scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'मैं कोई नकली राष्ट्रवादी नहीं हूं', दानिश अली बोले- हिंदू-मुस्लिम की कोशिश कर रही बीजेपी, मायावती को लेकर जानिए क्या कहा?

Lok Sabha Elections: दानिश अली ने 2019 में 63,000 वोटों से जीत हासिल की थी। वो पिछले साल तब सुर्खियों में आए जब भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी ने संसद के अंदर अन्य बातों के अलावा उन्हें 'आतंकवादी' कहा था। इस घटना के बाद काफी हंगामा हुआ था। यहां तक की राहुल गांधी ने दानिश अली से मुलाकात की थी।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: April 13, 2024 13:56 IST
 मैं कोई नकली राष्ट्रवादी नहीं हूं   दानिश अली बोले  हिंदू मुस्लिम की कोशिश कर रही बीजेपी  मायावती को लेकर जानिए क्या कहा
Lok Sabha Elections: उत्तर प्रदेश की अमरोहा लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार दानिश अली मुस्लिम समाज के लोगों से मुलाकात करते हुए। (@KDanishAli)
Advertisement

Amroha Lok Sabha Seat: मैं कोई नकली राष्ट्रवादी नहीं हूं। बीजेपी चाहकर भी इन चुनावों में हिंदू-मुसलमान नहीं कर पा रही है'। यह बात कुंवर दानिश अली ने न्यूज 18 को दिए एक इंटरव्यू में कही है। दानिश अली 2024 का लोकसभा चुनाव पश्चिमी उत्तर प्रदेश की अमरोहा लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। उन्होंने 2019 में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल के साथ गठबंधन करते हुए बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार के रूप में जीत हासिल की।

दानिश अली को इस बार कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि उन्हें अभी भी सपा का तो समर्थन प्राप्त है, लेकिन इस बार बसपा ने भी अमरोहा से एक मुस्लिम उम्मीदवार को मैदान में उतारा है, जबकि भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद कुंवर सिंह तंवर अब रालोद के समर्थन से फिर से चुनाव लड़ रहे हैं। जमीनी स्तर पर कुंवर सिंह तंवर मजबूत अभियान चलाते नजर आ रहे हैं। दानिश अली ने 2019 में 63,000 वोटों से जीत हासिल की थी।

Advertisement

अमरोहा लोकसभा सीट पर हुए चुनाव में कौन-कितनी बार जीता?

सालप्रत्याशीपार्टीकुल वोट
2019कुंवर दानिश अलीबसपा601082
2014कुंवर सिंह तनवरबीजेपी528880
2009देवेंद्र नागपालआरएलडी283182
2004हरीश नागपालIND287522
1999राशिद अल्वीबसपा337919
1998चेतन चौहानबीजेपी295603
1996प्रताप सिंहसमाजवादी पार्टी257905
1991चेतन चौहानबीजेपी225805
1989हर गोविंदJD271559
1984रामपाल सिंहकांग्रेस181642
1980चंद्रपाल सिंहJNP(S)132602
1977चंद्रपाल सिंहBLD209895
1971इशाक संभलीCPI92580

दानिश अली पिछले साल तब सुर्खियों में आए जब भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी ने संसद के अंदर अन्य बातों के अलावा उन्हें "आतंकवादी" कहा था। इस घटना के बाद काफी हंगामा हुआ था। यहां तक की राहुल गांधी ने दानिश अली से मुलाकात की थी। राहुल की मुलाकात के बाद यह साफ हो गया था कि दानिश बसपा छोड़ कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं, हालांकि हुआ भी वैसा। दानिश बसपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे। वहीं भाजपा ने बिधूड़ी का टिकट काट दिया।

दानिश अली ने कहा, 'अमरोहा के लोगों ने देखा कि संसद में मेरे साथ क्या हुआ। मैं गांधीवादी, अंबेडकरवादी और समाजवादी व्यक्ति हूं…मैं नकली राष्ट्रवादी नहीं हूं।'

Advertisement

भाजपा द्वारा बिधूड़ी को टिकट नहीं दिए जाने के बारे में पूछे जाने पर हसनपुर में मुस्लिम मतदाताओं ने कहा कि यह सत्तारूढ़ पार्टी का आंतरिक मामला है, लेकिन संसद में अपशब्दों की गूंज जमीनी स्तर पर लोगों के बीच सुनाई देती है, जो कहा गया वह कई स्तरों पर गलत था। हम सभी लोग अली के साथ हैं।

Advertisement

हिंदू त्योहारों के दौरान मांसाहारी भोजन के लेकर अली ने कहा कि देखिए, उन्हें (भाजपा) ध्रुवीकरण करने का कोई मौका नहीं मिल रहा है। लोग इसे समझ चुके हैं और सरकार को सबक सिखाने के लिए तैयार हैं। पिछले 10 वर्षों में आपके पास दिखाने के लिए कुछ नहीं है, इसलिए आप ऐसे बयान देते हैं। उन्होंने कहा कि कौन क्या खाता है, क्या पीता है, क्या हमारी लड़कियां जींस या स्कर्ट पहनती हैं, या अपना सिर ढकती हैं। उन्हें अपनी इच्छानुसार रहने की आज़ादी है। यह कोई प्रासंगिक मुद्दा भी नहीं है। प्रासंगिक मुद्दा यह है कि क्या किसानों की आय दोगुनी हो गई है? अली ने कहा, हमारी सोच यह है कि कोई क्या खाना या पहनना चाहता है, यह उसकी आजादी है।

बसपा ने अली को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त कर दिया था और वह बाद में इस साल कांग्रेस में शामिल हो गए थे। इसको लेकर अली ने कहा कि मायावती मुझसे नाराज नहीं हैं… हम अपनी विचारधारा के साथ दृढ़ विश्वास के साथ हैं और बीजेपी को केवल इंडिया ब्लॉक द्वारा ही हराया जा सकता है और हमने कोशिश की थी कि मायावती हमारे साथ आएं और विपक्ष एकजुट हो।

उन्होंने कहा कि अमरोहा में उनका एजेंडा राहुल गांधी जैसा ही है। देश में किसानों, युवाओं और महिलाओं को न्याय मिलना चाहिए। इसको लेकर राहुल गांधी ने देश में दो यात्राएं निकाली हैं।

दानिश अली ने कहा कि आज समाज के सभी वर्ग परेशान हैं। युवाओं को नौकरी चाहिए। सबने देखा है कि जब युवा नौकरी मांगने लखनऊ गये तो उन्हें लाठियों से पीटा गया। सरकार पेपर लीक कराती है क्योंकि वह नौकरियां नहीं देना चाहती।

अली ने दावा करते हुए कहा कि बसपा का मुस्लिम उम्मीदवार वोटों का बंटवारा नहीं कर पाएगा। उन्होंने कहा, ''मुझे बड़ी संख्या में एससी वोट मिल रहे हैं…सभी समुदाय मुझे वोट दे रहे हैं।

दानिश अली ने अपने बीजेपी उम्मीदवार को चैलेंजर की भूमिका को खारिज कर दिया। उन्होंने कुंवर तंवर को बहुत पैसे वाला बड़ा व्यवसायी कहा। अली ने कहा कि उन्हें अपने व्यवसाय पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि तंवर का अमरोहा के बाहरी इलाके में एक बड़ा फार्महाउस है, जिसमें एक हेलीपैड भी है। लोगों ने उन्हें हराने से पहले उनका पांच का साल कार्यकाल भी देखा है। उन्हें अपना व्यवसाय करना चाहिए।

कांग्रेस प्रत्याशी ने कहा कि 2014-19 में तंवर के कार्यकाल की तुलना में अमरोहा के लोगों ने देखा है कि उन्होंने संसद में उनकी समस्याओं को कैसे उठाया। उन्होंने कहा कि यह सीट बदनाम रही है कि कोई भी पैसे वाला व्यक्ति यहां आता है और जीत कर चला जाता है। मैंने लोगों के समर्थन से इस मिथक को तोड़ा और इस मिथक को फिर से तोड़ूंगा… पैसे वाले और व्यवसायी लोग लोगों की सेवा नहीं कर सकते, क्योंकि वे अपने व्यवसाय में व्यस्त हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि सिर्फ मुसलमान ही नहीं, बल्कि ऊंची जातियां भी इस बार बीजेपी के खिलाफ हैं।

हालांकि, अमरोहा में भाजपा खेमा जीत के प्रति आश्वस्त है, जो बताता है कि राहुल गांधी या प्रियंका गांधी वाड्रा जैसे शीर्ष कांग्रेस नेतृत्व अभी तक अली के लिए प्रचार करने नहीं आए हैं।

कांग्रेस के यूपी प्रभारी अविनाश पांडे शुक्रवार को हसनपुर में अली की एक रैली में मौजूद थे और स्थानीय समाजवादी पार्टी विधायक ने इसका आयोजन किया था। पांडे ने भीड़ को आश्वासन दिया, "बहुत जल्द, आपके पास राहुल गांधी और प्रियंका गांधी यहां प्रचार करेंगे। सात चरणों में होने वाले लोकसभा चुनाव के दूसरे दौर में 26 अप्रैल को अमरोहा में मतदान होगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो