scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'उनकी जगह भरना मुश्किल...', पंजाब में वोटिंग से पहले जानिए क्या है बादल गांव की तस्वीर, प्रकाश सिंह बादल का गढ़ रहा है ये क्षेत्र

बता दें कि बादल गांव बठिंडा लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा है। यह श्री मुक्तसर साहिब जिले में पड़ता है। इस गांव में करीब 3 हजार मतदाता है।
Written by: राखी जग्गा | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: April 27, 2024 07:24 IST
 उनकी जगह भरना मुश्किल      पंजाब में वोटिंग से पहले जानिए क्या है बादल गांव की तस्वीर  प्रकाश सिंह बादल का गढ़ रहा है ये क्षेत्र
प्रकाश सिंह बादल का गढ़ रहा है बादल गांव
Advertisement

लोकसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण की वोटिंग हो चुकी है। एक जून को आखिरी चरण की वोटिंग होगी और इसी दौरान पंजाब में भी वोटिंग होगी। इस दौरान प्रकाश सिंह बादल की विरासत को लेकर उनके पैतृक गांव बादल में ग्रामीणों के बीच हलचल मची है। शिरोमणि अकाली दल (SAD) के संरक्षक के निधन के बाद यह पहला चुनाव होगा और ग्रामीण स्वीकार करते हैं कि सबको पूरा यकीन नहीं है कि जिस गांव ने हमेशा अकाली दल को अधिक वोट दिया है, वह इस बार कैसे वोट करेगा?

बादल गांव के रहने वाले एक ग्रामीण राजिंदर सिंह लाली ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "बादल साहब का एक अलग औरा था। वह लोगों को उनके चेहरे से पहचानते थे और यहां तक ​​कि उनके परिवारों को भी याद करते थे। पांच बार पंजाब के मुख्यमंत्री रहने के बावजूद वह हमेशा एक अच्छे संपर्क वाले नेता थे। इस बार वह हमारे साथ नहीं हैं, लेकिन हम ग्रामीणों के साथ-साथ राज्य के लोग उनके द्वारा किए गए कार्यों को याद करते हैं।"

Advertisement

बादल गांव बठिंडा लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा है। यह श्री मुक्तसर साहिब जिले में पड़ता है। इस गांव में करीब 3 हजार मतदाता है। यहां से शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल मौजूदा सांसद हैं। इस बार उनका मुकाबला कांग्रेस के जीत मोहिंदर सिंह सिद्धू, आम आदमी पार्टी के गुरमीत सिंह खुदियां और भाजपा की परमपाल कौर सिद्धू से होगा। बादल परिवार के पास अभी भी गांव में एक घर है और जब वे राज्य में होते हैं तो वे वहीं रहते हैं।

'प्रकाश सिंह बादल की जगह भरना मुश्किल'

राजिंदर सिंह लाली ने आगे कहा, "बादल मुख्यमंत्री रहते हुए भी लोगों से व्यक्तिगत रूप से मिलते थे। लोग उनके बेटे और अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल से भी यही उम्मीद करते हैं। वह अधिक धैर्यवान हैं, अधिक उपलब्ध हैं लेकिन सीनियर बादल (प्रकाश सिंह बादल) की जगह भरना मुश्किल है।" बादल गांव लांबी विधानसभा क्षेत्र में पड़ता है, जहां से प्रकाश सिंह बादल ने 1997 से 2017 तक लगातार जीत हासिल की थी। 2022 में प्रकाश सिंह बादल लांबी से पहली बार आप उम्मीदवार से चुनाव हार गए।

Advertisement

बादल गांव के कार्यवाहक सरपंच जबरजंग सिंह बादल ने कहा, "आम तौर पर ग्रामीण एक निश्चित तरीके से मतदान करते हैं, लेकिन 2022 में आप की लहर के कारण वे बदल गए। प्रकाश सिंह बादल भले ही हार गए हों लेकिन उनके पैतृक गांव से अकाली दल को सबसे ज्यादा वोट मिले। 2022 में AAP को लगभग 700 की तुलना में SAD को 1,100 से अधिक वोट मिले।"

Advertisement

कार्यवाहक सरपंच ने कहा कि बादल गांव काफी विकसित है, लेकिन पंचायत की आय कम है। उन्होंने कहा, "अन्य गांवों के विपरीत हमारे पास आय बनाने के लिए कृषि उद्देश्यों के लिए कोई सामान्य पंचायत भूमि नहीं है। हमें बस कुछ दुकानों से कुछ हज़ार रुपये किराया मिल जाता है। यह रोजमर्रा के पंचायत खर्चों के लिए पर्याप्त नहीं है। गांव में पंचायत भूमि पर स्कूल, कॉलेज आदि जैसी इमारतें हैं, इसलिए यह चिंता का कारण है।"

कांग्रेस की भी चल रही चर्चा

एक अलग सुर में बोलते हुए पंचायत सदस्य हीरा लाल बादल ने कांग्रेस के पक्ष में बात की। हीरा ने पार्टी नेता महेश इंदर बादल की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, "अब ग्रामीण सुखबीर सिंह बादल की तुलना में महेश इंदर बादल से अधिक मिलते हैं क्योंकि महेश इंदर अधिक सुलभ हैं।" इस बीच ग्रामीण जसविंदर सिंह ने किसी भी राजनेता से कोई मदद नहीं मिलने की शिकायत की। उन्होंने कहा, "पिछले साल अत्यधिक बारिश के कारण मेरा घर क्षतिग्रस्त हो गया और मेरा मामला मुआवजे का पात्र था। मैं अब भी इंतजार कर रहा हूं। न तो बादलों और न ही कृषि मंत्री खुदियां ने मदद की।

हालांकि मोटर मैकेनिक गुरदास सिंह ने कहा कि अभी यह अनुमान लगाना जल्दबाजी होगी कि गांव में मतदान कैसे होगा। यह स्वीकार करते हुए कि बादल गांव ने हमेशा अकाली दल को वोट दिया है, उन्होंने कहा, "अभियान को तेज़ होने दीजिए।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो