scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

तमिलनाडु में जहरीली शराब पीने से अब तक 12 लोगों की मौत, एम. के स्टालिन सरकार को घेरने में जुटा विपक्ष

तमिलनाडु में जहरीली शराब पीने के बाद हुई मौतों की घटना के सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है और पुलिस अन्य लोगों की तलाश कर रही है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: नीलम राजपूत
May 15, 2023 10:23 IST
तमिलनाडु में जहरीली शराब पीने से अब तक 12 लोगों की मौत  एम  के स्टालिन सरकार को घेरने में जुटा विपक्ष
तमिलनाडु में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की मौत (फोटो- वीडियो ग्रैब/ ANI Twitter)
Advertisement

तमिलनाडु में जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा 12 तक पहुंच गया है। यहां चेंगलपट्टू और विल्लपुरम में जहरीली शराब पीने से एक महिला समेत 12 लोगों की मौत हो गई है। मुख्यमंत्री एम. के. स्टालिन ने बताया कि इस घटना के बाद राज्य के 4 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

इससे पहले पुलिस अधिकारियों ने बताया था कि जहरीली शराब पीने के बाद पांच लोगों को शनिवार देर रात एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इनमें से तीन की यहां मौत हो गई थी। इसके बाद बाकी तीन लोगों की रविवार को मौत हो गई थी। मरने वालों में एक महिला भी शामिल थी। घटना के सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है और पुलिस अन्य लोगों की तलाश कर रही है।

Advertisement

अधिकारियों ने बताया कि यह घटना विल्लुपुरम के निकट मरकानम के एक्कियारकुप्पम में शनिवार रात हुई। वहीं, मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने जहरीली शराब और नशीले पदार्थों के खतरे से निपटने के अपनी सरकार के संकल्प का जिक्र करते हुए कहा कि इस घटना के सिलसिले में दो निरीक्षकों समेत 4 पुलिसकर्मियों कोनिलंबित कर दिया गया है।

उन्होंने इस घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दिए जाने की भी घोषणा की। वहीं, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) ने इस घटना को लेकर राज्य सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। अन्नाद्रमुक के महासचिव और नेता प्रतिपक्ष के. पलानीस्वामी ने कहा कि उनकी सरकार के दस साल के शासन (2011 से 2021 तक) में अवैध शराब के लिए कोई जगह नहीं थी। उन्होंने इस घटना के लिए सत्तारूढ़ दल द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) को जिम्मेदार ठहराया।

Advertisement

उन्होंने ट्वीट कर कहा, "कम से कम अब तो अवैध शराब के खिलाफ कदम उठाए जाने चाहिए।" पट्टाली मक्कल काची (पीएमके) के संस्थापक डॉ. एस. रामदास ने जहरीली शराब की बिक्री को लेकर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो