scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

हाईकोर्ट खंगाल रहा था रेप पीड़िता की जन्म कुंडली, SC पहुंचा मामला तो भौचक हुए जस्टिस, जानिए फिर क्या हुआ

जस्टिस धूलिया का सवाल था कि हाईकोर्ट आरोपी की बेल एप्लीकेशन पर सुनवाई कर सकता है। लेकिन ये कहीं से भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है कि पीड़िता की जन्म कुंडली खंगाली जाए।
Written by: shailendragautam
July 11, 2023 16:01 IST
हाईकोर्ट खंगाल रहा था रेप पीड़िता की जन्म कुंडली  sc पहुंचा मामला तो भौचक हुए जस्टिस  जानिए फिर क्या हुआ
तस्वीर का इस्तेमाल प्रस्तुतीकरण के लिए किया गया है (Source- Indian Express)
Advertisement

दुष्कर्म के एक मामले में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस उस समय भौचक रह गए जब उनको पता चला कि इलाहाबाद हाईकोर्ट पीड़िता की जन्म कुंडली खंगाल रहा है। टॉप कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए स्वतः संज्ञान लेकर खुद इस मामले की सुनवाई शुरू की थी। दोनों जस्टिस हैरत में थे कि रेप केस में कुंडली खंगालने की जरूरत क्यों पड़ी। इस सारी कवायद का आपराधिक मामले से क्या लेनादेना है? ऐसा लग रहा था कि सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट के फैसले पर तल्ख टिप्पणी कर कोई फैसला ले सकता है। लेकिन आज इस मामले को निपटा कर बंद कर दिया गया।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के पास पीड़िता से शिकायत की थी कि आरोपी ने शादी का झांसा देकर उसके साथ कई बार रेप किया। जबकि दूसरे पक्ष का कहना था कि वो शादी से पीछे नहीं हट रहा। लेकिन विवाह इस वजह से नहीं हो सका, क्योंकि लड़की मांगलिक है।

Advertisement

HC के जस्टिस बृजराज सिंह ने दिया था 10 दिन के भीतर कुंडली खंगालने का आदेश

अजीबोगरीब हालात से सकते में आए हाईकोर्ट के जस्टिस बृजराज सिंह ने दोनों पक्षों की सहमति के बाद फैसला लिया कि लखनऊ विवि के एस्ट्रोलॉजी विभाग के अध्यक्ष ये पता लगाए कि लड़की वाकई मांगलिक है भी या नहीं। हालांकि आदेश पर अमल हो पाता कि इससे पहले ही सुप्रीम कोर्ट की नजर इस पर पड़ गई।

SC के जस्टिस सुधांशु धूलिया ने पूछा- रेप केस से कुंडली का क्या लेनादेना है

जस्टिस सुधांशु धूलिया जस्टिस पंकज मित्तल की बेंच ने हाईकोर्ट के आदेश पर तुरंत रोक लगाकर स्वतः संज्ञान लेते हुए मामले की सुनवाई शुरू की। जस्टिस धूलिया का सवाल था कि हाईकोर्ट आरोपी की बेल एप्लीकेशन पर सुनवाई कर सकता है। लेकिन ये कहीं से भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है कि पीड़िता की जन्म कुंडली खंगाली जाए। हालांकि एक पक्ष की दलील थी कि ज्योतिष विज्ञान अहम विषय है। लखनऊ विवि में भी इसे लेकर कोर्स चलाया जा रहा है। जस्टिस धूलिया का कहना था कि ज्योतिष विज्ञान को वो नहीं नकार रहे लेकिन रेप केस में इसका क्या औचित्य है?

हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने तब इस याचिका को निपटाते हुए खत्म कर दिया जब सरकार और शिकायतकर्ता की तरफ से बताया गया कि आरोपी की बेल एप्लीकेशन खारिज की जा चुकी है। पुलिस ने भी इस मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी है। लिहाजा हाईकोर्ट के फैसले की तह में जाने की तुक नहीं बनती। टॉप कोर्ट ने याचिका को ही बंद कर दिया।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो