scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Mukhtar Ansari Death: 'मैं बैठ भी नहीं पा रहा हूं...', मौत से पहले मुख्तार अंसारी ने किसे किया था आखिरी फोन?

Mukhtar Ansari Last Call: मुख्तार अंसारी की मौत के बाद विपक्षी दलों के तमाम नेताओं ने सवाल खड़े किए हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: March 29, 2024 13:16 IST
mukhtar ansari death   मैं बैठ भी नहीं पा रहा हूं      मौत से पहले मुख्तार अंसारी ने किसे किया था आखिरी फोन
Mukhtar Ansari Death: मुख्तार अंसारी ने आखिरी बार बात अपने बेटे उमर अंसारी से की थी। (PTI)
Advertisement

Mukhtar Ansari Last Call: माफिया मुख्तार अंसारी की गुरुवार को बांदा मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मौत हो गई। मुख्तार की मौत कार्डियक अरेस्ट से हुई है। मुख्तार की मौत के बाद विपक्षी दलों के तमाम नेताओं ने यूपी की योगी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। इसी बीच मुख्तार अंसारी की अपने छोटे बेटे उमर अंसारी से आखिरी बातचीत का ऑडियो सामने आया है।

इस ऑडियो में मुख्तार अपने बेटे उमर से बात कर रहा है। यह बातचीत मंगलवार देर शाम की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि बांदा मेडिकल कॉलेज से डिस्चार्ज के बाद मुख्तार ने उमर से बात की थी। मुख्तार और उमर के बीच क्या बातचीत हुई आइए जानते हैं-

Advertisement

उमर अंसारी- पापा आप ठीक हैं?

मुख्तार अंसारी- हां, बाबू हम ठीक हैं।

Advertisement

उमर अंसारी: बस अल्लाह ने बचा लिया। रमजान का पाक महीना चल रहा है।

Advertisement

मुख्तार अंसारी: बेहोशी टाइप हो जा रहे हैं। कमजोरी लग रही है।

उमर अंसारी: मैंने देखा न्यूज में आप कमजोर हो गए हैं। हम कोर्ट में हैं। मुलाकात की परमिशन करवा रहे हैं। दरोगा अंकल भी करवा रहे हैं। अगर परमिशन मिली तो मिलने आएंगे।

मुख्तार अंसारी: हम बैठ नहीं पा रहे हैं। हम उठ नहीं पा रहे हैं।

उमर अंसारी: जहर का असर दिख रहा है। सब जहर का असर है। हिम्मत कर पापा फोन कर लिया कीजिए। आपकी आवाज सुनकर अच्छा लगा।

मुख्तार अंसारी: हां बाबू, बॉडी चली जाती है… रूह रह जाती है।

उमर अंसारी: हिम्मत रखिए… अभी हज करना है… कोई और रहता तो मर गया होता अब तक।

मुख्तार अंसारी: हम खड़े नहीं हो पा रहे हैं. व्हीलचेयर के सहारे हूं।

उमर अंसारी: जल्द आप सेहतमंद होंगे।

मुख्तार अंसारी: आज आए थे तो बेहोश हो गए थे।

उमर अंसारी: वॉशरूम जा रहे हैं या नहीं आप?

मुख्तार अंसारी: दस दिन से वॉशरूम नहीं हो पा रहा है।

उमर अंसारी: मैं आपके लिए जमजम लेकर आऊंगा.. खजूर लेकर आऊंगा… फल लेकर आऊंगा।

मुख्तार अंसारी पिछले कुछ सालों से बांदा जेल में बंद थे। गुरुवार रात को कार्डियक अरेस्ट उनकी मौत हो गई। कल शाम करीब 8:30 बजे मुख्तार की जेल में तबीयत बिगड़ी थी। मुख्तार को उल्टी की शिकायत और बेहोशी की हालत में रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी वॉर्ड लाया गया था, लेकिन इलाज के दौरान कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई। रात करीब 10:30 बजे प्रशासन ने मुख्तार की मौत की सूचना दी। मुख्‍तार की मौत के बाद पूरे प्रदेश में अलर्ट कर दिया गया है। मेडिकल कॉलेज और बांदा जेल के बाहर भारी संख्‍या में पुलिस फोर्स तैनात है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो