scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बसपा के पतन के बीच दलितों का एक नया सितारा उभरा, नगीना से चंद्रशेखर आजाद जीते; जानिए अब तक कैसा रहा राजनीतिक सफर

Lok Sabha Elections 2024: बसपा के सामने अब एक बड़ी चुनौती चंद्रशेखर ने लोकसभा चुनाव जीतकर पेश कर दी है। क्योंकि, बसपा का एक भी प्रत्याशी लोकसभा चुनाव नहीं जीता है।
Written by: लालमनी वर्मा
Updated: June 05, 2024 15:29 IST
बसपा के पतन के बीच दलितों का एक नया सितारा उभरा  नगीना से चंद्रशेखर आजाद जीते  जानिए अब तक कैसा रहा राजनीतिक सफर
Lok Sabha Elections 2024: बसपा प्रमुख मायावती को अब सबसे बड़ी चुनौती चंद्रशेखर आजाद से मिल रही है। (एक्सप्रेस फाइल)
Advertisement

Lok Sabha Elections 2024: उत्तर प्रदेश में बसपा का पतन जारी है, लेकिन अब पार्टी के सामने एक नया चुनौती देने वाला आ गया है। वो हैं युवा दलित नेता चंद्रशेखर आजाद, जिन्होंने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के नगीना अनुसूचित जाति-आरक्षित निर्वाचन क्षेत्र से 1.51 लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत हासिल की है।

Advertisement

आजाद, जो इंडिया ब्लॉक में शामिल नहीं हुए थे। उन्होंने अपनी पार्टी आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) के बैनर तले चुनाव लड़ा। उन्होंने 51.19% वोट हासिल करके भाजपा के ओम कुमार को हराया। भाजपा का वोट शेयर गिरकर 36% रह गया।

Advertisement

बसपा के सुरेंद्र पाल सिंह को मात्र 1.33% वोट मिले, जो समाजवादी पार्टी (सपा) के मनोज कुमार से भी बहुत पीछे है, जिनका वोट शेयर 10.22% था। 2019 में बसपा के गिरीश चंद्र ने भाजपा के यशवंत सिंह को 1.66 लाख वोटों के अंतर से हराया था।

नगीना में दलितों (ज्यादातर जाटव, जो बीएसपी का मुख्य समर्थन आधार हैं) की आबादी करीब 20% है, जबकि मुस्लिम करीब 40% हैं। बाकी में ठाकुर, जाट, चौहान राजपूत, त्यागी और बनिया शामिल हैं।

पूरे राज्य में मुसलमान सपा-कांग्रेस गठबंधन के पीछे लामबंद होते दिख रहे हैं, तथा बसपा का आधार सिकुड़ गया है, लेकिन जाटवों के बीच वह अभी भी मजबूत है, लेकिन नगीना में आजाद को दोनों समुदायों के वोट मिलते दिखे।

Advertisement

आज़ाद समाज पार्टी (कांशीराम) के एक नेता ने कहा, "लोकसभा में अब बीएसपी का कोई सदस्य नहीं है। आज़ाद ही सदन में दलितों और मुसलमानों के मुद्दे उठाएंगे। इससे उन्हें दलितों के नेता के रूप में उभरने में मदद मिलेगी और निश्चित रूप से वे मायावती के विकल्प के रूप में उभरेंगे। इससे बीएसपी और कमज़ोर होगी।"

Advertisement

नगीना से आज़ाद की जीत दो और वजहों से महत्वपूर्ण है। इस लोकसभा सीट पर उनकी जिद की वजह से ही इस बार एएसपी और एसपी के बीच गठबंधन की बातचीत विफल हो गई। इसके बाद एएसपी ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया और फिर आज़ाद ने नगीना में घर-घर जाकर प्रचार किया।

इस जीत का एक और महत्व इसके प्रतीकात्मक महत्व में निहित है। 1989 में मायावती ने बिजनौर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी, जो 2008 के परिसीमन के बाद अब नगीना में आता है।

मूल रूप से सहारनपुर जिले के छुटमलपुर इलाके के रहने वाले और कानून स्नातक 36 वर्षीय आज़ाद ने दलितों और अन्य हाशिए पर पड़े वर्गों के विकास के लिए लड़ने के लिए 2015 में भीम आर्मी का गठन किया। वह पहली बार भीम आर्मी के प्रमुख के रूप में सुर्खियों में आए और 2017 में सहारनपुर जिले के शब्बीरपुर गांव में ठाकुर समुदाय के साथ झड़प के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए और दलितों की आवाज़ उठाने के लिए राजनीतिक हलकों में चर्चा में आए।

इसके तुरंत बाद ही चंद्रशेखर को गिरफ्तार कर लिया गया और उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगा दिया, जिसके बाद उन्होंने लंबे समय तक जेल में समय बिताया। सितंबर 2018 में कानून हटाए जाने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।

जेल में रहने के साथ-साथ नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के विरोध में उनकी भागीदारी ने दलितों और अल्पसंख्यकों के बीच उनकी स्थिति को और मजबूत किया। सहारनपुर जिले में दोनों की अच्छी खासी आबादी है।

दिल्ली के शाहीन बाग सहित सीएए विरोधी प्रदर्शनों के अलावा , भीम आर्मी ने दिल्ली में रविदास मंदिर के विध्वंस के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों में भी भाग लिया था।

राजस्थान, दिल्ली और मध्य प्रदेश में अपनी गतिविधियों का विस्तार करने के बाद आज़ाद ने राजनीति में कदम रखा। उन्होंने पहले बीएसपी से संपर्क किया, लेकिन मायावती द्वारा उनके साथ हाथ मिलाने की किसी भी संभावना से इनकार करने के बाद आज़ाद ने 2022 के विधानसभा चुनावों से पहले एसपी प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की।

हालांकि, उनके बीच गठबंधन पर बातचीत विफल रही और आजाद ने घोषणा की कि वह भाजपा उम्मीदवार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ गोरखपुर सदर से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने अखिलेश पर उनका “अपमान” करने और अनुसूचित जातियों को दरकिनार करने का भी आरोप लगाया। हालांकि, 2022 के चुनावों में आजाद गोरखपुर से बुरी तरह हार गए और चौथे स्थान पर रहे।

इसके बाद आज़ाद को आरएलडी नेतृत्व के करीब बढ़ते हुए देखा गया, और उन्होंने 2022 में खतौली विधानसभा उपचुनाव में अपने उम्मीदवार के लिए प्रचार किया, जिससे आरएलडी नेता को भाजपा के खिलाफ जीत हासिल करने में मदद मिली।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो