scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

यूपी पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में STF को मिली बड़ी सफलता, मास्टरमाइंड राजीव नयन मिश्रा गिरफ्तार

यूपी एसटीएफ ने अब पेपर लीक के मास्टरमाइंड को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी राजीव नयन मिश्रा को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: April 03, 2024 11:48 IST
यूपी पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में stf को मिली बड़ी सफलता  मास्टरमाइंड राजीव नयन मिश्रा गिरफ्तार
यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा। (इमेज-एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

UP Constable Exam Paper Leak: पेपर लीक मामले की रिपोर्ट सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने पहले यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा 2023 रद्द कर दी थी। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने अब पेपर लीक के मास्टरमाइंड को गिरफ्तार कर लिया है। यूपी एसटीएफ की नोएडा यूनिट ने पेपर लीक के मास्टरमाइंड आरोपी राजीव नयन मिश्रा को गिरफ्तार किया है। वह मूल रूप से यूपी के प्रयागराज का रहने वाला है।

बताया जा रहा है कि वह पहले भी कई भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक करवा चुका है। पुलिस ने उसे जेल भी भेजा है। यूपी पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स उसकी तलाश में कई दिनों से छापेमारी कर रही थी। बता दें की यूपी पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा में करीब 48 लाख नौजवानों ने किस्मत आजमाई थी। लेकिन पेपर के लीक हो जाने के बाद पेपर को रद्द करना पड़ा था। पेपर के कैंसिल होने के बाद से ही पुलिस और एसटीएफ आरोपियों की धरपकड़ में जुटी हुई है।

Advertisement

पुलिस ने कई आरोपियों को पकड़ा

पुलिस ने साजिश रचने के आरोप में राज्य भर से 244 लोगों को गिरफ्तार या हिरासत में लिया था। बाद में मार्च के महीने में यूपी एसटीएफ ने पेपर लीक मामले में संलिप्त पाए जाने के बाद मेरठ और दिल्ली के सात और लोगों को गिरफ्तार किया था। अधिकारियों के मुताबिक, आरोपी कथित तौर पर पेपर लीक मामले में शामिल एक गिरोह के सदस्य थे। मेरठ के रहने वाले दीपक, बिट्टू, प्रवीण, रोहित, नवीन और साहिल को कांकेर खेड़ा थाना क्षेत्र के एक घर से गिरफ्तार किया गया। गौतमबुद्धनगर के रहने वाले प्रमोद पाठक को भी गिरफ्तार किया गया।

बता दें कि बीते 17 और 18 फरवरी के दिन यूपी में सिपाही भर्ती परीक्षा आयोजित की गई थी। 60 हजार से ज्यादा पदों के लिए ये भर्तियां निकाली गई थीं। बोर्ड ने परीक्षा करवाने के लिए अलग-अलग जिले चुने थे। इनकों देने के लिए केवल यूपी ही नहीं, बल्कि एमपी, राजस्थान और बिहार के नौजवान युवा भी आए थे। मगर सिपाही भर्ती परीक्षा का पेपर पहले ही लीक हो गया।

Advertisement

सोशल मीडिया पर इसके कई वीडयो और फोटो वायरल हुए थे। इस पेपर को रद्द करवाने के लिए अभ्यर्थियों ने धरना-प्रदर्शन दिया था। इसके बाद बोर्ड ने सिपाही भर्ती परीक्षा के मामले की पूरी तरह से जांच की। मामले सही पाए जाने पर पेपर को योगी सरकार ने रद्द कर दिया और मामले की जांच एसटीएफ को दे दी। पेपर लीक होने के बाद डीजी रेणुका मिश्रा को भी पद से हटाया गया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो