scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Baisakhi 2024 Date: बैसाखी आज, जानें महत्व, इतिहास और मनाने का तरीका से लेकर अन्य जानकारी

Baisakhi 2024 : बैसाखी के दिन को खालसा पंथ की स्थापना दिवस के रूप में मनाते हैं। इसके साथ ही ये एक कृषि से जुड़ा त्योहार है।
Written by: Shivani Singh
नई दिल्ली | Updated: April 04, 2024 17:30 IST
baisakhi 2024 date  बैसाखी आज  जानें महत्व  इतिहास और मनाने का तरीका से लेकर अन्य जानकारी
Baisakhi 2024: बैसाखी का महत्व और मनाने का कारण (PC-Freepik)
Advertisement

Baisakhi 2024: देशभर में बैसाखी का पर्व आज धूमधाम से मनाया जा रहा है। सौर कैलेंडर के अनुसार,  सिख समुदाय के लोग इसे नए साल के रूप में मनाते हैं। इसके साथ ही इसे रबी की अच्छी फसल के होने को लेकर उत्सव के रूप में मनाते हैं। इसके साथ ही इस दिन खालसा पंथ की स्थापना हुई थी। ये पर्व आमतौर पर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली जैसे शहरों में बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं।  इस दिन फसल कटकर घर आ जाने की खुशी पर लोग भगवान को धन्यवाद देते हैं और अनाज की पूजा करते हैं। वैसाखी को विभिन्न नामों से भी जाना जाता है। इसे असम में बिहू, बंगाल में नबा वर्षा, केरल में पूरम विशु कहते हैं। जानें मनाने का कारण और कैसे मनाते हैं….

Advertisement

बैसाखी का महत्व

इस महीने में रबी की फसल पककर पूरी तरह से तैयार हो जाती है और कटाई शुरू हो जाती है। इसी के कारण बैसाखी को फसल पकने और सिख धर्म की स्थापना के रूप में मनाते हैं। कहा जाता है कि इसी दिन सिख पंथ के 10वें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी।

Advertisement

कैसे पड़ा बैसाखी नाम?

बैसाखी के समय आकाश में विशाखा नक्षत्र होता है। पूर्णिमा के समय विशाखा नक्षत्र होने के कारण इसे वैशाख कहते हैं। वैशाख माह के पहले दिन को बैसाखी कहा जाता है। इसके अलावा इस दिन ग्रहों के राजा सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं। इसलिए इस दिन मेष संक्रांति भी कहा जाता है।

बैसाखी से जुड़ी मान्यता

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार,सिखों के 9वें गुरु  गुरु तेग बहादुर जी हिंदुओं के खिलाफ किए जा रहे अत्याचार के खिलाफ  औरंगजेब से लड़ते हुए शहीद हो गए थे।  युद्ध में उनकी मृत्यु के बाद उनके पुत्र गुरु गोविंद सिंह जी अगले गुरु बनें। जिन्होंने सभी लोगों में अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाने और साहस भरने का कार्य किया था।  इसके बाद तलवार उठाकर आनंदपुर में सिखों के संगठन का निर्माण करने के लिए आवाहन किया। उन्होंने लोगों से कहा कि बहादुर योद्धा कौन है, जो बुराई के खिलाफ शहीद होने को तैयार है। उस समय सभा में से पांच योद्धा निकलकर सामने आए थे। बाद में इन्हीं योद्धाओं को पंच प्यारे कहा गया और जिन्हें खालसा पंथ का नाम दिया गया।

कैसे मनाते हैं बैसाखी?

 बैसाखी के दिन ढोल-नगाड़ों पर लोग नाचते हैं। इस दिन गुरुद्वारों में विशेष आयोजन किया जाता है। इस दिन सुबह उठकर गुरुद्वारे जाकर प्रार्थना की जाती है। इसके साथ ही गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ और भजन-कीर्तन किया जा है। इसके साथ ही श्रद्धालुओं के लिए विशेष प्रकार का अमृत तैयार किया जाता है, जो बाद में पंक्ति में लगकर पांच बार ग्रहण किया जाता है। इसके साथ ही लोग लंगर का सेवन करते हैं।

Advertisement

डिसक्लेमर- इस लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, पंचांग, मान्यताओं या फिर धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है। इसके सही और सिद्ध होने की प्रामाणिकता नहीं दे सकते हैं। इसके किसी भी तरह के उपयोग करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो