scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Married Interfaith Couple: अंतरधार्मिक जोड़े को इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत, यूपी पुलिस की एफआईआर को किया रद्द; जानिए पूरा मामला

Allahabad High Court: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अंतरधार्मिक जोड़े के खिलाफ दर्ज की गई यूपी पुलिस की एफआईआर को रद्द कर दिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: April 05, 2024 13:02 IST
married interfaith couple  अंतरधार्मिक जोड़े को इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत  यूपी पुलिस की एफआईआर को किया रद्द  जानिए पूरा मामला
Allahabad High Court: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने यूपी पुलिस की एफआईआर को रद्द कर दिया है। (PTI)
Advertisement

Allahabad High Court: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने हाल ही में एक विवाहित अंतरधार्मिक जोड़े के खिलाफ आपराधिक मामले को रद्द कर दिया। इस जोड़े के खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस ने यूपी गैरकानूनी धर्म परिवर्तन निषेध अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया था।

जस्टिस महेश चंद्र त्रिपाठी और जस्टिस गजेंद्र कुमार की डिवीजन बेंच ने कहा कि पति-पत्नी दोनों बालिग हैं। आरोपी महिला ने भी स्पष्ट बयान दिया कि वह अपनी मर्जी से आरोपी पुरुष के साथ रह रही थी।

Advertisement

शादी के बाद दोनों ने नहीं बदला अपना धर्म

कोर्ट ने महिला के इस बयान पर भी गौर किया कि उसने और उसके पति ने शादी के बाद अपना धर्म नहीं बदला है। यह भी पता चला कि जोड़े ने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी की थी, जो विभिन्न धर्मों के लोगों को शादी करने की अनुमति देता है।

लड़की की उम्र पर विवाद नहीं तो अपराध नहीं बनता- कोर्ट

हाई कोर्ट ने कहा कि दोनों पति-पत्नी बालिग हैं। सीआरपीसी की धारा 164 के तहत महिला के बयान से इतना स्पष्ट है कि वो अपने पुरुष साथी के साथ स्वेच्छा रह रही है। ऐसे में अगर लड़की की उम्र पर कोई विवाद नहीं है तो दोनों के खिलाफ कथित अपराध नहीं बनता है। क्योंकि लड़की अपने पुरुष साथी के साथ रहने के लिए अपना घर छोड़ चुकी है।

इसके बाद कोर्ट ने भारतीय दंड संहिता और धर्मांतरण विरोधी कानून के विभिन्न प्रावधानों के तहत दिसंबर 2023 में अलीगढ़ पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर को रद्द कर दिया।

Advertisement

दंपति ने FIR रद्द करने और सुरक्षा को लेकर खटखटाया था कोर्ट का दरवाजा

दंपति ने एफआईआर को रद्द करने के साथ-साथ गिरफ्तारी से सुरक्षा के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट को बताया गया कि जोड़े ने 2022 में स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी की थी।

Advertisement

कोर्ट ने पुलिस को दंपति को गिरफ्तार करने से रोकते हुए जांच अधिकारी को महिला को उसका बयान दर्ज करने के लिए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने का निर्देश दिया था।

बयान में महिला ने खुलासा किया था कि उसके पिता ने उसे पीटा था। उसने आगे कहा कि उसने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत उस व्यक्ति से शादी की थी। महिला ने यह भी बताया कि उसने आज तक अपना धर्म नहीं बदला है। इस पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने एफआईआर रद्द कर दी।

क्या कहता है धर्मांतरण विरोधी कानून?

बता दें, 2021 में पारित धर्मांतरण विरोधी कानून गलत बयानी, बल, धोखाधड़ी, अनुचित प्रभाव, जबरदस्ती और प्रलोभन द्वारा एक धर्म से दूसरे धर्म में गैरकानूनी धर्मांतरण पर रोक लगाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो