scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

केजरीवाल की गिरफ्तारी से बीजेपी को नहीं होगा कोई नुकसान? क्या है 'भगवा खेमे' के आत्मविश्वास की वजह

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को गुुरुवार को गिरफ्तार किया गया। उनकी गिरफ्तारी आबकारी नीति मामले में हुई है।
Written by: लिज़ मैथ्यू | Edited By: Yashveer Singh
नई दिल्ली | Updated: March 22, 2024 08:22 IST
केजरीवाल की गिरफ्तारी से बीजेपी को नहीं होगा कोई नुकसान  क्या है  भगवा खेमे  के आत्मविश्वास की वजह
केजरीवाल को गुरुवार को शराब नीति मामले में गिरफ्तार किया गया (PTI Image)
Advertisement

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ईडी ने गुरुवार शाम गिरफ्तार कर लिया। केजरीवाल को गिरफ्तार किए जाने पर विपक्ष जहां केंद्र सरकार पर हमलावर है तो वहीं बीजेपी को भरोसा है कि वो किसी भी तरह के विरोध का सामना कर सकती है।

दरअसल बीजेपी का मानना है कि चुनाव से ठीक पहले केजरीवाल को पिक्चर से आउट करने से दिल्ली और पंजाब में AAP को बड़ा झटका लगा ही है, साथ में भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी सरकार की इस साख को भी बढ़ावा मिलता है कि 'चाहे नेता कितना भी बड़ा हो', वह भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Advertisement

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को ईडी द्वारा नौ समन जारी किए गए थे, बावजूद इसके वो पूछताछ के लिए जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए थे। गुरुवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने आबकारी नीति मामले में उन्हें अंतरिम संरक्षण देने से इनकार कर दिया था, इसके कुछ घंटों बाद ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

केजरीवाल की गिरफ्तारी का जहां आम आदमी पार्टी और विपक्ष पूरा माइलेज लेने की कोशिश करेंगे तो वहीं बीजेपी अपना पक्ष मजबूत करने के लिए उनके द्वारा लगातार ईडी समन को नजरअंदाज किए जाने पर जोर देगी।

Advertisement

क्यों केजरीवाल की गिरफ्तारी से खुश है BJP

BJP के एक सीनियर नेता कहते हैं कि केजरीवाल की गिरफ्तारी से आप कमजोर होगी क्योंकि वह पार्टी का चेहरा हैं और उनके जरिए ही AAP समर्थन और संसाधन जुटाती है। केजरीवाल ही AAP का ब्रेन और पिलर हैं, उनके बिना आप इलेक्शन कैंपेन में कोई प्रभाव नहीं डाल पाएगी।

Advertisement

बीजेपी के एक अन्य नेता कहते हैं कि केजरीवाल की गिरफ्तारी से इंडिया गठबंधन का एक स्टार कैंपेनर दूर हो जाएगा। इसके अलावा यह विपक्षियों द्वारा बनाए गए भ्रष्ट गठबंधन के हमारे मैसेज को भी बल देगा। वो कहते हैं कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन से निकलकर आए केजरीवाल की भ्रष्टाचार के मामले में ही गिरफ्तारी से बड़ी कोई उपलब्धि नहीं हो सकती।

बीजेपी कार्यकर्ता उठा रहे थे अपनी ही लीडरशिप  पर सवाल!

सूत्रों की मानें तो बहुत सारे बीजेपी कार्यकर्ता पार्टी के सामने यह सवाल उठा रहे थे कि केजरीवाल की गिरफ्तारी को लेकर मोदी सरकार बचती क्यों नजर आ रही थी। उनका मानना था कि इससे आम लोगों के बीच यह मैसेज जा रहा था कि केजरीवाल की "लोकप्रियता" उनके खिलाफ कार्रवाई न होने की प्रमुख वजह बन रही है।

उन्होंने आगे कहा कि अब केजरीवाल की गिरफ्तारी से कैडर का आत्मविश्वास बढ़ गया है और यह संदेश गया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमारी लीडरशिप बिलकुल अडिग है। इन ही बातों का जिक्र करते हुए बीजेपी के एक सीनियर नेता कहते हैं कि दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के साथ आने से भी बीजेपी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

बीजेपी सूत्रों के अनुसार, दिल्ली और उसके आसपास पार्टी द्वारा हाल ही में किए गए इंटरनल सर्वे केजरीवाल के खिलाफ इस तरह की एक्शन के बारे में वोटर्स की भावनाओं को जानने की कोशिश की गई है। सर्वे से बीजेपी को पता चला कि केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ विपक्ष लोगों को जुटाने में सफल नहीं हो पाएगा। बीजेपी सूत्रों का मानना है कि शराब घोटाले से केजरीवाल की इमेज पर फर्क पड़ा है। वह कहते हैं कि अगर शराब घोटाला मामले में सबूत नहीं होते तो सिसोदिया को जमानत मिल गई होती।

इसके अलावा बीजेपी नेताओं का मानना है कि दिल्ली में 25 मई को चुनाव होगा, जिसमें अभी दो महीने से ज्यादा का समय बाकी है, तब तक केजरीवाल की अनुपस्थिति से आप कमजोर होगी और उसके चुनाव लड़ने की क्षमता प्रभावित होगी। बीजेपी नेता मानते हैं कि केजरीवाल उनके लिए खतरा थे क्योंकि वो फ्री बिजली, पानी और हेल्थ व एजुकेशन में अपनी योजनाओं की वजह से मोदी सरकार के गुड वर्क को टक्कर दे रहे थे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो