scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Shukra Stotra: शुक्रवार को करें इस स्तोत्र का पाठ, कुंडली में शुक्र होगा मजबूत, अपार धन-संपदा की होगी प्राप्ति

Shukra Stotra: शुक्रवार के दिन शुक्र के इस स्तोत्र का पाठ करने से कुंडली में शुक्र की स्थिति मजबूत होने के साथ-साथ सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।
Written by: Shivani Singh
नई दिल्ली | Updated: May 30, 2024 17:34 IST
shukra stotra  शुक्रवार को करें इस स्तोत्र का पाठ  कुंडली में शुक्र होगा मजबूत  अपार धन संपदा की होगी प्राप्ति
Shukra Stotra: शुक्रवार को करें इस स्तोत्र का पाठ
Advertisement

Shukra Stotra: हिंदू पंचांग के अनुसार, सप्ताह का हर एक दिन किसी न किसी देवी-देवता या फिर नवग्रह से संबंधित होता है। ऐसे ही शुक्रवार का दिन शुक्र ग्रह से संबंधित माना जाता है। दैत्यों के गुरु शुक्र को सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य, आकर्षण, प्रेम का कारक माना जाता है। अगर किसी जातक की जन्म कुंडली में शुक्र की स्थिति कमजोर होता है, तो उसके ऐश्वर्य, वैभव आदि में कमी देखने को मिलती है। भौतिक सुखी की कमी होने के साथ-साथ वैवाहिक जीवन और लव लाइफ में कोई न कोई समस्या बनी रहती है। ऐसे में आप चाहे, तो शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए शुक्र देव के उपायों के साथ-साथ इस स्तोत्र का पाठ कर सकते हैं। आइए जानते हैं शुक्र स्तोत्र के बारे में…

कुंडली में मौजूद शुक्र दोष को दूर करने के लिए हर शुक्रवार के दिन शुक्र के बीज मंत्र का जाप करने के साथ-साथ इस स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इससे सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।

Advertisement

ऐसे करें शुक्र स्तोत्र का पाठ

शुक्रवार के दिन स्नान आदि करने के बाद सफेद रंग के कपड़े पहन लें। इसके बाद सूर्यदेव को तांबे के लोटे से अर्घ्य दें। इसके बाद माता लक्ष्मी की पूजा करें। फिर एक सफेद रंग के आसन या फिर कुश आदि के आसन में बैठ शुक्र देव का ध्यान करके इस स्त्रोत का पाठ करें। संस्कृत को शब्द है इसलिए जल्दबाजी करने से बचें। अंत में भूल चूक के लिए माफी मांग लें।

शुक्र मंत्र

शुक्र एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ शुं शुक्राय नम:।
तांत्रिक मंत्र- 'ॐ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:।

Advertisement

शुक्र स्तोत्र

नमस्ते भार्गव श्रेष्ठ देव दानव पूजित।
वृष्टिरोधप्रकर्त्रे च वृष्टिकर्त्रे नमो नम:।।

Advertisement

देवयानीपितस्तुभ्यं वेदवेदांगपारग:।
परेण तपसा शुद्ध शंकरो लोकशंकर:।।

प्राप्तो विद्यां जीवनाख्यां तस्मै शुक्रात्मने नम:।
नमस्तस्मै भगवते भृगुपुत्राय वेधसे।।

तारामण्डलमध्यस्थ स्वभासा भसिताम्बर:।
यस्योदये जगत्सर्वं मंगलार्हं भवेदिह।।

अस्तं याते ह्यरिष्टं स्यात्तस्मै मंगलरूपिणे।
त्रिपुरावासिनो दैत्यान शिवबाणप्रपीडितान।।

विद्यया जीवयच्छुक्रो नमस्ते भृगुनन्दन।
ययातिगुरवे तुभ्यं नमस्ते कविनन्दन।।

बलिराज्यप्रदो जीवस्तस्मै जीवात्मने नम:।
भार्गवाय नमस्तुभ्यं पूर्वं गीर्वाणवन्दितम।।

जीवपुत्राय यो विद्यां प्रादात्तस्मै नमोनम:।
नम: शुक्राय काव्याय भृगुपुत्राय धीमहि।।

नम: कारणरूपाय नमस्ते कारणात्मने।
स्तवराजमिदं पुण्य़ं भार्गवस्य महात्मन:।।

य: पठेच्छुणुयाद वापि लभते वांछित फलम।
पुत्रकामो लभेत्पुत्रान श्रीकामो लभते श्रियम।।

राज्यकामो लभेद्राज्यं स्त्रीकाम: स्त्रियमुत्तमाम।
भृगुवारे प्रयत्नेन पठितव्यं सामहितै:।।

अन्यवारे तु होरायां पूजयेद भृगुनन्दनम।
रोगार्तो मुच्यते रोगाद भयार्तो मुच्यते भयात।।

यद्यत्प्रार्थयते वस्तु तत्तत्प्राप्नोति सर्वदा।
प्रात: काले प्रकर्तव्या भृगुपूजा प्रयत्नत:।।

सर्वपापविनिर्मुक्त: प्राप्नुयाच्छिवसन्निधि:।।

डिसक्लेमर- इस लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, पंचांग, मान्यताओं या फिर धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है। इसके सही और सिद्ध होने की प्रामाणिकता नहीं दे सकते हैं। इसके किसी भी तरह के उपयोग करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 टी20 tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो