scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Ramadan 2024: रमजान में खजूर खाकर ही क्यों तोड़ते हैं रोज़ा? जानें क्या है इसका धार्मिक कनेक्शन और सेहत के लिए कितना है फायदेमंद

खजूर कई पोषण संबंधी लाभ प्रदान करते हैं और ऐसे में व्रत तोड़ने के लिए इनका सेवन एक आदर्श विकल्प साबित हो सकता है। आइए जानते हैं कैसे-
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | Updated: March 10, 2024 19:33 IST
ramadan 2024  रमजान में खजूर खाकर ही क्यों तोड़ते हैं रोज़ा  जानें क्या है इसका धार्मिक कनेक्शन और सेहत के लिए कितना है फायदेमंद
खजूर का सेवन पाचन को बढ़ावा देता है, जिससे दिनभर भूखा रहने के बाद आपको गैस और एसिडिटी की परेशानी नहीं होती है। (P.C- Freepik)
Advertisement

इस्लाम धर्म में रमजान के महीने का बेहद महत्व है। वहीं, इस बार 11 या 12 मार्च से रमजान का पाक महीना शुरू हो रहा है। इस दौरान मुस्लिम समुदाय के लोग अल्लाह की इबादत करते हुए उनके नाम का रोज़ा रखते हैं, जिसमें वे केवल सुबह सूर्योदय से पहले सुहूर यानी सहरी के समय और सूरज ढलने के बाद शाम को इफ़्तार में कुछ भी खाते या पीते हैं। इससे अलग दिनभर पानी तक पीने की अनुमति नहीं होती है। यानी आपको पूरे दिन भूखा और प्यासा रहना पड़ता है। वहीं, इफ़्तार के वक्त भी सबसे पहले खजूर खाने का नियम है। यानी लोग खजूर खाकर रोज़ा खोलते हैं और इसके बाद ही अन्य चीजों का सेवन करते हैं। इसी कड़ी में यहां हम आपको रमजान और खजूर के बीच का धार्मिक महत्व बता रहे हैं, साथ ही जानेंगे कि इतने लंबे समय तक भूखा और प्यासा रहने के बाद खजूर के सेवन से आपकी सेहत पर कैसा असर पड़ता है-

क्या है धार्मिक कनेक्शन?

इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार, रमजान में खजूर खाकर रोजा खोलने को सुन्नत माना जाता है। दरअसल, मान्यता है कि खजूर पैगंबर हजरत मोहम्मद के पसंदीदा थे। साथ ही वे खजूर खाकर ही रोजा खोलते थे। वहीं, पैगंबर हजरत मोहम्मद के रास्ते पर चलने को सुन्नत माना जाता है, इसी कड़ी में मुस्लिम धर्म के लोग रोज़ा खोलने के लिए खजूर का सेवन करते हैं और इसके बाद ही अन्य चीजों का सेवन करते हैं।

Advertisement

सेहत पर कैसा करता है असर?

वहीं, धार्मिक मान्यताओं से अलग बात अगर सेहत की करें, तो खजूर कई पोषण संबंधी लाभ प्रदान करते हैं और ऐसे में व्रत तोड़ने के लिए इनका सेवन एक आदर्श विकल्प साबित हो सकता है। आइए जानते हैं कैसे-

नेचुरल स्वीटनर

खजूर में प्राकृतिक मिठास मौजूद होती है, जो दिन भर के उपवास के बाद त्वरित ऊर्जा यानी इंस्टेंट एनर्जी प्रदान करने में मदद करती है। खजूर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI) भी कम होता है इसलिए हेल्थ एक्सपर्ट्स इसे मधुमेह रोगियों के लिए सुरक्षित बताते हैं, लेकिन एक सीमित मात्रा में ही इसका सेवन करें।

पोषक तत्वों से भरपूर

खजूर फाइबर, पोटैशियम, मैग्नीशियम और विटामिन सहित आवश्यक पोषक तत्वों का एक पावरहाउस है। ये पोषक तत्व लंबे समय तक उपवास के बाद ऊर्जा के स्तर को फिर से भरने और शरीर को पोषण देने में अहम भूमिका निभाते हैं।

Advertisement

हाइड्रेशन

खजूर में पानी की मात्रा अधिक होती है, जो दिनभर पानी न पीने के बाद शरीर में जलयोजन यानी हाइड्रेशन बनाए रखने में सहायता करता है। ऐसे में भी इसका सेवन फायदेमंद हो सकता है।

पेट के लिए फायदेमंद

खजूर का सेवन पाचन को बढ़ावा देता है, जिससे दिनभर भूखा रहने के बाद आपको गैस और एसिडिटी की परेशानी नहीं होती है। साथ ही खजूर में डाइटरी फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में मदद करते हैं।

सूजन रोधी गुण

इन सब से अलग लंबे समय तक भूखे रहने पर पेट में सूजन की समस्या भी बढ़ सकती है, वहीं खजूर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी यौगिक सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। ऐसे में भी इनका सेवन फायदेमंद हो सकता है।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो