scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या होता है कमर और क़मर में अंतर, जानें उर्दू में दोस्त को क्या पुकारते हैं?

इस लेख में हम क़मर और कमर शब्दों के अंतर के बारे में जानेंगे। साथ ही पता करेंगे कि दोस्त को उर्दू में क्या कहकर पुकारते हैं?
Written by: ट्रेंडिंग न्‍यूज टीम | Edited By: ALOK SRIVASTAVA
Updated: March 12, 2024 21:02 IST
क्या होता है कमर और क़मर में अंतर  जानें उर्दू में दोस्त को क्या पुकारते हैं
प्रतीकात्मक तस्वीर।
Advertisement

सूफी शैली के प्रसिद्ध कव्वाल नुसरत फतह अली खान ने बहुत पहले एक गजल गाई थी ‘मेरे रश्क ए क़मर तू ने पहली नज़र, जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया…।’ यह गजल खूब हिट हुई और अब भी खासी पसंद की जाती है। आपको इंटरनेट पर इसके सैकड़ों वर्जन सुनने और देखने को मिल जाएंगे। बाद में राहत फतेह अली खान ने भी इसे गाया। वह भी काफी प्रसिद्ध हुआ।

जब यह गजल गाई गई तो बहुत से लोगों ने इसको ‘रक़्स-ए-कमर’ समझा। ऐसे लोगों ने ‘रक़्स’ का मतलब ‘नृत्य’ और ‘क़मर’ का मतलब कमर (Waist) निकाला। हालांकि, यहां क़मर का मतलब कमर से नहीं है। दरअसल, यह गलतफहमी ‘क़मर’ और ‘कमर’ में फर्क नहीं जानने के कारण पैदा हुई। इस लेख में हम जानेंगे कि क़मर और कमर में क्या अंतर होता है। यही नहीं, यह भी जानेंगे कि उर्दू में मित्र को क्या पुकारते हैं?

Advertisement

क़मर का मतलब होता है चांद

चलिए पहले क़मर और कमर में अंतर जानते हैं। क़मर का मतलब होता है चांद। उपरोक्त गजल में भी क़मर का अर्थ चांद के लिए ही इस्तेमाल हुआ है। क़मर एक अरबी का शब्द है जो उर्दू में भी इस्तेमाल भी होता है, इसलिए लोगों के नाम भी क़मर होता है। उदाहरण के तौर पर क़मरजहां। वहीं पेट और पीठ के नीचे पड़ने वाले घेरे को परिभाषित करने के लिए कमर का इस्तेमाल किया जाता है। कुश्ती में एक दांव कमर भी होता है। इस दांव का इस्तेमाल कमर या कूल्हे द्वारा किए जाने के कारण ही इसे कमर वाला दांव बोलते हैं।

दोस्त को कहते हैं अहबाब

मित्र, दोस्त, प्रियजन या मित्र मंडली को उर्दू में अहबाब कहते हैं। अहबाब एक अरबी शब्द है। उर्दू में भी इसका दोस्त के लिए ही इस्तेमाल होता है। नासिर काजमी की एक गजल है:- ‘ये हकीकत है कि अहबाब को हम याद ही कब थे, जो अब याद नहीं।’ कतील शिफाई ने भी अपनी नज्म में अहबाब का कुछ इस तरह इस्तेमाल किया है। उन्होंने लिखा, ‘अहबाब को दे रहा हूं धोखा, चेहर पर खुशी सजा रहा हूं।’ अहबाब का अर्थ सर्वाधिक प्रिय, सबसे प्यारा या बहुत प्यारा और बहुत मिलनसार भी होता है।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो