scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'राजभवन में कदम नहीं रखूंगी, उनके बगल बैठना पाप...', राज्यपाल पर ममता बनर्जी ने साधा निशाना

ममता बनर्जी ने कहा कि राज्यपाल कहते हैं दीदीगिरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लेकिन अब आपकी दादागिरी भी काम नहीं करेगी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: May 11, 2024 20:03 IST
 राजभवन में कदम नहीं रखूंगी  उनके बगल बैठना पाप      राज्यपाल पर ममता बनर्जी ने साधा निशाना
ममता बनर्जी ने राज्यपाल पर निशाना साधा। (PTI PHOTO)
Advertisement

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस पर छेड़खानी का आरोप लगा है। एक महिला ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। इस बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ा बयान दिया है। ममता बनर्जी ने राज्यपाल का इस्तीफा मांगा और कहा कि जब तक वह राज्यपाल बने रहेंगे, तब तक वह राज भवन के अंदर कदम नहीं रखेंगी। ममता बनर्जी ने यहां तक कह दिया कि राज्यपाल के बगल बैठना पाप है।

दादागिरी बर्दाश्त नहीं: ममता बनर्जी

ममता बनर्जी बंगाल की हुगली लोकसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार के समर्थन में एक जनसभा को संबोधित कर रही थीं। इस दौरान उन्होंने कहा, "राज्यपाल कहते हैं दीदीगिरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लेकिन अब आपकी दादागिरी भी काम नहीं करेगी। उनके खिलाफ इस तरह के आरोप लगाए गए हैं तो वह पद से इस्तीफा क्यों नहीं दे रहे हैं?"

Advertisement

छेड़खानी के आरोप को ममता बनर्जी लगातार उठा रही हैं। वहीं महिला ने इस मामले में राष्ट्रपति के हस्तक्षेप की मांग की है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शिकायतकर्ता महिला ने शुक्रवार को कहा कि वह इस मामले में कार्रवाई के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से हस्तक्षेप की मांग करती हैं।

वही आरोपी को लेकर स्थिति स्पष्ट करने के लिए राज्यपाल ने कई सीसीटीवी फुटेज दिखाएं, जिसको लेकर शिकायतकर्ता महिला ने आपत्ति जताई। महिला ने कहा की फुटेज को पब्लिकली दिखाया जा रहा है, जिससे उसकी पहचान का खुलासा किया गया। महिला ने कहा कि फुटेज में कुछ भी धुंधला नहीं किया गया।

Advertisement

राजभवन के कर्मचारियों को लिखा था पत्र

वहीं कुछ दिन पहले ही बंगाल के राज्यपाल सी वी आनंद बोस ने रविवार को राजभवन के कर्मचारियों को पत्र लिखा था। पत्र में उन्होंने अपने खिलाफ लगाए गए छेड़छाड़ के आरोपों के संबंध में पुलिस के किसी भी कम्युनिकेशन को नजरअंदाज करने को कहा था। राज्यपाल ने राजभवन के कर्मचारियों से यह भी कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान राज्यपाल के खिलाफ कोई आपराधिक कार्यवाही शुरू नहीं की जा सकती। राज्यपाल ने आरोपों को ‘बेतुका नाटक’ बताया और कहा कि कोई भी उन्हें ‘भ्रष्टाचार को उजागर करने और हिंसा पर अंकुश लगाने के उनके दृढ़ प्रयासों’ से नहीं रोक पाएगा।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो