scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

घर में किन 5 तत्वों का बैलेंस जरूरी? सुख-संपदा के लिए आज ही अपना लें ये वास्तु टिप्स, एक्सपर्ट से जानें

5 Elements Of Vastu: वास्तु शास्त्र, पॉजिटिव एनर्जी के साथ सुख-समृद्धि को सही रखने के लिए इन पांच तत्वों - पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश के सामंजस्य के महत्व पर जोर देता है।
Written by: Shivani Singh
नई दिल्ली | Updated: May 21, 2024 16:06 IST
घर में किन 5 तत्वों का बैलेंस जरूरी  सुख संपदा के लिए आज ही अपना लें ये वास्तु टिप्स  एक्सपर्ट से जानें
वास्तु के इन 5 तत्वों का ध्यान रखना जरूरी (PC-Freepik)
Advertisement

5 Elements Of Vastu: जब बात घर की डिजाइन या फिर किसी चीज को रखने की आती है, तो कई लोग वास्तु नियमों का जरूर पालन करते हैं। इसी के आधार पर क्या कहां, किस दिशा में रखने से सकारात्मक या फिर नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है। लेकिन बात का विशेष ध्यान रखते हैं। लेकिन शायद काफी कम लोग इस बात को जानते होंगे कि सभी दिशाएं इन 5 तत्वों पर निर्भर करती हैं। बता दें कि हमारी सृष्टि 5 तत्व यानी आकाश, पृथ्वी, अग्नि, वायु और जल से मिलकर बनी है। ऐसे में ये स्वतंत्र रूप से अलग-अलग है। लेकिन अगर ये पांचों एक जगह आ जाएं, तो एक साथ इसकी ऊर्जा व्यक्ति का भाग्य बदल सकती है। इसके आधार पर घर का प्रारूप बनवाने से संतुलन आता है, जिससे सुख-समृद्धि, सुख-शांति, सौहार्द आदि बनी रहती है। इसके साथ ही स्वास्थ्य अच्छा रहता है। आइए वास्तु गुरु मान्या की फाउडर, एस्ट्रोलॉजर और अंक विशेषज्ञ मान्या अदलक्खा (Manyyaa Adlakkha) से जानते हैं घर बनाते समय इन 5 तत्वों का किस तरह रखें ख्याल...

आकाश

प्रकृति और वास्तु का पहला तत्व आकाश है। यह आपके घर के केंद्र से संबंधित है और आपकी सुनने की क्षमताओं से संबंधित है। वास्तु कहता है कि आपके घर में हमेशा एक खुला केंद्रीय स्थान होना चाहिए जहां प्रकाश प्रवेश कर सके। अगर आप खुला स्थान नहीं ले सकते, तो अपने घर के केंद्रीय हिस्से को सोने जैसे चमकदार रंगों में पेंट करें। आकाश को बुलाने का एक और अच्छा तरीका है केंद्र में शांतिदायक या आध्यात्मिक संगीत बजाना, विशेषकर सुबह के समय। एक शांत स्थान बनाने के लिए, सुनिश्चित करें कि केंद्रीय क्षेत्र साफ और क्लटर-मुक्त है।  आकाश को सोने रंग और किसी भी सोने रंग की वस्तुओं द्वारा प्रतिनिधि किया जा सकता है।

Advertisement

पृथ्वी तत्व

पृथ्वी तत्व को मिट्टी या पत्थर से बनी किसी भी वस्तु द्वारा प्रतिनिधि किया जाता है। मिट्टी, सिरेमिक, ईंट, और कंक्रीट के वस्त्रों में पृथ्वी की ध्वनि होती है। क्रिस्टल क्लस्टर भी पृथ्वी के तत्वों में शामिल है। पृथ्वी से बनी किसी भी वस्तु मुख्यतः पीले, नारंगी, या भूरे रंग में होती है, जो पृथ्वी तत्व का प्रतिनिधित्व करती है।

वास्तु गुरु मान्या  के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र पृथ्वी तत्व को दिखाता है जो भारीपन का संकेत है। घर के मास्टर बेडरूम, कार्यालय की मास्टर केबिन और कारखाने में भारी मशीनरी का उपयोग करने के लिए दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र का उपयोग करना सुझावित है। यह बजाय मजबूती और नियंत्रण शक्तियों को और अधिक स्थिरता प्रदान करता है। बता दें कि पृथ्वी तत्व विश्वास, भरोसा, धरती से जुड़ा, केंद्रित, संतुलित, मजबूत, पैसे और परिवार को संभालने में अच्छा से संबंधित है।

Advertisement

जल तत्व

जल तत्व प्रवाह, शुद्धि और प्रचुरता का प्रतीक है। इसे संतुलित करने का तरीका यहां बताया गया है। अपने घर की उत्तर-पूर्व या उत्तर दिशा में पानी का फव्वारा या छोटा इनडोर झरना स्थापित करें। बहता पानी सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ावा देता है और समृद्धि को आकर्षित करता है। अपने जल स्रोतों को साफ और रिसाव से मुक्त रखें। रुका हुआ पानी या टपकता नल आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बाधित कर सकता है। तालाबों या नदियों जैसे जल तत्वों को प्रतिबिंबित करने के लिए रणनीतिक रूप से दर्पणों का उपयोग करें। दर्पण पानी की उपस्थिति को बढ़ाते हैं और प्रचुरता और तरलता की भावना पैदा करते हैं। बता दें किये तत्व आत्मनिरीक्षण, ज्ञान, गहन विचार आदि से संबंधित है।

Advertisement

अग्नि तत्व

दक्षिण-पूर्व दिशा अग्नि के आधिपत्य में है यानी अग्निदेव के द्वारा संचालित। सूरज, जैसा कि हम सभी जानते हैं, जब यह दिशा में पहुंचता है, तो यह सबसे कठोर होता है और इसलिए एक घर के इस क्षेत्र को हमेशा अग्नि संबंधित उपकरणों के लिए विशेष रूप से अर्पित किया जाता है। इस दिशा का शासक ग्रह शुक्र (शुक्र) है। यह एक अत्यधिक संवेदनशील दिशा है, इसे विशेष ध्यान से संभालना चाहिए, विशेष रूप से जब इस खंड को प्रशांति के द्वारा संतुलन किया जाता है, आग के प्रतिरक्षा के साथ।

वास्तु गुरु मान्या के अनुसार, वास्तु के हिसाब से दक्षिण-पूर्व में रसोई एक शानदार विचार है, क्योंकि यह दिशा अग्नि देव के अधीन है। यहां बनी हर खाना मान्यता के अनुसार देवता की कृपा से धन और स्वास्थ्य लाता है।

इस तत्व को लेकर न करें ये गलतियां

  • इस दिशा में बेडरूम नुकसानदायक साबित हो सकता है क्योंकि इससे निवासियों के लिए गंभीर व्यवहारिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। सूर्य की अल्ट्रा-वायलेट किरणें दिनभर इस दिशा में एकत्रित होती हैं, जिससे तनावपूर्ण पति-पत्नी के संबंध बिगड़ सकते हैं, यहां-तक कि कई मामलों में तलाक भी हो सकता है।
  • अगर एक ओवरहेड पानी की टंकी घर के इस हिस्से में रखी जाती है, तो बिजली और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की समस्याओं को खुली दावत दी जाएगी। इसके साथ ही, अंडरग्राउंड पानी की टंकी के साथ भी यही हालत होगी, जिससे परिवार के सदस्यों, दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच असंतोष और झगड़े हो सकते हैं। यह कानूनी और प्रशासनिक मुद्दों का भी उत्पन्न हो सकता है।
  • अगर किसी प्लॉट की दक्षिण-पूर्व की ओर एक जलस्रोत या तैराक पूल है, तो आग और पानी विपरीत तत्व होने के कारण कभी भी एक समान मंच पर रखे नहीं जा सकते।
  • किसी भी पूजा कक्ष, स्टडी रूम, या इस कोने में महत्वपूर्ण फ़ाइलें और मूल्यवान वस्तुएं नहीं रखनी चाहिए। इस दिशा के गरम माहौल से यहां सभी रखी हुई वस्तुएं नष्ट हो जाएंगी।
  • एक घर का मुख्य प्रवेश दक्षिण-पूर्व में नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे निवासियों के लिए कानूनी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

वायु तत्व

वायु तत्व गति, संचार और जीवन शक्ति का प्रतीक है। इसे संतुलित करने का तरीका यहां बताया गया है। ताजी हवा को स्वतंत्र रूप से प्रसारित करने की अनुमति देने के लिए अपने घर में उचित वेंटिलेशन सुनिश्चित करें। बासी या स्थिर हवा सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बाधित कर सकती है और आपके स्वास्थ्य और खुशहाली को प्रभावित कर सकती है। हल्केपन और खुलेपन की भावना पैदा करने के लिए अपनी सजावट में सूती और लिनन जैसे हल्के कपड़ों का उपयोग करें
उत्तर-पश्चिम कोना वायु (हवा) तत्व को प्रतिनिधित्व करता है। इस कोने की ऊर्जा को हवा के प्रवाह और घर के वातावरण से गहरा संबंध होता है। इस क्षेत्र में उचित वेंटिलेशन और हवा का परिसंचरण एक ताजा और सकारात्मक वातावरण बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो