scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Chor Panchak 2024: इस दिन से शुरू हो रहा है चोर पंचक, भूलकर भी नहीं करें ये काम, वरना होगी आर्थिक हानि

Panchak Kaal According To Astrology: वैदिक पंचांग के मुताबिक चंद्रमा गोचर में जब कुंभ और मीन राशि में स्थित होता है तो यह समय पंचक का माना जाता है।
Written by: Astro Aditya Gaur
नई दिल्ली | March 27, 2024 16:54 IST
chor panchak 2024  इस दिन से शुरू हो रहा है चोर पंचक  भूलकर भी नहीं करें ये काम  वरना होगी आर्थिक हानि
चोर पंचक में यात्रा करना भी वर्जित होता है...
Advertisement

Kab Hai Chor Panchak 2024 Date: वैदिक ज्योतिष में कुछ ऐसा समय बताया गया है। जिसमें शुभ कार्यों को करने की मनाही होती है। क्योंकि अशुभ समय में किए गए काम मनचाहा परिणाम नहीं देते हैं। इसी को लेकर ज्योतिष में कुछ ऐसे नक्षत्रों का भी वर्णन देखने को मिलता है। यहां हम बात करने जा रहे हं पंचक के बारे में, जिसमें कुछ कार्यों की करने की मनाही होती है। वैदिक पंचांग अनुसार 5 अप्रैल से चोर पंचक शुरू हो रहा है। आइए जानते हैं इसमें कौन से कार्य करने से बचने चाहिए और पंचक के प्रकार…

5 नक्षत्रों का समूह होता है पंचक

आपको बता दें कि चंद्रमा गोचर में जब कुंभ और मीन राशि में विराजमान होता है तो यह समय पंचक का माना जाता है। वहीं पंचक की समय अवधि पांच दिन की बताई गई है। इसलिए इसे पंचक कहा गया है। पंचक के अंतर्गत धनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, पूर्वा भाद्रपद व रेवती नक्षत्र आते हैं। वहीं हम आज आपको बताएंगे पंचकों में कौन- कौन से काम करना वर्जित होते हैं और ये कितने प्रकार के होते हैं।

Advertisement

पंचक में निषेध हैं ये पांच काम

वैदिक ज्योतिष के मुताबिक पंचक के दौरान इन 5 कार्यों को करने की मनाही होती है...

1- पंचक के दौरान चारपाई बनवाना अशुभ माना गया है। विद्वानों के अनुसार ऐसा करने से आपके ऊपर कोई संकट आ सकता है।
2- पंचक की अवधि में घास, लकड़ी, आदि जलने वाली वस्तुएं एकत्र करने से बचना चाहिए। अन्यथा आग लगने का भय रहता है।
3- दक्षिण दिशा में पंचकों के दौरान यात्रा करने से हानि हो सकती है। क्योंकि यह दिशा यम और पितरों की मानी गई है। इसलिए इन नक्षत्रों में दक्षिण दिशा की यात्रा करना हानिकारक माना गया है।
4- पंचक की अवधि में घर की छत बनवाने से बचना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से घर में क्लेश और धन की हानि हो सकती है।
5- शय्या का निर्माण पंचकों के दौरान नहीं करना चाहिए।

पंचक काल में मृत्यु होने पर

शास्त्रों के अनुसार पंचक काल में मृत्यु होना अशुभ माना गया है। मान्यता है कि अगर किसी की मृत्यु पंचक काल में हुई है तो उसके परिवार, कुल या रिश्तेदारी में जन हानि होने की संभावना रहती है। वहीं इससे बचने के लिए मृतक के शव के साथ पांच पुतले आटे या कुश के बनाकर रखने चाहिए। ऐसा करने से पंचक दोष समाप्त हो जाता है। साथ ही जनहानि होने से बचा जा सकता है।

Advertisement

यह भी पढ़ें:

मेष राशि का वर्षफल 2024वृष राशि का वर्षफल 2024
मिथुन राशि का वर्षफल 2024 कर्क राशि का वर्षफल 2024
सिंह राशि का वर्षफल 2024 कन्या राशि का वर्षफल 2024
तुला राशि का वर्षफल 2024वृश्चिक राशि का वर्षफल 2024
धनु राशि का वर्षफल 2024
मकर राशि का वर्षफल 2024मीन राशि का वर्षफल 2024
कुंभ राशि का वर्षफल 2024
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो