scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या आपकी कुंडली में हैं प्रशासनिक अधिकारी और लोकप्रिय राजनेता बनने के योग, ऐसे जानें अपनी जन्मपत्री से…

वैदिक ज्योतिष अनुसार अगर कुंडली में शनि देव उच्च के हो और उनका संबंध दशम भाव से बन रहा हो तो ऐसा व्यक्ति बड़ा अधिकारी बनता है...
Written by: Astro Aditya Gaur
नई दिल्ली | Updated: March 20, 2024 13:09 IST
क्या आपकी कुंडली में हैं प्रशासनिक अधिकारी और लोकप्रिय राजनेता बनने के योग  ऐसे जानें अपनी जन्मपत्री से…
ऐसे लोग बनते हैं राजनेता और प्रशासनिक अधिकारी-
Advertisement

वैदिक ज्योतिष अनुसार जब भी किसी व्यक्ति का जन्म होता है, तो उसकी जन्मकुंडली में कुछ ऐसे योग होते हैं, जिससे व्यक्ति का वैवाहिक जीनव, करियर और भूत काल के बारे में जाना जा सकता है। यहां पर ऐसे योगों के बारे में बताने जा रहे हैं जो अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में हो तो व्यक्ति को प्रशासनिक पद और राजनीति में जबरदस्त सफलता मिलती है। आइए जानते हैं कुंडली में ये योग कौन से हैं…

कुंडली में राजनेता बनने वाले योग

1- वैदिक ज्योतिष अनुसार जब कुंडली में ग्रह अपनी राशि में उच्च होकर जन्मपत्री के पहले स्थान में या चौथे, सातवें या दशवें भाव में बैठ जाए तो उस कुंडली में राजयोग निर्माण होता है। ऐसी स्थिति वाले को राजनीति में लाभ मिलता है। सबसे प्रबल राजयोग शनि के द्वारा बना शश योग है जो व्यक्ति को रंक से राजा बना देता है और व्यक्ति राजनीति में अपार सफलता पाता है। साथ ही समाज में उसको खूब मान- सम्मान की प्राप्ति होती है।

Advertisement

2- वैदिक ज्योतिष में राहु को राजनीति का कारक, शनि को सेवा और जनता का कारक माना गया है। साथ ही बुध ग्रह व्यक्ति को अच्छा वक्ता बनाता है। इसलिए कुंडली में इन ग्रहों का सम्बन्ध लग्नेश चतुर्थेश दशमेश से होगा, सफलता उतनी ही बढ़ जाती हैं। साथ ही ऐसे लोग मेहनती होते हैं और लोकप्रिय होते हैं।

3- ज्योतिष मुताबिक मजबूत लग्न भाव भी राजनीति के क्षेत्र में सफलता दिला देता है। वहीं  मेष और कर्क लग्न में सूर्य शनि, राहु, मंगल की स्थिति अच्छी हो तो सफलता मिलती है। साथ ही ऐसा व्यक्ति राजनीति में खूब तरक्की करता है। साथ ही उसको बड़े पद की प्राप्ति होती है।

4-  राजनीति में सफलता के लिए जन्मकुंडली कुछ विशेष योग जरूर होते हैं। जैसे लग्नेश, चतुर्थेश, दशमेश का केंद्र या त्रिकोण में होना। क्योंकि छठे स्थान को सेवा का भाव माना जाता है। वहीं राहू का संबंध छठे, सातवें, दसवें या ग्यारहवें भाव से हो तो व्यक्ति राजनीति में होता है और ऐसा व्यक्ति राजनीति में खूब नाम कमाता है। साथ ही वह लोकप्रिय राजनेता होता है।

Advertisement

कुंडली में प्रशासनिक अधिकारी बनने के योग

1-कारकांश कुण्डली में यदि सूर्य लग्न में मेष राशि में हो और तीन-चार ग्रह शुभ स्थिति में होने पर व्यक्ति को प्रशासनिक अधिकारी बनाते हैं। साथ ही ये लोग समाज में खूब मान- सम्मान पाते हैं।

2- वैदिक ज्योतिष अनुसार यदि दशम स्थान पर दशमेश की दृष्टि हो और जन्मांग चक्र में शुभ ग्रह परस्पर द्विद्र्वादश योग बनाएं। इसके साथ ही लग्नेश बलवान हो तो प्रशासनिक सेवा में जाने के अवसर मिलते हैं। साथ ही ऐसे लोग कम उम्र में हो सरकारी नौकरी पा लेत हैं।

3- यदि किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में शनि देव नवम भाव में हो और दशम में मकर राशि या नवांश में दशम स्तान में मंगल स्थित हो। साथ ही बुध-गुरु और शुक्र पंचम स्थान में हो और कोई एक ग्रह उच्च राशि या नवांश में हो तो व्यक्ति पुलिस या खुफिया ऐजेंसी में बड़ा अधिकारी बनता है।

4- ज्योतिष शास्त्र अनुसार यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य, केद्र, भाव में उच्च राशि और उच्च नवांश में, दशमेश लाभ में, लग्नेश और भाग्येश अपने घर में या परस्पर द्विद्र्वादश में स्थित हों तो जातक प्रशासनिक सेवा में जा सकता है। साथ ही ऐसे लोग स्वाभिमानी और थोडे़ जिद्दी होते हैं।

यह भी पढ़ें:

मेष राशि का वर्षफल 2024वृष राशि का वर्षफल 2024
मिथुन राशि का वर्षफल 2024 कर्क राशि का वर्षफल 2024
सिंह राशि का वर्षफल 2024 कन्या राशि का वर्षफल 2024
तुला राशि का वर्षफल 2024वृश्चिक राशि का वर्षफल 2024
धनु राशि का वर्षफल 2024
मकर राशि का वर्षफल 2024मीन राशि का वर्षफल 2024
कुंभ राशि का वर्षफल 2024
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो