scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Neuralink Brain Chip: एलन मस्क का नया कारनामा, इंसानी दिमाग में फिट कर दी चिप, आएगी नई क्रान्ति!

Human Brain Chip Implant, Elon Musk Neuralink: एलन मस्क का कहना है कि जिस शख्स के दिमाग में चिप लगाई गई है, उसकी सेहत तेजी से ठीक हो रही है।
Written by: Naina Gupta | Edited By: Naina Gupta
Updated: January 31, 2024 17:25 IST
neuralink brain chip  एलन मस्क का नया कारनामा  इंसानी दिमाग में फिट कर दी चिप  आएगी नई क्रान्ति
Neuralink Brain Chip: एलन मस्क ने न्यूरालिंक ब्रेन चिप लगाने की जानकारी दी है।
Advertisement

First Brain Chip in Human: अरबपति एलन मस्क ने आखिरकार वो कर दिखाया है जो अब तक कोई नहीं कर पाया। दुनिया के सबसे रईस शख्स एलन मस्क ने X (Twitter) पर जानकारी दी है कि उनके टेक स्टार्टअप Neuralink ने सफलतापूर्वक इंसानी मस्तिष्क में ब्रेन चिप लगा दी है। मस्क का कहना है कि वह शख्स पूरी तरह से ठीक है।

इंटरनेट को हिंदी में क्या कहते हैं? अच्छे-अच्छों की सिट्टी-पिट्टी हो जाएगी गुल

Advertisement

X पर एक पोस्ट में मस्क ने बताया कि इस ब्रेन चिप को 'टेलिपैथी (Telepathy)' कहा जाता है। उन्होंने कहा कि इस ब्रेन चिप को लगाने के बाद कोई भी शख्स अपने आसपास मौजूद गैजेट्स को सोचने मात्र से ही कंट्रोल किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि इस ब्रेन चिप का फायदा सबसे पहले उन लोगों को मिलेगा जो दिव्यांग हैं। बता दें कि मस्क ने मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग (Stephen Hawking) का हवाला दिया था।

मस्क के मुताबिक, शुरुआती तौर पर देखने से पता चलता है कि इंसानी हलचल में काफी इजाफा हुआ है। इसका मतलब है कि जिस शख्स के दिमाग में चिप लगाई गई है, उसने नर्व इंपल्स में भी बढ़ोतरी दिखाई है। बता दें कि पिछले साल (2023) मई में US FDA ने मस्क की कंपनी को ब्रेन चिप इंप्लांट के लिए इंसानों का इस्तेमाल करने के लिए हरी झंडी दे दी थी।

न्यूरालिंक की वेबसाइट पर पब्लिश जानकारी के मुताबिक, सफलतापूर्वक लगाई गई ब्रेन चिप को इंस्टीट्यूशनल रिव्यू बोर्ड से मंजूरी मिल गई है।

Advertisement

What is Neuralink?

बता दें कि न्यूरालिंक अरबपति कारोबारी एलन मस्क का एक स्टार्टअप है। इसकी शुरुआत साल 2016 में कुछ वैज्ञानिकों और इंजीनियर्स ने मिलकर की थी। यह कंपनी ब्रेन चिप इंटरफेस बनाने का काम करती है। इन चिप को इंसानी दिमाग में इंप्लांट किया जा सकता है।

Advertisement

जानकारों का मानना है कि इस ब्रेन चिप से उन लोगों को मदद मिलेगी जो चल-फिर नहीं सकते। यानी शारीरिक रूप से अक्षम लोगों की जीवन में यह चिप बड़ा बदलाव लेकर आ सकती है। सिर्फ सोचने भर से यह चिप उनके आसपास मौजूद डिवाइसेज को कंट्रोल कर पाएगी और वह पहले से बेहतर जिंदगी जी सकेंगे। इस ब्रेन चिप की मदद से न्यूरल सिग्नल को कंप्यूटर, फोन जैसी स्मार्ट गैजेट्स पर ट्रांसमिट किया जा सकेगा।

लेकिन ब्रेन चिप की सफलता एक तरफ और मस्क की आलोचना दूसरी तरफ है। मस्क की कंपनी को इस ब्रेन चिप के लिए आलोचना भी झेलनी पड़ रही है। बता दें कि कंपनी ने इस चिप को लगाने के लिए लैब में जानवरों पर परीक्षण किए थे।

2022 में कंपनी को अमेरिका में जांच भी झेलनी पड़ी थी। मस्क की कंपनी पर आरोप था कि चूहे, बंदर, सुअर समेत करीब 1500 से ज्यादा जानवरों की जान ले ली। लेकिन कंपनी ने िन सभी आरोपों का खंडन किया था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो