दीपक दास ने कहा कि हमें वहां बहुत सारे शव दिखाई दिए। उन्होंने कहा, "हमें खुद शव देखने की इजाजत नहीं थी। कुछ देर बाद जब किसी ने एक व्यक्ति का दाहिना हाथ कांपता देखा तो हंगामा मच गया। चूंकि हम वहीं थे, हमने देखा कि यह हाथ बिश्वजीत का था, जो बेहोश था और बुरी तरह घायल था। हम तुरंत उसे एम्बुलेंस में बालासोर अस्पताल ले गए, जहां उसे कुछ इंजेक्शन दिए गए। उसकी स्थिति को देखते हुए उन्होंने उसे कटक मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया, लेकिन हमने एक बांड पर हस्ताक्षर किए और उसे छुट्टी दे दी।"

Advertisement

बिश्वाजीत की कोलकाता के SKKM अस्पताल में सर्जरी की गई है। उनकी आज एक और सर्जरी की जा सकती है। वह गंभीर रूप से घायल है लेकिन स्थिर है। एंबुलेंस ड्राइवर पलाश पंडित ने बताया कि बालासोर से कोलकाता तक बिश्वाजीत को पूरे रास्ते होश नहीं आया। उन्होंने बताया कि हम सुबह साढ़े आठ बजे SSKM पहुंचे, जहां बिश्वाजीत को भर्ती किया गया। बिस्वजीत को अभी तक होश नहीं आया है। रविवार को उनके टखने की सर्जरी हुई। सोमवार को उनके पैर की एक और सर्जरी होगी। उनके दाहिने हाथ में कई फ्रैक्चर हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो