scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Rajasthan Politics: राजस्थान बीजेपी में मची हुई खटपट, वसुंधरा राजे के ताजा बयानों में कौन है निशाने पर?

Rajasthan Politics: वसुंधरा राजे के बयान के बाद यह अटकलें लगाई जा रही हैं कि उनका निशाना पार्टी आलाकमान भी था। कुछ का मानना है कि राजे की आलोचना राज्य सरकार के भीतर के लोगों पर थी, जिसमें डिप्टी सीएम  दीया कुमारी और मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर शामिल उनके निशाने पर थे।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: June 25, 2024 14:24 IST
rajasthan politics  राजस्थान बीजेपी में मची हुई खटपट  वसुंधरा राजे के ताजा बयानों में कौन है निशाने पर
वसुंधरा राजे के ताजा बयान चर्चा में हैं (Photo : PTI)
Advertisement

लोकसभा चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद बीजेपी की राजस्थान इकाई में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अंदरूनी कलह का  ताजा उदाहरण पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया का एक बयान है।

Advertisement

रविवार को पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी करते हुए कहा था कि 'वफादारी का वह दौर अलग था जब राजनीति में आगे बढ़ाने वाले का सम्मान किया जाता था और हमेशा उसका साथ दिया जाता था। लेकिन आज ऐसा नहीं होता। आज लोग उसी की उंगली काटने की कोशिश करते हैं जिसे पकड़कर वे चलना सीखते हैं।' उनकी इस टिप्पणी पर अब काफी चर्चा शुरू हो चुकी है और अलग-अलग तरह के मायने निकाले जा रहे हैं।

Advertisement

वसुंधरा राजे के इस बयान का क्या है मतलब? 

राजनीतिक जानकार वसुंधरा राजे के बयान को भाजपा आलाकमान और राज्य के पार्टी नेताओं की आलोचना के तौर पर देख रहे हैं। वसुंधरा राजे लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी का एक बड़ा चेहरा होने के बावजूद प्रचार के लिए मैदान में नहीं दिखाई दी थीं। इससे पहले प्रदेश में पार्टी की सरकार बनने के बाद उनका नाम मुख्यमंत्री के तौर पर सबसे आगे था लेकिन उनकी जगह भजनलाल शर्मा को मुख्यमंत्री बना दिया गया था। यह भी उनकी नाराजगी का कारण हो सकता है।

पार्टी आलाकमान पर निशाना या प्रदेश नेताओं पर गुस्सा?

वसुंधरा राजे के बयान के बाद यह अटकलें लगाई जा रही हैं कि उनका निशाना पार्टी आलाकमान भी था। कुछ का मानना है कि राजे की आलोचना राज्य सरकार के भीतर के लोगों पर थी, जिसमें डिप्टी सीएम  दीया कुमारी और मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर शामिल उनके निशाने पर थे।

गौरतलब है कि जयपुर के पूर्व राजघराने से ताल्लुक रखने वाली दीया कुमारी को कभी राजे का करीबी माना जाता था। हालांकि, राजे के पिछले कार्यकाल के दौरान उनके बीच दरार तब उभरी, जब राजे के राजघराने की संपत्तियों पर बुलडोजर चलाए गए।

Advertisement

सूत्रों से पता चलता है कि अटकलें लगाई जा रही थीं कि भाजपा आलाकमान दीया कुमारी को वसुंधरा राजे के विकल्प के तौर पर तैयार कर रहा है, जिसकी जानकारी राजे को भी थी।

Advertisement

दीया कुमारी के डिप्टी सीएम बनने से अटकलों को बल मिला है। कुछ लोगों का तो यहां तक ​​कहना है कि अगर पूर्व मुख्यमंत्री भैरों सिंह शेखावत के राजनीतिक उत्तराधिकारी और वरिष्ठ भाजपा नेता नरपत सिंह राजवी ने विधानसभा चुनाव से पहले जयपुर राजघराने के बारे में विवादित टिप्पणी नहीं की होती, तो दीया कुमारी को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता था। खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के बारे में भी ऐसी ही अफवाहें हैं। हालांकि, विधानसभा चुनाव के बाद राजे कमजोर दिखाई थी लेकिन लोकसभा चुनाव में भाजपा के खराब प्रदर्शन ने उनके गुट को और मजबूत कर दिया है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो