scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'शादी में मिलने वाले गिफ्ट की बने लिस्ट, दूल्‍हा-दुल्‍हन उस पर करें साइन' हाईकोर्ट ने सुनाया अहम फैसला

Allahabad High Court : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि 'दहेज निषेध अधिनियम, 1961 की धारा 3(2) को लागू करने के लिए अहम फैसला सुनाया है। इसमें शादी में मिलने वाले गिफ्ट की लिस्ट बनाने को कहा है।
Written by: न्यूज डेस्क
May 16, 2024 11:47 IST
 शादी में मिलने वाले गिफ्ट की बने लिस्ट  दूल्‍हा दुल्‍हन उस पर करें साइन  हाईकोर्ट ने सुनाया अहम फैसला
इलाहाबाद हाईकोर्ट
Advertisement

शादी में मिलने वाले गिफ्ट और दहेज को लेकर कई बार मामले कोर्ट तक पहुंच जाते हैं। दहेज उत्पीड़न के मामले में कई बार झूठे केस भी दर्ज किए जाते हैं। ऐसे ही मामलों के संज्ञान में आने के बाद हाईकोर्ट ने अहम टिप्पणी की है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने दहेज निषेध अधिनियम, 1961 की धारा 3(2) के तहत विवाह के समय दूल्हा या दुल्हन को मिले उपहारों की सूची बनाए रखने के महत्व को रेखांकित किया है। हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि शादी में मिलने वाले गिफ्ट की लिस्ट बनाई जाए। इस लिस्ट पर दूल्हा और दुल्हन के साइन भी होने चाहिए। इस मामले में अगली सुनवाई 23 मई को होगी।

हाईकोर्ट ने क्यों की टिप्पणी

हाईकोर्ट का मानना है कि यह झूठे दहेज के आरोपों और इसके बाद होने वाले विवादों को रोकने में यह मदद करेगा। हाईकोर्ट में जस्टिस विक्रम डी. चौहान ने कहा कि गिफ्ट की सूची पर दोनों पक्षों और उनके परिवार के सदस्यों को बाद में शादी में दहेज लेने या देने का झूठा आरोप लगाने से रोकने में मदद करेगी। कोर्ट ने अगली सुनवाई पर सरकार से हलफनामा दाखिल करने को कहा है। इसमें सरकार को बताना होगा कि दहेज प्रतिषेध अधिनियम के रूल 10 के अन्तर्गत कोई नियम प्रदेश सरकार ने बनाया है?

Advertisement

दहेज लेने पर कितनी सजा का प्रावधान

बता दें कि दहेज निषेध अधिनियम, 1961 की धारा 3 में दहेज देने या लेने पर कम से कम 5 साल की सजा का प्रावधान है। इसके अलावा कम से कम 50000 रुपये या दहेज के मूल्य के बराबर राशि, जो भी अधिक हो, जुर्माने का प्रावधान है। इस कानून के मुताबिक विवाह के समय दूल्हे या दुल्हन को जो उपहार दिए जाते हैं और जिनकी मांग नहीं की गई है। उन्हें दहेज की नहीं माना जा सकता है। अगर ऐसे उपहारों की सूची नियम के अनुसार बनाई गई हो। दहेज निषेध (दूल्हे और दुल्हन को उपहारों की सूची का रखरखाव) नियम, 1985 का नियम 2 धारा 3(2) के तहत उपहारों की सूची को बनाए रखने के तरीके को निर्धारित करता है।

कोर्ट ने क्या कहा

हाईकोर्ट ने कहा कि विधायिका ने जानबूझकर शादी में दूल्हा और दुल्हन को मिलने वाले गिफ्ट को दहेज की परिभाषा से बाहर रखा है। हालांकि इस छूट का फायदा लेने के लिए दूल्हा-दुल्हन को गिफ्ट की सूची बनानी जरूरी है। यह लिस्ट दहेज के आरोपों को खत्म करने के लिए एक उपाय के रूप में भी काम करेगी जो बाद में वैवाहिक विवाद में लगाए जाते हैं।