scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पहले मनमोहन सिंह के सिक्योरिटी चीफ, अब योगी कैबिनेट में मंत्री; जानिए इस पूर्व IPS ने पूर्व पीएम की सुरक्षा को लेकर क्या कहा?

Manmohan Singh Security Chief: असीम अरुण ने कहा कि मुझे पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का सिक्योरिटी चीफ रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मैं उनके अंदरुनी घेरे की सुरक्षा व्यवस्था देखता था।
Written by: vivek awasthi
Updated: April 26, 2024 12:10 IST
पहले मनमोहन सिंह के सिक्योरिटी चीफ  अब योगी कैबिनेट में मंत्री  जानिए इस पूर्व ips ने पूर्व पीएम की सुरक्षा को लेकर क्या कहा
Former PM Manmohan Singh Security Chief: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के सिक्योरिटी चीफ रहे असीम अरुण ने कहा कि वो बहुत शालीन व्यक्ति थे। (जनसत्ता.कॉम)
Advertisement

Manmohan Singh Security Chief: उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री असीम अरुण ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सुरक्षा और उनके व्यवहार को लेकर बड़ी जानकारी साझा की है। असीम अरुण ने कहा कि मैं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का सिक्योरिटी चीफ रहा हूं। मैं 2004 से 2008 के बीच उनकी 22 लोगों की कमांडो टीम का हिस्सा था। योगी के मंत्री ने यह बात जनसत्ता.कॉम से खास बातचीत के दौरान कही।

असीम अरुण ने कहा कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर जो अंदरुनी घेरा होता है, उसको क्लोज प्रोटेक्शन टीम बोलते हैं, उसका मैं सिक्योरिटी चीफ रहा हूं। यह टीम हमेशा उनके साथ रहती है। उन्होंने कहा कि वैसे तो एसपीजी एक बहुत बड़ी संस्था होती है, लेकिन उसमें से एक क्लोज प्रोटेक्शन टीम बनाई जाती है। उसके चीफ के रूप में काम करने का मुझे मौका मिला।

Advertisement

योगी के मंत्री ने कहा कि इसलिए लोकतंत्र में मैं सिक्योरिटी को बहुत अच्छे से समझता हूं। उन्होंने कहा कि मैं बड़ी-बड़ी बंदूकधारी लेकर खड़े सुरक्षा के खिलाफ हूं। अगर किसी को खतरा है तो वो सिक्योरिटी ऐसी हो जिसकी किसी को जानकारी ने हो। ऐसा मेरा मानना है। क्योंकि जब जनता आपके साथ कमांडो बगैरा को देखती है तो मिलने से आम लोग डरते हैं।

असीम अरुण ने कहा कि मुझे पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का सिक्योरिटी चीफ रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मैं उनका निजी सचिव नहीं था और न उनके लिए फाइल का काम करता था, लेकिन मुझे उनकी सबसे अच्छी आदत यह लगती थी कि वो समय के बहुत पाबंद थे। अगर उनको नौ बजे निकलना है तो वो अक्सर पौने नौ बजे की तैयार होकर बैठ जाते थे।

Advertisement

मंत्री ने कहा कि अक्सर हम लोग क्या करते हैं कि जब हमें नौ बजे निकलना है तो हम नौ बजे ही तैयार होते हैं। उस बीच में कोई फोन आ गया या और कोई काम आ गया तो हम लेट हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि उनसे मैंने एक चीज सीखी है कि वो समय के बहुत पाबंद थे।

Advertisement

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से जुड़ी यादों का आगे जिक्र करते हुए असीम अरुण ने कहा कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह जी बहुत शालीन व्यक्ति हैं। मैं देखता था कि उनकी एक मारुती 8-100 गाड़ी थी। प्रधानमंत्री आवास में खड़ी रहती थी, वो कभी-कभार की चलती थी, लेकिन उनकी सादगी और शालीनता की जितनी तारीफ की जाए कम है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो