scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'5 साल के बालक को आराम भी मिलना चाहिए', अयोध्या में श्रद्धालुओं की भीड़ पर बोले चंपत राय- रामलला को 14 घंटे जगाना उचित नहीं

अयोध्या में राम जन्मभूमि पर बने मंदिर में हर रोज करीब एक लाख लोग आ रहे हैं
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
अयोध्या | Updated: February 09, 2024 12:34 IST
 5 साल के बालक को आराम भी मिलना चाहिए   अयोध्या में श्रद्धालुओं की भीड़ पर बोले चंपत राय  रामलला को 14 घंटे जगाना उचित नहीं
Ram Lalla : रामलला की मूर्ति। (@BJP4India)
Advertisement

अयोध्या के राम मंदिर में 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा के बाद से श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा है। मंदिर में रोजाना 14 घंटे दर्शन जारी है। इस बीच श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय का कहना है कि बालक राम को विश्राम की जरूरत है। चंपत राय का कहना है कि अयोध्या के नवनिर्मित राम मंदिर में 22 जनवरी को प्राण-प्रतिष्ठा के बाद श्रद्धालुओं के सैलाब के मद्देनजर हर दिन 14 घंटे दर्शन की व्यवस्था जारी है। उन्होंने कहा कि कई लोगों का मत है कि पांच साल के बालक के रूप में पूजे जाने वाले भगवान राम को बीच-बीच में अच्छी तरह विश्राम की भी आवश्यकता है।

चंपत राय ने इंदौर में बृहस्पतिवार को पीटीआई-भाषा से कहा, "फिलहाल अयोध्या में राम जन्मभूमि पर बने मंदिर में हर रोज करीब एक लाख लोग आ रहे हैं और श्रद्धालुओं का भारी दबाव घटाने के लिए 24 जनवरी के बाद से इस देवस्थान में हर रोज 14 घंटे दर्शन की व्यवस्था चल रही है।" श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव ने कहा, ‘‘अनेक लोगों का कहना है कि भगवान के बालक रूप को बीच में अच्छी तरह विश्राम की जरूरत है। आप भी सोचिए कि भगवान के बालक रूप को 14 घंटे जगाना कितना व्यावहारिक है?’’

Advertisement

2025 तक पूरा होगा राम मंदिर

महासचिव ने कहा कि राम मंदिर के ऊपरी तलों, आयताकार परकोटे और इस परिसर के अन्य देवालयों का निर्माण किया जाना बाकी है और मंदिर का सारा काम संभवतः साल 2025 के मध्य या 2025 की समाप्ति तक पूरा होने का अनुमान है। "रामलला के पटवारी" के रूप में प्रसिद्ध राय ने कहा कि राम मंदिर का शेष निर्माण कार्य उचित तालमेल बनाकर कुछ इस तरह पूरा किया जाएगा कि भक्तों को भगवान के दर्शन में कोई भी परेशानी न हो। उन्होंने कहा,‘‘हम सुनिश्चित करेंगे कि मंदिर के शेष निर्माण कार्य और श्रद्धालुओं द्वारा भगवान के दर्शन में कोई भी बाधा न हो। इसके लिए हम इंजीनियरों के साथ बैठेंगे और सोच-समझकर फैसला करेंगे।’’

चंपत राय ने कहा कि अयोध्या में बड़ी तादाद में आ रही गाड़ियों की पार्किंग और श्रद्धालुओं के लिए किफायती किराये वाली जगहों का इंतजाम किया जाना बेहद आवश्यक है। चंपत विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं। वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर के कानूनी मसले में के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस विषय में अभी कुछ भी नहीं सोचता। मेरी दृष्टि बहुत स्पष्ट है। मैं समाज के किसी भी व्यक्ति की भावनाओं को चोट नहीं पहुंचा रहा हूं लेकिन दोपहर का खाना जब पच जाए, तब शाम को भोजन करना चाहिए, वरना कुपच हो जाता है।’’

Advertisement

अभी एक चीज पूरी तरह स्थापित होने दो- चंपत राय

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव ने आगे कहा, ‘‘मैं समाज से कहूंगा कि अभी एक चीज को पूरी तरह स्थापित होने दो। बहुत अधिक जोश में बोलना और किसी काम को शांति से पूर्ण करना, इन दोनों बातों में बहुत अंतर है।’’ वाराणसी की जिला अदालत द्वारा ज्ञानवापी परिसर स्थित व्यास जी के तहखाने में हिंदू पक्ष को पूजा-पाठ का अधिकार दिए जाने के बाद तहखाने को हाल ही में खोला गया था और उसमें पूजा-अर्चना शुरू कर दी गयी थी। इस तहखाने में पूजा-अर्चना स्‍थगित कराने के मुस्लिम पक्ष ने अर्जी दायर की है जिस पर सुनवाई के लिए अदालत ने 15 फरवरी की तारीख तय की है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो