scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'UP में सीएम योगी के बाद सबसे ताकतवर', ओम प्रकाश राजभर के बयान से बीजेपी असहज

Lok Sabha Elections: जहूराबाद से विधायक राजभर की पूर्वी यूपी में राजभर समुदाय के वोटों पर पकड़ है और बीजेपी के साथ उनके रिश्ते काफी असमंजस भरे रहे हैं। वह 2017 में सत्ता में आई भाजपा के नेतृत्व वाली पहली राज्य सरकार का हिस्सा थे, लेकिन दो साल बाद लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ लिया था।
Written by: Maulshree Seth
Updated: March 09, 2024 09:38 IST
 up में सीएम योगी के बाद सबसे ताकतवर   ओम प्रकाश राजभर के बयान से बीजेपी असहज
Lok Sabha Elections: सीएम योगी के साथ कैबिनेट मंत्री ओपी राजभर। (एक्सप्रेस फाइल)
Advertisement

Lok Sabha Elections: यूपी कैबिनेट मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के कुछ ही दिनों में ओम प्रकाश राजभरी ने फिर से ऐसी टिप्पणियां कीं, जिससे सत्तारूढ़ भाजपा के कई नेता असहज हो गए हैं। जबकि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) प्रमुख को अभी तक एक मंत्रालय आवंटित नहीं किया गया है। ओपी राजभर पिछली बार पिछड़ा वर्ग कल्याण के लिए कैबिनेट मंत्री थे। इस बार वह भाजपा के साथ गठबंधन में लोकसभा सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे हैं।

तीन दिन पहले मऊ में एक सार्वजनिक बैठक में, राजभर ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि अब से उन्हें पुलिस स्टेशन जाते समय पीले रंग का गमछा पहनना चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी पीले रंग का गमछे में राजभर का चेहरा देखेंगे और उनकी बात को सुनेंगे। क्योंकि फिर पुलिस कर्मियों की इतनी हिम्मत नहीं पड़ेगी कि वो आपसे कोई सवाल पूछें। राजभर ने खुद को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाद राज्य का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति घोषित कर दिया। उन्होंने कहा कि जो पावर मुख्यमंत्री जी के पास है, वही पावर ओम प्रकाश राजभर के पास है।

Advertisement

शपथ ग्रहण समारोह में आदित्यनाथ की मौजूदगी का हवाला देते हुए राजभर ने अपने कार्यकर्ताओं से कहा, 'इस समय इस देश में सबसे शक्तिशाली कौन है? पीएम, गृह मंत्री। ओम प्रकाश राजभर उनसे सीधे जुड़े हुए हैं। इस वक्त यूपी में सबसे ताकतवर कौन? सीएम योगी आदित्यनाथ। कल देखा कि वह ओम प्रकाश राजभर के शपथ ग्रहण समारोह में साथ थे।'

खुद की तुलना हिंदी फिल्म के खलनायक गब्बर सिंह से करते हुए राजभर ने कहा, 'न तो पुलिस इंस्पेक्टर, न ही एसपी या यहां तक कि डीएम के पास मंत्री को फोन करने की ताकत नहीं है। मान लीजिए कि मैं गब्बर हूं।'

Advertisement

जबकि एनडीए ने अभी तक घोसी लोकसभा सीट से अपने उम्मीदवार की आधिकारिक घोषणा नहीं की है, राजभर ने दावा किया कि दिल्ली में भाजपा नेतृत्व ने उनकी एसबीएसपी को एक और सीट देने का फैसला किया है। सूत्रों ने कहा कि राजभर अपने बेटे अरविंद को घोसी से मैदान में उतारने की योजना बना रहे हैं।

Advertisement

जहूराबाद से विधायक राजभर की पूर्वी यूपी में राजभर समुदाय के वोटों पर पकड़ है और बीजेपी के साथ उनके रिश्ते काफी असमंजस भरे रहे हैं। वह 2017 में सत्ता में आई भाजपा के नेतृत्व वाली पहली राज्य सरकार का हिस्सा थे, लेकिन दो साल बाद लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ लिया। जब वह सरकार में थे तो उन्होंने इस पर सवाल उठाने या इसके खिलाफ धरने पर बैठने से भी गुरेज नहीं किया।

हालांकि, राजभर कुछ समय के लिए समाजवादी पार्टी (एसपी) के साथ गठबंधन करने के बाद पिछले महीने अपने पांच अन्य विधायकों के साथ एनडीए में लौट आए। एसबीएसपी ने एसपी के नेतृत्व वाले गठबंधन के हिस्से के रूप में 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ा था। भाजपा के भीतर कई लोगों को डर है कि वे ऐसा करेंगे। इस बार और भी आक्रामक राजभर का सामना करना होगा जो न केवल सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हैं, बल्कि खुलेआम अपनी 'ताकत' का प्रदर्शन भी करते हैं।

राजभर के इस बयान ने भाजपा के भीतर कई लोगों को फिर से असहज कर दिया है, क्योंकि उन्हें लगता है कि यह दूसरों के अनुसरण के लिए एक गलत मिसाल छोड़ता है और उन्हें अपने सहयोगियों में से एक के साथ सरकारी अधिकारियों पर सीधे अधिकार की घोषणा करने की स्थिति में डाल देता है। हालांकि सिस्टम के खिलाफ लड़ाई की घोषणा राजभर पहले भी कर चुके हैं, लेकिन राज्य में सीएम के बाद खुद को सबसे शक्तिशाली घोषित करना एक नया कदम है।

बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने द इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'यह उनके कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने की उनकी शैली है।” उन्होंने कहा कि चाहे सरकार में हों या सरकार के बाहर, उन्होंने उसी शैली को बरकरार रखा है, जैसे लालू यादव, मायावती आदि का खुद के बोलने का अलग अंदाज है।'

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो