scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कॉलेज में बिना साड़ी की मां सरस्वती की मूर्ति को लेकर हंगामा, अश्लीलता फैलाने का आरोप

कॉलेज में मां सरस्वती की मूर्ति को साड़ी नहीं पहनाए जाने को लेकर एबीवीपी के सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। हंगामे को देखते हुए पुलिस की टीम मौके पर पहुंची।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
अगरतला | February 15, 2024 11:59 IST
कॉलेज में बिना साड़ी की मां सरस्वती की मूर्ति को लेकर हंगामा  अश्लीलता फैलाने का आरोप
मां सरस्वती की मूर्ति को लेकर बवाल।
Advertisement

त्रिपुरा के अगरतला से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां बसंत पंचमी के दिन एक सरकारी कॉलेज में मां सरस्वती की मूर्ति लगाई गई। इस मूर्ति को कॉलेज के छात्रों ने तैयार किया था। मूर्ति दिखाने जाने के बाद वहां मौजूद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) सदस्यों ने हंगामा कर दिया। सदस्यों के विरोध प्रदर्शन के कारण पूजा भी बाधित हो गई। प्रदर्शनकारियों में बजरंग दल के सदस्य भी शामिल हो गए।

विरोध करने वाले सदस्यों का कहना था कि मूर्ति को पारंपरिक परिधान साड़ी नहीं पहनाई गई। उन्होंने इसे अश्लीलता करार दिया और विरोध प्रदर्शन करने लगे। इसके बाद इस प्रदर्शन में बजरंग दल के सदस्य भी शामिल हो गए। देखते ही देखते कॉलेज में हंगामा मच गया। इस कारण पूजा बाधित हो गई।

Advertisement

एबीवीपी ने किया प्रदर्शन

मामले को लेकर एबीवीपी इकाई के महासचिव दिबाकर आचार्य ने देवी सरस्वती के गलत चित्रण पर कड़ी आपत्ति जताई और विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया। आचार्य ने कहा, "जैसा हम सभी जानते हैं कि आज बसंत पंचमी है और पूरे देश में देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। सुबह-सुबह हम सभी को खबर मिली कि गवर्नमेंट आर्ट एंड क्राफ्ट कॉलेज में देवी सरस्वती की मूर्ति को बहुत गलत अश्लील तरीके से बनाया गया है।

इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने कॉलेज में देवी सरस्वती की मूर्ति को साड़ी पहनाने के लिए मजबूर किया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध छात्र संगठन एबीवीपी ने कॉलेज प्राधिकरण के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की और त्रिपुरा के सीएम माणिक साहा से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया।

कॉलेज के अधिकारियों ने बताया कि मूर्ति हिंदू मंदिरों में देखी जाने वाली पारंपरिक मूर्तिकला रूपों का पालन करती है और इसका धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का कोई इरादा नहीं था। मूर्ति को कॉलेज के अधिकारियों द्वारा बदल दिया गया और पूजा पंडाल के पीछे प्लास्टिक से ढक दिया गया।

Advertisement

हंगामे की खरब होने पर पुलिस ने घटनास्थल का दौरा किया, लेकिन कॉलेज या एबीवीपी और बजरंग दल ने मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो