scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मुख्तार अंसारी से लोग खौफजदा, ऐसे लोगों का माननीय बनना दुर्भाग्यपूर्ण- जमानत अर्जी को ठुकराकर बोला इलाहाबाद HC

Ambulance Case: बेंच के सामने एक तस्वीर रिकॉर्ड पर रखी गई थी, जिसमें दिखाया गया था कि कैसे अंसारी मऊ की एक अदालत में उस एम्बुलेंस में अपने आदमियों के साथ आया था।
Written by: Kamal Kumar | Edited By: कमल तिवारी
Updated: July 23, 2022 19:35 IST
मुख्तार अंसारी से लोग खौफजदा  ऐसे लोगों का माननीय बनना दुर्भाग्यपूर्ण  जमानत अर्जी को ठुकराकर बोला इलाहाबाद hc
मुख्तार अंसारी (सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस- विशाल श्रीवास्तव)
Advertisement

Ambulance Case: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बाराबंकी एम्बुलेंस मामले में बहुजन समाज पार्टी के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी को जमानत देने से इनकार कर दिया। याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस दिनेश कुमार सिंह की सिंगल बेंच ने मुख्तार अंसारी पर अहम टिप्पणी की और कहा कि इस बात की आशंका है कि अगर आरोपी जमानत पर छूटता है तो वह गवाहों को प्रभावित करेगा और सबूतों से भी छेड़छाड़ करेगा।

कोर्ट ने यह भी कहा कि यह दुखद है कि अंसारी जैसे अपराधी माननीय बन जाते हैं। बेंच ने कहा, "यह भारतीय गणतंत्र की विडंबना और त्रासदी है, भारतीय लोकतंत्र पर सबसे बड़ा धब्बा है कि वर्तमान आरोपी-याचिकाकर्ता जैसे अपराधी माननीय हैं।" कोर्ट ने कहा कि आरोपी पूर्व विधायक का लोगों के दिलो-दिमाग में भय है और जमानत पर रिहा होने पर वह सबूतों से छेड़छाड़ कर सकता है।

Advertisement

कोर्ट उस मामले की सुनवाई कर रहा था जिसमें अंसारी पर जाली दस्तावेजों के जरिए एम्बुलेंस का रजिस्ट्रेशन हासिल करने और जेल से कोर्ट आने-जाने के लिए अत्याधुनिक हथियारों से लैस मुख्तार के आदमियों द्वारा इस एंबुलेंस का इस्तेमाल करने का आरोप है। एफआईआर के मुताबिक, डॉक्टर अलका राय के नाम पर इस एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन था।

डॉ अलका राय के नाम पर था एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन

वहीं, 2021 में यह सामने आया कि एम्बुलेंस बिना फिटनेस और इंश्योरेंस के चलाई जा रही थी क्योंकि उक्त एम्बुलेंस का फिटनेस 2017 में खत्म हो गया था। इस मामले में डॉक्टर अलका राय को सह-आरोपी बनाया गया था। जांच के दौरान यह पता चला कि एंबुलेंस का वास्तव में इस्तेमाल अंसारी के आदमी करते थे और उन्होंने डॉ. अलका राय पर दबाव बनाकर और उनको पैसे देकर इसे खरीदा था।

अंसारी पर आईपीसी की धारा के तहत धोखाधड़ी, जालसाजी, आपराधिक साजिश, झूठी सूचना देने और आपराधिक धमकी देने का मामला दर्ज किया गया था। बेंच के सामने एक तस्वीर रिकॉर्ड पर रखी गई थी, जिसमें दिखाया गया था कि कैसे मुख्तार अंसारी मऊ की एक अदालत में उस एम्बुलेंस में अपने आदमियों के साथ आया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो