scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

रविवारी सेहत: दिवाली पर जब जलाने हों पटाखे तो रहें सावधान, शरीर को न हो नुकसान

हरित पटाखों में पर्यावरण के लिए नुकसानदायक रसायन शामिल नहीं होते हैं। इसलिए इनसे प्रदूषण में 30-40 फीसद तक की कमी आती है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
Updated: November 12, 2023 11:13 IST
रविवारी सेहत  दिवाली पर जब जलाने हों पटाखे तो रहें सावधान  शरीर को न हो नुकसान
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर। फोटो- (इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

दिवाली के दिन न, न करते हुए भी बच्चे कहां बाज आते हैं। वे कहीं न कहीं से पटाखे ले ही आते हैं और खूब हो-हल्ला करते हुए जलाते हैं। वायु, ध्वनि प्रदूषण व स्थान विशेष के सरकारी नियमों को ध्यान में रखते हुए यूं तो पटाखे जलाने से बचना चाहिए। लेकिन, पटाखे जला भी रहे हैं तो पूरी सावधानी बरतनी चाहिए, अन्यथा थोड़ी सी लापरवाही होने पर आंखों और त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है।

Advertisement

आज पटाखों को लेकर सबसे पहली सावधानी यह कि आप किस जगह पर रह रहे हैं और वहां प्रदूषण व इससे जुड़े नियम-कानूनों की स्थिति कैसी है। पटाखे तो दिवाली के त्योहार के साथ ऐसे जुड़ गए हैं कि कुछ लोग शगुन के तौर पर भी थोड़ी रोशनी और आवाज चाहते हैं। सिर्फ बच्चे ही नहीं बड़ों को भी पटाखों के बिना दिवाली फीकी सी लगती है। खास बात यह है कि देश में सभी जगहों का जनसंख्या घनत्व और उपभोक्ता सूचकांक भी एक जैसा नहीं होता व सांस्कृतिक विविधता भी होती है। इसलिए पटाखों के संदर्भ में सबसे पहले अपने विवेक का इस्तेमाल करना चाहिए।

Advertisement

परेशानी से बचाए सावधानी

दिवाली में पटाखों को लेकर लोग विशेषकर बच्चे तो बहुत लापरवाही बरतते हैं। इस दिन पटाखे जलाते समय सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं बच्चों के जलने की सामने आती हैं। अनार या बम की चिंगारी, हो या राकेट की आग, शरीर पर पड़ते ही चिपक जाती है। तेज धमाके वाले पटाखों से कई बार हाथ और उंगली में चोट लग जाती है। पटाखों के रसायन से आंखों में धुआं लग जाता है। इससे उनमें जलन-चुभन के साथ लाली की समस्या उभर आती है। इसके अलावा पटाखों से लगने वाली चोट आंखों में घाव कर सकती है कई बार आंखों की पुतली को भी नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए बहुत सावधानी से पटाखे जलाएं।

रसायन न कर दे परेशान

पटाखों के धुएं से होने वाले प्रदूषण के कारण त्वचा में जलन, लाल चकत्ते पड़ना और फुंसियां आम शिकायतें होती हैं। कुछ लोगों की त्वचा बेहद संवेदनशील होती है, उन्हें इससे परेशानी हो सकती है। पटाखों का धुआं भी बहुत खतरनाक होता है। इसमें मौजूद कार्बन के कण हवा में आक्सीजन का स्तर घटा देते हैं और इससे लोगों को सांस लेने में कठिनाई होती है। ऐसे में अस्थमा, सांस या दिल के मरीजों को बहुत अधिक दिक्कत हो सकती है।

Advertisement

बच्चों पर बड़ों की निगरानी

बड़ों को यह ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि बच्चे पटाखे कैसे जला रहे हैं। जहां तक संभव हो, उन्हें अकेले में पटाखे न जलाने दें। बच्चों द्वारा आतिशबाजी के समय बड़े लोगों को पूरी निगरानी रखनी चाहिए। यह भी ध्यान रहे कि बच्चों को कभी तेज आवाज के पटाखें न दें। आतिशबाजी को सदैव शरीर से दूर रखकर ही जलाएं। आतिशबाजी वाले स्थान से ऐसी वस्तुएं हटा दें, जो आग पकड़ सकती हैं। इसके अलावा पानी भरी बाल्टी अवश्य पास रखें। स्थानीय प्रशासन ने कितनी देर और किस समय से किस समय तक पटाखे जलाने की अनुमति दी है, बच्चों से इसका पालन करवाएं

Advertisement

हरित को कहें हां

हरित पटाखों में पर्यावरण के लिए नुकसानदायक रसायन शामिल नहीं होते हैं। इसलिए इनसे प्रदूषण में 30-40 फीसद तक की कमी आती है। इनमें एल्युमिनियम, बैरियम, पौटेशियम नाइट्रेट और कार्बन का इस्तेमाल न के बराबर या बिल्कुल नहीं होता है। हालांकि ये दिखने में सामान्य पटाखों की तरह ही होते हैं। परेशानी से बचने और पर्यावरण सुरक्षा के लिहाज से हरित पटाखों का विकल्प अपनाया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने भी पर्यावरण हितैषी और ‘मध्यम’ गुणवत्ता वाले हरित पटाखों के उपयोग की इजाजत दी है।

सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी के बाद तो बड़े पैमाने पर हरित पटाखों का उत्पादन हो रहा है। देश के किसी भी शहर में पंजीकृत दुकानदार से हरित पटाखे आसानी से खरीदे जा सकते हैं। हरित पटाखों में फुलझड़ी, फ्लावर पाट, स्काईशाट यानी राकेट वगैरह बच्चों की पसंद के सभी पटाखे मिलते हैं। अब तो खुशबू वाले पटाखे भी आने लगे हैं। हालांकि ये थोड़े महंगे होते हैं।

(यह लेख सिर्फ सामान्य जानकारी और जागरूकता के लिए है। उपचार या स्वास्थ्य संबंधी सलाह के लिए विशेषज्ञ की मदद लें।)

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो