scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Samajwadi Party: अब मुलायम के पुराने साथी करेंगे बगावत! अखिलेश पर लगाया सीनियर नेताओं को तवज्जो न देने का आरोप

Samajwadi Party: राज्यसभा चुनाव के चलते समाजवादी पार्टी की मुसीबत बगावती विधायकों ने बढ़ा दी है। दूसरी ओर अब सपा के एक दिग्गज नेता ने अखिलेश यादव पर ही हमला बोल दिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: February 27, 2024 23:42 IST
samajwadi party  अब मुलायम के पुराने साथी करेंगे बगावत  अखिलेश पर लगाया सीनियर नेताओं को तवज्जो न देने का आरोप
वरिष्ठ नेता ने दावा किया है कि अखिलेश की बेरुखी के चलते ही सपा के विधायक छिटक रहे हैं। (सोर्स - PTI)
Advertisement

समाजवादी पार्टी के लिए आज का दिन सियासी लिहाज से झटके वाला रहा है। राज्यसभा चुनाव में 3 प्रत्याशियों की जीत निश्चित होने के बावजूद सपा विधायकों की क्रॉस वोटिंग के चलते सपा के एक प्रत्याशी नहीं जीत सके, तो दूसरी ओर उनके खिलाफ अपनी ही पार्टी के एक दिग्गज नेता ने हमला बोल दिया है। ये नेता कोई और नहीं बल्कि पूर्व सांसद और विधायक रेवती रमण सिंह हैं। उन्होंने सपा मुखिया अखिलेश यादव पर विधायकों की अनदेखी करने का आरोप लगाया और कहा कि इसी के चलते सपा विधायक अखिलेश से दूर जा रहे हैं।

दरअसल, समाजवादी पार्टी में चल रही उथल-पुथल और विधायकों की नाराजगी को लेकर रेवती रमण सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव सपा के वरिष्ठ नेताओं को तवज्जो नहीं देते हैं। यही वजह है कि सपा के वरिष्ठ नेता किनारा कर रहे हैं। इलाहाबाद संसदीय सीट को कांग्रेस पार्टी को दिए जाने पर भी रेवती रमण सिंह ने नाराजगी जताई और इसके चलते ही उन्होंने कांग्रेस सपा गठबंधन पर भी आपत्ति जताई।

Advertisement

दिग्गज सपा नेता रेवती रमण सिंह ने कहा कि 1984 के बाद कांग्रेस यहां (इलाहाबाद) से नहीं जीती है फिर भी अखिलेश यादव ने इस सीट को कांग्रेस को दे दिया है। उनसे बातचीत के बगैर अखिलेश यादव ने इलाहाबाद सीट कांग्रेस को दे दिया। उन्होंने कहा कि इस कदम का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ेगा।

जल्द छोड़ सकते हैं सपा का साथ

दिग्गज सपा नेता के इस रुख से स्पष्ट होता दिख रहा है कि वे कभी भी सपा से अपनी रुखसती का ऐलान कर सकते हैं। अपने फ्यूचर पॉलिटिकल प्लान को लेकर रेवती रमण सिंह ने कहा कि राजनैतिक भविष्य को लेकर भी वह जल्द ही फैसला लेंगे। बता दें कि राज्यसभा चुनाव में सपा विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है, जिसके चलते बीजेपी प्रत्याशी संजय सेठ आसानी से जीत गए हैं। इसको लेकर रेवती रमण सिंहं ने कहा कि अखिलेश यादव अपने विधायकों को विश्वाश में नहीं ले पा रहे हैं जो कि सपा के लिए सबसे बड़ी समस्या है।

Advertisement

मुलायम सिंह यादव के करीबी हैं रेवती रमण सिंह

बता दें कि रेवती रमण सिंह अखिलेश यादव के पिता और यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबी नेताओं में से एक माने जाते हैं। मुलायम सिहं यादव ने जब समाजवादी पार्टी का गठन किया था तो उस संस्थापक सदस्यों की लिस्ट में एक नाम रेवती रमण सिंह का भी था। रेवती रमण सिंह सपा के संस्थापक सदस्य होने के साथ ही, पूर्व में 3 बार के सांसद, 7 बार के विधायक भी रहे हैं।

सपा से नाराज चल रहे रेवती रमण सिंह को लेकर सूत्रों का कहना है कि वे दो अहम राष्ट्रीय दलों के संपर्क में हैं और कभी भी सपा छोड़ किसी और राजनीतिक दल का रुख कर सकते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो