scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Maa Durga Ji Ki Aarti Hindi Lyrics: 'जय अंबे गौरी मैया जय श्यामा गौरी'...यहां पढ़ें मां दुर्गा जी की आरती

Navratri 2024, Maa Durga Ji Ki Aarti Hindi Lyrics, Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri Aarti Lyrics in Hindi: नवरात्रि में मां दुर्गा की आरती करने से सुख- समृद्धि की प्राप्ति होती है...
Written by: Astro Aditya Gaur
नई दिल्ली | Updated: April 09, 2024 18:29 IST
maa durga ji ki aarti hindi lyrics   जय अंबे गौरी मैया जय श्यामा गौरी    यहां पढ़ें मां दुर्गा जी की आरती
Maa Durga Ji Ki Aarti Hindi Lyrics: 'जय अंबे गौरी मैया जय श्यामा गौरी'
Advertisement

Maa Durga Ji Ki Aarti Hindi Lyrics, Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri Aarti Lyrics in Hindi: हिंदू धर्म में नवरात्रि के 9 दिन बेहद ही पवित्र माने जाते हैं। इन 9 दिनों में शक्ति की आराधना होती है। आपको बता दें कि इस साल चैत्र नवरात्रि की शुरुआत आज यानी 9 अप्रैल से हुई है। वहीं अगले 9 दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की उपासना की जाएगी। जिसमें प्रथम दिन मां शैलपुत्री, द्वितीय मां ब्रह्मचारिणी, चतुर्थ मां चंद्रघंटा, पंचम स्कंद माता, षष्टम मां कात्यायनी, सप्तम मां कालरात्रि, अष्टम मां महागौरी, नवम मां सिद्धिदात्री का पूजन किया जाता है। साथ ही इन 9 दिनों में आपको माता रानी की पूजा अर्चना के साथ आपको मां दुर्गा जी की आरती भी जरूर करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको मां की विशेष कृपा प्राप्त होगी। साथ ही जीवन में सुख- समृद्धि का वास बना रहेगा। आइए जातने हैं मां दुर्गा की आरती के बारे में…

दुर्गा जी की आरती- ॐ जय अम्बे गौरी…

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।

Advertisement

तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को ।

Advertisement

उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको ॥

Advertisement

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै ।

रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्पर धारी ।

सुर-नर-मुनिजन सेवत, तिनके दुखहारी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती ।

कोटिक चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

शुंभ-निशुंभ बिदारे, महिषासुर घाती ।

धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे ।

मधु-कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

ब्रह्माणी, रूद्राणी, तुम कमला रानी ।

आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

चौंसठ योगिनी मंगल गावत, नृत्य करत भैरों ।

बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता,

भक्तन की दुख हरता । सुख संपति करता ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

भुजा चार अति शोभित, खडग खप्पर धारी ।

मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती ।

श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

श्री अंबेजी की आरति, जो कोइ नर गावे ।

कहत शिवानंद स्वामी, सुख-संपति पावे ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।

यह भी पढ़ें:

मेष राशि का वर्षफल 2024वृष राशि का वर्षफल 2024
मिथुन राशि का वर्षफल 2024 कर्क राशि का वर्षफल 2024
सिंह राशि का वर्षफल 2024 कन्या राशि का वर्षफल 2024
तुला राशि का वर्षफल 2024वृश्चिक राशि का वर्षफल 2024
धनु राशि का वर्षफल 2024
मकर राशि का वर्षफल 2024मीन राशि का वर्षफल 2024
कुंभ राशि का वर्षफल 2024
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो