scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Telangana MLA Poaching Case: सीएम ने आरोपियों की सरेआम निंदा की तो हमें लगा कि SIT नहीं कर पाएगी निष्पक्ष जांच, मामले को CBI के हवाले करने पर बोला हाईकोर्ट

Telangana MLA Poaching Case: ध्यान रहे कि मामले में बीजेपी के दिग्गज बीएल संतोष को भी आरोपी बनाया गया है। फिलहाल मामले की जांच सीबीआई करने जा रही है।
Written by: shailendragautam
Updated: December 29, 2022 15:41 IST
telangana mla poaching case  सीएम ने आरोपियों की सरेआम निंदा की तो हमें लगा कि sit नहीं कर पाएगी निष्पक्ष जांच  मामले को cbi के हवाले करने पर बोला हाईकोर्ट
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव। (फोटो सोर्स: ANI)।
Advertisement

Telangana MLA Poaching Case: तेलंगाना के विधायकों की खरीद फरोख्त के मामले को सीबीआई के हवाले करने के पीछे हाईकोर्ट ने तर्क दिया कि जब सीएम के चंद्रशेखऱ राव ने सरेआम आरोपियों कि निंदा करके उनको दोषी ठहराया तो हमें लगा कि राज्य सरकार की SIT मामले की निष्पक्ष जांच नहीं कर पाएगी। इसी तथ्य को ध्यान में रखते हुए केस को सीबीआई के हवाले किया गया।

ध्यान रहे कि मामले में बीजेपी के दिग्गज बीएल संतोष को भी SIT ने आरोपी बनाया है। लेकिन एंटी करप्शन ब्यूरो की एक विशेष अदालत ने छह दिसंबर को SIT की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें संतोष और तीन अन्य को मामले में आरोपी बनाया गया था।

Advertisement

तेलंगाना पुलिस ने TRS (अब BRS) के 4 विधायकों को खरीदने की कोशिश का खुलासा किया था। साइबराबाद पुलिस के मुताबिक एक फार्म हाउस की तलाशी के दौरान 3 लोगों को अरेस्ट किया गया। ये तीनों केसीआर के विधायकों को खरीदने आए थे। इनके पास से नकदी और चेक भी बरामद किए गए। TRS ने इस पूरे मामले में बीजेपी को दोषी ठहराया। TRS के जिन विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई, उनमें गुववाला बलाराजू, बीरम हर्षवर्धन, पायलट रोहित रेड्डी, रेगा कंथाराव शामिल हैं।

खरीद फरोख्त का मामला सामने आने के बाद कई नाटकीय घटनाक्रम सामने आए। तेलंगाना पुलिस ने बीजेपी नेता बीएल संतोष पर शिकंजा करने की कोशिश की तो बीजेपी ने मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने की दरखास्त हाईकोर्ट में की। पहले हाईकोर्ट ने SIT को जांच करने का मौका दिया। लेकिन फिर जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई।

साइबराबाद पुलिस का दावा है कि गुप्त सूचना के आधार पर अजीज नगर के एक फार्म हाउस पर छापेमारी की तो नकदी और चेक बरामद हुए। पुलिस का दावा है कि विधायकों की डील 100 करोड़ रुपए से अधिक की भी हो सकती थी। TRS ने ट्विटर पर वीडियो शेयर किया था। इसमें होटल व्यवसायी नंदू दिखे। नंदू पर ही विधायकों को खरीदने के आरोप लगे हैं। TRS ने नंदू की केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी के साथ फोटो भी शेयर की थी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो